Satish Pednekar  

(Search results - 15)
  • sava

    Views28, May 2019, 7:56 PM IST

    वीर सावरकर के रास्ते पर चलते तो जातिमुक्त होता भारत

    महान स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर का आज जन्मदिन है। उनका जन्म 28 मई 1883 को हुआ था। वह जितने बड़े राष्ट्रवादी थे उतने ही महान समाज सुधारक भी। उन्होंने हिंदू समाज के विघटन के कारण जाति व्यवस्था को बहुत पहले ही पहचान लिया था। यदि सावरकर की नीतियों पर देश चलता तो आज छूत-अछूत, जाति पांति की गुलामी से हिंदू समाज मुक्त रहता। 

  • gandhi and godse

    Views16, May 2019, 3:29 PM IST

    जानिए कब हुआ था आजाद भारत का पहला नरसंहार

    अभिनेता से राजनेता बने कमल हासन ने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे के बहाने पूरे हिंदू समुदाय पर निशाना साधा है। लेकिन हासन ने यह नहीं बताया कि गांधी जी की हत्या के बाद उनके तथाकथित अहिंसक अनुयायियों ने कितने क्रूर तरीके से हिंसा फैलाई थी। जिसमें हजारों बेकसूर लोगों की जान चली गई थी। यह आजाद भारत का पहला नरसंहार कहा जाता है। लेकिन इसे सरकारी हस्तक्षेप के कारण दबा दिया गया। 

  • upload photo bodu bala

    Views26, Apr 2019, 5:10 PM IST

    बौद्ध मुस्लिम तनाव से पूरे दक्षिण एशिया में अशांति का खतरा

    दुनिया के तीन बड़ी बौद्ध आबादी वाले देशों म्यांमार, थाईलैण्ड और श्रीलंका में बौद्ध और मुस्लिमों के बीच तनाव लगातार गहराता जा रहा है। कोलंबो में हाल ही में हुए धमाकों ने इस तनाव को और भड़काया है। अगर हालात ऐसे ही बने रहे तो निकट भविष्य में यह पूरे दक्षिण एशिया क्षेत्र में बड़ी तबाही का कारण बन सकता है। 

  • Views25, Apr 2019, 12:19 PM IST

    श्रीलंका से आतंकवाद के जहरीले छींटे दक्षिण भारत पर पड़ने की आशंका

    भारत के बिल्कुल पास के सिंहल द्वीप यानी श्रीलंका में लगभग चार सौ जानें लेने वाली तौहीद जमात का एक धड़ा तमिलनाडु में भी सक्रिय है। यहां इसे तमिलनाडु तौहीद जमात (टीएनटीजे) के नाम से जाना जाता है। यहां इसकी स्थापना एक तमिल मुस्लिम अरिंगर कुझु ने की थी । जिसका मकसद है पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में सच्चे इस्लाम को फैलाया जाए। यही आईएस की भी विचारधारा है, जो सच्चे इस्लाम के नाम पर इस्लाम के कट्टरतावादी रुख का प्रसार करने के लिए हर हिंसक तरीका अपनाता है। 

  • Ambedkar

    Views14, Apr 2019, 11:27 AM IST

    जानिए कैसे उपनिषदों से प्रभावित थे बाबा साहब अंबेडकर के विचार

    जात-पात तोड़क मण्डल में दिये गये अपने प्रसिद्ध भाषण में डॉ.अम्बेडकर ने सुझाव दिया था कि हिंदुओं को स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के आदर्शों पर आधारित समाज के निर्माण के लिए अपने शास्त्रों से बाहर कहीं से प्रेरणा लेने की कोई आवश्यकता नहीं है। उन्हें इन मूल्यों के लिए उपनिषदों का अध्ययन करना चाहिए। जिसके बाद मैंने बाद में यह कोशिश की कि पता करूं कि क्या उन्होंने बाद में इस विषय पर कहीं लिखा है। लेकिन उनके कुछ भाषणों को छोड़कर इसका जिक्र कहीं नहीं मिला ।

  • Rahul Gandhi in Wayanad

    Views13, Apr 2019, 7:21 AM IST

    वायनाड में मजहबी कट्टपंथियों के भरोसे हैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

    वायनाड केरल एक ऐसा जिला है, जहां हिंदुओं की आबादी 50 फीसदी से कम है। ये मुस्लिम लीग का एक बड़ा गढ़ माना जाता है। मुस्लिम लीग कांग्रेस की सहयोगी पार्टी है। वायनाड जिले में कांग्रेस को कट्टरपंथी इस्लामी संगठन जैसे पीएफआई, जमात-ए-इस्लामी से खुलकर मदद मिलने की उम्मीद है। यहां पर ये जिहादी संगठन हिंदू संस्थाओं के खिलाफ एक तरह की लड़ाई लड़ रहे हैं। वायनाड में नक्सलियों का भी काफी दबदबा है। 
    राहुल गांधी को उम्मीद है कि वायनाड के मुसलमान, ईसाई और नक्सली मिलकर उन्हें वोट देंगे। जिससे वो यहां पर बहुत बड़ी जीत हासिल कर सकते हैं। 

  • Omer and Mehbooba mufti

    Views4, Apr 2019, 5:55 PM IST

    असंवैधानिक प्रावधानों के जरिए केन्द्र को धमकाने की कोशिश में कश्मीरी नेता

    जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने आज फिर धमकी दी है कि अगर धारा 370 हटी तो कश्मीर में फिलीस्तीन इजरायल जैसे हालात पैदा हो जाएंगे। इससे पहले उमर अब्दुल्ला भी कश्मीर को अलग कराने संबंधी बयान दे चुके हैं। लेकिन इन कश्मीरी नेताओं की हिम्मत कैसे हो रही है इस तरह का देशविरोधी बयान देने की? दरअसल यह एक भ्रम के कारण के कारण हो रहा है कि धारा 370 या 35ए का कोई संवैधानिक अस्तित्व है। लेकिन ऐसा बिल्कुल ही नहीं है।  

  • samjhauta express blast

    Views2, Apr 2019, 5:54 PM IST

    हिंदू आतंकवाद का झूठ गढ़ने के लिए कांग्रेस सरकार ने समझौता ब्लास्ट के असली आरोपियों को कराया फरार

    हिंदू आतंकवाद के नाम पर सरकारी संसाधनों का दुरुपयोग करते हुए असली आतंकियों को बचाया गया। जिसके बाद समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट के असली आरोपी आरिफ कासमानी, मक्का मस्जिद ब्लास्ट के आरोपी बिलाल भागने में सफल रहे थे। हिंदू आतंकवाद जैसी कोई बात कभी थी ही नहीं। भगवा आतंकवाद शब्द गढ़ने के लिए यूपीए सरकार ने तथ्यों को नजरंदाज कर कुछ मामलों में निर्दोष हिन्दुओं को फंसाने की कोशिश की, जिससे आतंकवाद के खिलाफ अभियान कमजोर पड़ा।

  • Prakash ambedkar and Owaisi

    Views28, Mar 2019, 6:47 PM IST

    महाराष्ट्र में भगवा खेमे की मदद ही करेगा दलित मुस्लिम गठजोड़

    महाराष्ट्र में इस बार तिकोना मुकाबला हो रहा है। हमेशा की तरह भाजपा और शिवसेना का केसरिया गठबंधन है और उसके मुकाबले में कांग्रेस–राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी का सेकुलर गठबंधन मैदान में हैं। मगर इस बार तीसरा मोर्चा भी मैदान में कूद पड़ा है। इसमें संविधान निर्माता बाबासाहब डॉ. भीमराव आंबेडकर के पोते प्रकाश आंबेडकर की वंचित बहुजन आघाडी ने ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम से गठबंधन किया है जिसकी छाया से भी राजनीतिक दल दूर रहते हैं। 

  • pakistan

    Views25, Mar 2019, 7:36 PM IST

    अल्पसंख्यकों, खास तौर पर हिंदुओं के लिए नर्क है पाकिस्तान

    होली की पूर्व संध्या पर दो नाबालिग हिंदू लड़कियों, 13 वर्षीय रवीना और 15 वर्षीय रीना का अपहरण करके उनका धर्मांतरण कर उनका पाकिस्तान के सिंध प्रांत में उनकी उम्र से बहुत बड़े मुस्लिम पुरुषों से जबरन निकाह करा दिया गया। इसी बीच, सिंध प्रांत के कई हिंदुओं ने अपहरणकर्ताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज करने से इनकार करने के बाद पुलिस अधिकारियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। 

  • News21, Mar 2019, 8:40 PM IST

    क्या पाकिस्तान से उसके परमाणु हथियार छीन लेने का वक्त आ गया है?

    जासूसी की दुनिया के इतिहासकार टी. रिचल्सन ने अपनी किताब ‘डिफ्यूजिंग आर्मागडन’ में जिक्र किया है कि अमेरिका के पास न्यूक्लियर इमरजेंसी सर्च टीम है, जो ज्वाइंट स्पेशल ऑपरेशन कमांड यानी साथ एटमी जखीरे पर कब्जे का साझा ऑपरेशन कर सकते हैं। ऐसे ऑपरेशन की दो तरह की रणनीति संभव है। एक  एटमी हथियारों को नष्ट करने की है। दूसरी, एटमी हथियारों  पर कब्जा करने की है। दरअसल, एटमी हथियारों को नाकाम करने के लिए जरूरी नहीं है कि भारी-भरकम हथियार को तबाह किया जाए, एटमी हथियार के ट्रिगर या उसकी चिप को नाकाम कर या उसे कब्जे में ले कर भी उसे बेकार किया जा सकता है। 

  • china will again interrupt in masood azhar issue

    Views16, Mar 2019, 6:00 PM IST

    जानिए आखिर क्यों आतंकी मसूद अजहर को बचा रहा है चीन?

    मसूद अजहर पुलवामा हमले का मास्टर माइंड है और फिलहाल पाकिस्तान में है। आखिर चीन को  कुख्यात आतंकी अजहर से इतना प्यार क्यों है कि वह दुनिया के कई बड़े देशों की नाराजगी मोल ले कर भी  अजहर का रक्षाकवच बना हुआ है। वह दुनिया की नई महाशक्ति होने का दंभ करता है मगर आतंकवादियों  को बचाने के लिए अपनी प्रतिष्ठा दांव पर लगा देता है ।

  • Imran Khan in Fear

    News13, Mar 2019, 7:42 PM IST

    पाकिस्तान की आस्तीन में पलते हैं यह 7 सांप, जो बाकी दुनिया के साथ खुद उसे भी डंसते हैं

    पाकिस्तान को लोग आतंकिस्तान कहते हैं। वह दुनिया के कई देशों में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देता है। मगर उसकी विडंबना यह है कि वह एक ऐसा  शातिर शिकारी है जो आतंक का  जाल बुनते बुनते अपने ही जाल में फंस गया है। एक तरफ पाकिस्तान राज्य प्रायोजित आतंकवाद को लेकर सारी दुनिया में बदनाम है, मगर हकीकत यह है कि पाकिस्तान आतंकवाद का सबसे बड़ा शिकार भी है। पाकिस्तान ने जो आतंकवाद का भस्मासुर पैदा किया है वह उसी को भस्म कर रहा है। मगर आज आतंकी संगठन इतने ताकतवर हो गए है कि उनके सफाये के सरकार के अभियान नाकाम साबित हो रहे हैं। कुछ साल पहले वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की ट्रेवल एंड टूरिज्म की रिपोर्ट में बताया गया था कि पाकिस्तान विश्व के असुरक्षित देशों में चौथे नंबर पर है। ऐसा होना स्वाभाविक था क्योंकि वह भले ही आतंकवादियों के लिए स्वर्ग बन चुका हो मगर वहां के नागरिकों की जिंदगी नर्क हो चुकी है। 

  • masood

    News11, Mar 2019, 7:52 PM IST

    अजहर,सईद और दाऊद के गिरेबां तक कब पहुचेंगे हमारे हाथ?

    पाकिस्तान भारत विरोध पर ही जिंदा है। यही उसके अस्तित्व का आधार बन हुआ है। पाकिस्तान के जुल्फिकार अली भुट्टो ने धमकी दी थी कि हम भारत के साथ एक हजार साल तक युद्ध लड़ने को तैयार है। इसी चाह का नतीजा है कि भारत और पाकिस्तान के बीच चार युद्ध हो चुके है। यह बात अलग है कि हर बार पाकिस्तान बुरी तरह से हारा। बांग्लादेश के युद्ध में तो उसकी सेना को समर्पण भी करना पड़ा । चार युद्धों में हार से पाकिस्तान ने एक ही सबक सीखा है कि परंपरागत युद्ध में वह भारत से जीत नहीं सकता। 

  • जिन्ना और मौदूदी

    Views9, Mar 2019, 6:14 PM IST

    पाकिस्तान को आतंक की फैक्ट्री बनाने वाला वह शख्स, जिसने जिन्ना के हाथ से छीन लिया था यह देश

    मोहम्मद अली जिन्ना पाकिस्तान के पिता कहे जाते है क्योंकि  वे मुस्लिम बहुल पाकिस्तान बनाना चाहते थे। मगर जिन्ना ने सांप्रदायिकता का जो बीज बोया जब वह फला फूला तो वह इस्लामी कट्टरतावाद और जिहादी मानसिकता का वटवृक्ष बन गया। जिन्ना के जाते एक दशक भी नहीं गुजरा कि पाकिस्तान के धर्मपिता  मौलाना मौदूदी की सोच  ने पाकिस्तान का अपहरण कर लिया और वह संकीर्णता में ढल गया और बन गया एकरंगी,संकीर्ण और पिछड़ी सोचवाला पाकिस्तान।

    आज की स्थिति वाला वह पाकिस्तान, जो पूरी दुनिया के लिए खतरा बना हुआ है।