India Bangladesh  

(Search results - 5)
  • undefined

    Nation10, Feb 2020, 6:52 PM IST

    अंडर-19 विश्व कप फाइनल में बांग्लादेशी खिलाड़ी भिड़े भारतीय खिलाड़ियों से

    नमस्कार स्वागत है आपका माय नेशन में, मेरा नाम है अमल चौधरी और आज हम बात करेंगे भारत और बांग्लादेश के बीच खेले गए अंडर 19 विश्व कप फाइनल की जिसमें भारत को हराने के बाद बांग्लादेश के खिलाड़ियों ने किस तरह से अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप में बांग्लादेश की टीम ने भारत को हराकर ट्रॉफी जीत ली। हालांकि जीत के जोश में बांग्लादेशी खिलाड़ी अपना आपा खो बैठे और भारतीय टीम से भिड़ गए। फील्डिंग के दौरान कई बार आक्रामकता दिखा चुके बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने मैच जीतने के बाद और ज्यादा आक्रामकता का प्रदर्शन किया। उन्होंने भारतीय खिलाड़ियों के सामने जाकर उनसे अपशब्द कहे, जिससे दोनों टीम के खिलाड़ियों में धक्का-मुक्की तक की नौबत आ गई। हालांकि, बांग्लादेशी टीम के कप्तान ने इसके लिए माफी मांगी है।

  • MN 100 secs - HINDI

    News22, Nov 2019, 7:34 PM IST

    महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर चल रही उठा-पटक से भारत-बांग्लादेश के बीच पहले टेस्ट मैच तक, देखिए माय नेशन के 100 सेकेंड्स में

    महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन का ऐलान जल्द हो सकता है शुक्रवार को राकांपा-कांग्रेस और घटक दलों की बैठक हुई

  • undefined

    News4, Mar 2019, 3:38 PM IST

    भारत-पाकिस्तान गतिरोधः सीमा पर इलेक्ट्रॉनिक बाड़ लगाने का काम होगा तेज

    पुलवामा आतंकी हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के संबंधों में आए गतिरोध को देखते हुए केंद्रीय गृहमंत्रालय ने बीएसएफ से सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था और चौकस करने को कहा है। भारत-पाकिस्तान सीमा के साथ-साथ बांग्लादेश सीमा पर भी तकनीक से लैस बाड़ लगाने की तैयारी है। 

  • undefined

    News19, Jan 2019, 6:33 PM IST

    देश से बाहर किए गए 21 अवैध बांग्लादेशी

    भारत ने असम में अवैध तरीके से रह रहे 21 बांग्लादेशियों को शनिवार को उनके देश लौटा दिया। असम के करीमगंज जिले के सुतारकंडी में बांग्लादेश से सटी सीमा पर इन बांग्लादेशियों को पूरी कानूनी प्रक्रिया के अनुसार वापस भेजा गया। इनमें 19 पुरुष एवं दो महिलाएं हैं। बांग्लादेश से अवैध तरीके से घुसपैठ करने वाले ये बांग्लादेशी नागरिक समय-समय पर असम और मेघालय के अलग-अलग हिस्सों में रहे।  इन सभी को पूर्व में गिरफ्तार करने के बाद सिल्चर स्थित शिविर में रखा गया था। ये लोग वहां पिछले 2-4 साल से थे। इन लोगों को देश से वापस भेजे की प्रक्रिया के दौरान केंद्रीय गृहमंत्रालय, असम  सरकार, असम पुलिस और बांग्लादेश बार्डर गार्ड के अधिकारी मौजूद थे। 

  • Quit India

    Views9, Aug 2018, 6:29 PM IST

    अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं को निकालना क्यों जरूरी, ये हैं छह कारण

    अप्रवासियों की बेरोकटोक आवाजाही और बांग्लादेश से सटी सीमा के खुले होने चलते राजनीतिक दलों की वोटबैंक की राजनीति परवान चढ़ती रही। इसे सेकुलरिज्म का लबादा ओढ़ाकर मान्यता भी दे दी गई। यही नहीं सेकुलरिज्म को एक बुरा शब्द बना दिया गया।