नोएडा के मेट्रो मल्टी स्पेश्लिटी और हृदय रोग संस्थान के डॉ. पुरुषोत्तम लाल के खिलाफ कई तरह की अनियमितताओं के आरोप लगे हैं। 

डॉ. पुरुषोत्तम लाल मेट्रो अस्पताल के सीएमडी हैं। उनके खिलाफ मुख्य रुप से वित्तीय गड़बड़ी के आरोप लगे हैं। ऐसी खबर है, कि उन्होंने हरियाणा और उत्तर प्रदेश के सरकारी मरीजों के बिल में धांधली की। इसको लेकर मेट्रो अस्पताल के खिलाफ उत्तर प्रदेश में मामला भी दर्ज कराया गया है। 

डॉ. पुरुषोत्तम लाल के खिलाफ उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन और केंद्र सरकार की सेंट्रल गवर्नमेंट हेल्थ स्कीम के तहत हरियाणा के कर्मचारियों के इलाज का नकली बिल तैयार करके पैसा निकालने का आरोप है। 

 इस मामले में 2 महिना पहले ही नोएडा में मेट्रो अस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। एफआईआर में सीजीएचएस और यूपी पावर कारपोरेशन के बिलों में धांधली का जिक्र किया गया है। 

माय नेशन ने इस बारे जानकारी के लिए डॉ. पुरुषोत्तम लाल से फोन पर संपर्क करने की कोशिश की। लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। जबकि मेट्रो अस्पताल की जनसंपर्क अधिकारी(पीआरओ) को फोन करने पर उन्होंने इस मामले की जानकारी न होने की बात कहकर मामला टालने की कोशिश की। 

पीआरओ का कहना था, कि डॉ. पुरुषोत्तम लाल उनका भी फोन नहीं उठा रहे हैं। इस बारे में ज्यादा जानकारी हासिल करके वह माय नेशन को बताएंगी। 

नोएडा में मेट्रो के दो अस्पताल हैं। एक अस्पताल सेक्टर 12 में है, जो कि हृदय रोग संस्थान है। जबकि दूसरा अस्पताल सेक्टर 11 में है, जो कि मल्टी स्पेश्लिटी अस्पताल है। यह दोनो अस्पताल अति आधुनिक सुविधाओं से युक्त हैं। 

लेकिन सेक्टर-11 का अस्पताल आवासीय कॉलोनी में स्थित है, जहां के निवासियों को अस्पताल की ओर से किए जा रहे प्रदूषण की वजह से मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। 

मेट्रो अस्पताल प्रबंधन सेक्टर-11 में आस पास के आवासीय घरों को खरीदकर लगातार अपना विस्तार करता जा रहा है।