Search results - 6 Results
  • Modi ganga aarti

    Views14, May 2019, 4:00 PM IST

    जानिए वाराणसी से ही क्यों चुनाव लड़ रहे हैं पीएम मोदी? मां गंगा हैं प्रमुख कारण

    गुजरात के रहने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश की वाराणसी संसदीय सीट पर चुनाव लड़ने का फैसला यूं ही नहीं कर लिया। दरअसल वाराणसी और मोदी के बीच एक नहीं पांच कनेक्शन हैं। हम आपको पीएम और काशी के सभी संबंधों के बारे में विस्तार से जानकारी दे रहे हैं। इस बार आपको बताते हैं पीएम मोदी का वाराणसी से दूसरा बड़ा कनेक्शन, जो हैं मां गंगा :-

  • Under modi government surged growth water transportation sector, world praised efforts

    News27, Apr 2019, 2:07 PM IST

    मोदी सरकार में जल मार्गों के विकास में आयी तेजी, विश्व स्तर पर मिल रही है प्रशंसा

     स्वच्छ भारत हो या स्वच्छ गंगा मिशन। फिलहाल वाराणसी और कोलकाता के बीच गंगा नदी पर जहाजों के ठहराव की शुरुआत के साथ भारत के अंतर्देशीय जल परिवहन क्षेत्र में आए बदलाव ने इसको लेकर वैश्विक रुचि जगी है और इसको अब प्रशंसा मिल रही है।

  • News1, Dec 2018, 1:08 PM IST

    एनजीटी ने गंगा नदी की सफाई की निगरानी के लिए यूसी ध्यानी को नामित किया

     राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने उत्तराखंड उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति यू सी ध्यानी को गंगा नदी के साफ-सफाई की निगरानी के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का प्रमुख नियुक्त किया है।

  • GD Agarwal

    Views12, Oct 2018, 2:48 PM IST

    हम सब हैं 'गंगापुत्र' की मौत के जिम्मेदार

    गंगापुत्र के नाम से विख्यात 86 साल के ‘महायोद्धा’ जी.डी.अग्रवाल का निधन हो गया। वह पिछले 111 दिनों से स्वच्छ और अविरल गंगा के लिए अनशन कर रहे थे। मैं उनसे निजी तौर पर मिल चुका हूं। आपकी बातचीत में उन्होंने निराशा जताते हुए कहा था, कि सरकारें तो छोड़िए, रोजमर्रा की दिनचर्या में उलझे आम लोग भी स्वच्छ गंगा की अहमियत समझने के लिए तैयार नहीं है। जबकि स्वच्छ नदियों से उनका जीवन सीधे तौर पर जुड़ा हुआ है। 

  • agarwal

    News11, Oct 2018, 7:56 PM IST

    हम सब हैं ‘गंगापुत्र’ की मौत के जिम्मेदार

    ‘गंगापुत्र’ के नाम से विख्यात 86 साल के ‘महायोद्धा’ जी.डी.अग्रवाल का निधन हो गया। वह पिछले 112 दिनों से स्वच्छ और अविरल गंगा के लिए अनशन कर रहे थे। उनका संघर्ष निजी नहीं बल्कि सार्वजनिक हित के लिए था। मैं उनसे निजी तौर पर मिल चुका हूं। आपसी बातचीत में उन्होंने निराशा जताते हुए कहा था, कि सरकारें तो छोड़िए, रोजमर्रा की दिनचर्या में उलझे आम लोग भी स्वच्छ गंगा की अहमियत समझने के लिए तैयार नहीं हैं। जबकि स्वच्छ नदियों से उनका जीवन सीधे तौर पर जुड़ा हुआ है। 

  • गंगा के बढ़ते जल स्तर के कारण बनारस के घाटों का संपर्क टूटा

    Nation1, Aug 2018, 1:13 PM IST

    गंगा के बढ़ते जल स्तर के कारण बनारस के घाटों का संपर्क टूटा

    धर्म की नगरी काशी में कोई आता है तो वह यहां के घाटों की सुन्दरता का अवलोकन ज़रूर करता है। लेकिन गंगा नदी के बढ़ते जलस्तर के कारण वाराणसी के सभी घाट पानी में डुब गए हैं।