Yadav Family  

(Search results - 23)
  • <p>शिवपाल सिंह यादव समाजवादी पार्टी से इटावा के जसवंतनगर से विधायक हैं। जसवंतनगर से मुलायम सिंह यादव विधायक हुआ करते थे, उनके लोकसभा सदस्य बनने के बाद से शिवपाल सिंह यादव 1996 से वहां से लगातार विधानसभा सदस्य हैं।<br />
&nbsp;</p>

    NewsMay 29, 2020, 1:40 PM IST

    क्या अखिलेश ने लिख दी है शिवपाल की सपा में वापसी की स्क्रिप्ट!

    असल में सपा ने 4 सितंबर, 2019 को पार्टी विधायक शिवपाल सिंह यादव की सदस्यता की अयोग्यता के लिए उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखा था और इसके बाद 23 मार्च को सपा ने अध्यक्ष को एक और पत्र लिखकर अपने याचिका को वापस लेने  की बात कही थी। लिहाजा अब सपा के अनुरोध पर इसे वापस ले लिया गया है।

  • undefined

    NewsNov 21, 2019, 8:25 AM IST

    यादव परिवार में 22 नवंबर को हो सकता है बड़ा ऐलान

    हालांकि किसी ने इस मामले को लेकर औपचारिक बयान नहीं दिया है। लेकिन लग रहा है कि यादव परिवार में लोगों ने इस एकता के लए कोशिशें शुरू कर दी हैं। कुछ समय पहले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बड़ा देकर सबके चौंका दिया था कि अगर कोई पार्टी में आना चाहता है तो उसका स्वागत है। सपा प्रमुख का ये इशारा शिवपाल सिंह की तरफ थे। लेकिन अब मुलायम सिंह और सपा को लेकर नरम हो रहे हैं। शिवपाल ने दो दिन पहले इटावा में कहा कि वह भी चाहते हैं कि परिवार में एकता हो।

  • undefined

    NewsOct 1, 2019, 8:36 AM IST

    शिवपाल ने दिया अखिलेश को झटका, परिवार को लेकर हुए ‘मुलायम’

    प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने सपा और अखिलेश यादव के प्रति नरमी दिखाते हुए कहा कि सपा के लिए अभी भी समय है। उन्होंने कहा कि वह परिवार के लिए फैसला कर सकते हैं। लेकिन उनकी पार्टी का सपा में विलय नहीं बल्कि सपा के साथ चुनावी गठबंधन हो सकता है। शिवपाल ने कहा कि छह महीने पहले लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने इसके लिए कोशिश भी की थी। लेकिन घर के ही षड़यंत्रकारियों ने ऐसा नहीं होने दिया।

  • undefined

    NewsSep 30, 2019, 10:33 AM IST

    रामगोपाल और आजम की बली लेकर शिवपाल को ‘बाहुबली’ घोषित कर सकेंगे अखिलेश!

    रविवार को ही सपा के विधानसभा में नेता रामगोविद चौधरी ने बयान दिया है कि अगर शिवपाल अपनी पार्टी का सपा में विलय करा लें तो उनकी विधानसभा की सदस्यता बरकरार रह सकती है। वहीं कुछ दिन पहले अखिलेश ने खुलेतौर पर बयान दिया था कि अगर कई पार्टी में आना चाहता है तो उसका स्वागत है। जब उनसे पूछ गया कि शिवपाल को भी पार्टी में लिया जा सकता है तो उन्होंने कहा कि सपा में लोकतंत्र है। ये नियम सबके लिए लागू है।

  • बिहार: लालू के बेटे तेज प्रताप यादव जो कभी बिहार सरकार में स्वास्थ्य महकमा संभाला करते थे, आज वे हमेशा नशे में चूर रहते हैं। यह दावा किया है उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय ने फैमिली कोर्ट में। वे तेज प्रताप द्वारा तलाक के मुकदमे में उन पर लगाए गए आरोपों का जवाब दे रही थीं। 17 पन्नों के अपने दाखिल जवाब में ऐश्वर्या ने बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और उनकी मां राबड़ी देवी पर भी चुप रहने का दबाव डालने के आरोप लगाए हैं।

    NewsSep 30, 2019, 8:43 AM IST

    शुरू हुई लालू के घर में ‘महाभारत’, कुरूक्षेत्र बना राबड़ी का घर

    माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में ये मामला राजनैतिक मामला बन सकता है। फिलहाल लालू की बहू ऐश्वर्या के पिता और लालू के समधी बेटी को न्याय दिलाने के लिए राबड़ी देवी के आवास पर धरने पर बैठे हैं। लालू को सजा हो चुकी है और वह रांची के रिम्स में इलाज करा रहे हैं। हालांकि का स्वास्थ्य भी खराब है और ऐसे में लालू के परिवार में चला विवाद अब पुलिस थाने तक पहुंच गया है।

  • undefined

    NewsSep 29, 2019, 7:20 PM IST

    राबड़ी के घर धरने पर बैठी बहू ऐश्वर्या, लालू के घर पहुंची पुलिस

    इस मामले में आज नया मोड़ आया है। जब कई महीनों से खामोश ऐश्वर्या ने पटना में महिला हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद लालू यादव परिवार में चला आ रहा विवाद पुलिस तक पहुंचा। लिहाजा अब इस मामले में सुलह की गुंजाइश खत्म हो गई हैं। रांची के रिम्स में इलाज करा रहे लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप की पत्नी ने लगाया उसकी सास राबड़ी देवी उसे प्रताड़ित करती है और उनकी ननद मीसा भारती भी उसे प्रताड़ित करती है। 

  • shivpal yadav

    NewsSep 19, 2019, 6:13 AM IST

    शिवपाल ने दी अखिलेश को चुनौती, जानें क्या कहा चाचा ने भतीजे टीपू से

    पिछले हफ्ते ही समाजवादी पार्टी ने विधानसभा अध्यक्ष को पत्र  लिखकर शिवपाल की सदस्यता रद्द करने की मांग की है। असल में अभी तक शिवपाल विधानसभा में सपा के विधायक हैं। लेकिन पार्टी छोड़ने के बाद उन्होंने अपनी नई पार्टी का गठन किया। हालांकि अभी  तक सपा ने उन्हें पार्टी से निकाला नहीं है। ऐसे में शिवपाल चाहते हैं कि सपा उन्हें पार्टी से निकाल दे। ताकि वह शहीद का दर्जा प्राप्त कर फिर मैदान में जा सकें। 

  • sp will first decide Yadav family seats while other candidate will get next

    NewsSep 7, 2019, 1:19 PM IST

    मुलायम परिवार में फिर होने वाली है बगावत!

    अखिलेश की अपर्णा से नाराजगी को इसी बात से समझा जा सकता है कि जब अपर्णा ने संभल सीट से लोकसभा का टिकट मांगा तो अखिलेश ने शफीकुर रहमान बर्क को पार्टी का टिकट दिया। गौरतलब है कि 2016 में यादव परिवार में विवाद हुआ था और मुलायम से छोटे भाई शिवपाल सिंह ने अपने अलग पार्टी बनाई थी तो पार्टी की लांचिंग पर अपर्णा मुलायम सिंह के साथ शिवपाल के मंच पर दिखी थी। जिसके बाद अखिलेश उनसे नाराज चल रहे हैं।

  • Senior RJD leader quit party after tejaswi yadav announced CM candidate for election in Bihar

    NewsAug 11, 2019, 10:38 AM IST

    तेजस्वी यादव ने बनाई पार्टी कार्यक्रमों से दूरी, जानें क्या चल रहा लालू यादव परिवार में

    पार्टी के नेताओं का मानना है कि राज्य में अगले पन्द्रह महीनों के दौरान विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और राज्य में उनके सामने अभी जदयू और भाजपा का गठबंधन है। ऐसे में जनता को अपने पक्ष में लाना उनके लिए मुश्किल है। वहीं राज्य में कांग्रेस और हम ने राजद के साथ गठबंधन तोड़ दिया है। पार्टी आज वहीं पहुंच चुकी है जहां आज से एक साल पहले थी। लोकसभा चुनाव में पार्टी सिफर में सिमट गई है और पार्टी का नेतृत्व भी कमजोर हो रहा है।

  • Fight started in lalu Yadav family in bihar, tej pratap Yadav formed Tej Sena

    NewsJun 28, 2019, 8:44 AM IST

    लालू परिवार में छिड़ी सियासी उत्तराधिकार की जंग अब बनेगी ‘तेज सेना’

    बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में उत्तराधिकार को लेकर जंग तेज होने वाली है। लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव और पार्टी के मौजूदा कर्ताधर्ता तेजस्वी यादव के बीच काफी अरसे से मनमुटाव है। तेजस्वी ने बिहार में लोकसभा चुनाव के लिए टिकटों का बंटवारा किया था। लेकिन तेज प्रताप को टिकट बंटवारे से अलग रखा।

  • Will the distance of the heart be reduced after the distance of steps is reduced in yadav family?

    NewsMay 31, 2019, 10:21 AM IST

    कदमों की दूरी कम के बाद क्या दिल की दूरी कम होगी यादव कुनबे में

    अखिलेश यादव ने भी अपने बंगले में पत्नी डिंपल यादव व बच्चों के साथ के साथ प्रवेश किया। पहले अखिलेश ने विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की और फिर गृह प्रवेश किया। पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकार बंगलों का आवंटन रद्द करने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पिछले साल अखिलेश यादव असंल गोल्फ सिटी में चले गए थे। हालांकि जिस वक्त उन्होंने अपना सरकारी बंगला खाली किया तो उस वक्त उन पर बंगले में तोड़फोड़ करने के आरोप भी लगे थे।

  • Family disputs in lalu Yadav family clearing showing in Initial trend of pool result

    NewsMay 23, 2019, 11:42 AM IST

    बिहार में लालू यादव परिवार की लड़ाई का असर दिख रहा है चुनाव परिणाम के रूझानों में?

    बिहार में लोकसभा की 40 सीटें है और इसमें अभी तक 38 सीटों पर बीजेपी और उसके सहयोगी दल ही चुनाव परिणाम के रूझान में आगे चल रहे हैं। राज्य में लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती पाटलीपुत्र से चुनाव लड़ रही हैं। जबकि इस परिवार का कोई भी सदस्य लोकसभा चुनाव नहीं लड़ रहा है। अभी तक परिणामों के रूझान में लालू की अगुवाई वाले राजद को कोई बढ़त मिलती नहीं दिख रही है। बिहार में राजद की अगुवाई में कांग्रेस और राज्य स्तरीय दलों का गठबंधन बना था। लेकिन ये कोई करिश्मा करता नहीं दिख रहा है। 

  • Yadav family leading in 3 seats out of 5 in uttar Pradesh

    NewsMay 23, 2019, 10:11 AM IST

    यादव गढ़ में जूझ रहे हैं समाजवादी दिग्गज, बदायूं और फिरोजाबाद में पीछे तो मुलायम की बढ़ रही हैं दिक्कत

    उत्तर प्रदेश के सबसे बड़ी सियासी परिवार मुलायम सिंह यादव परिवार की पूरी साख इस सीट लगी है। लोकसभा चुनाव में यादव परिवार के पांच लोग चुनाव लड़ रहे हैं। इसमें समाजवादी पार्टी के बागी शिवपाल सिंह भी है। शिवपाल सिंह यादव अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) के सिंबल पर चुनाव लड़ रहे हैं। जबकि मुलायम सिंह यादव अपने परंपरागत गढ़ मैनपुरी से चुनाव लड़ रहे हैं। मैनपुरी में मुलायम सिंह यादव बहुत कम अंतर से आगे चल रहे हैं जबकि कन्नौज में भी यही हाल है। यहां पर डिंपल महज आठ हजार वोटों से आगे है। जबकि फिरोजाबाद और बदांयू में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी पीछे चल रहे हैं।

  • Tej pratap did not get seat in helicopter with tejashwi yadav

    NewsMay 5, 2019, 1:34 PM IST

    हेलीकॉप्टर को लेकर लड़े तेज प्रताप और तेजस्वी, एक एयरपोर्ट से घर लौटा

    यादव परिवार में तेज प्रताप और तेजस्वी यादव के बीच वर्चस्व की लड़ाई चल रही है। चुनाव में तेजस्वी यादव ने अपने करीबियों को टिकट दिए। जबकि तेज प्रताप के किसी भी करीबी नेता को टिकट नहीं दिया। जिसके बाद तेज प्रताप यादव ने अपने करीबी नेताओं को राबड़ी-लालू मोर्चा बनाकर टिकट दिया। जो राजद प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

  • Yadav family Prestige at stake in three seats in in third phase Uttar pradesh

    NewsApr 22, 2019, 10:39 AM IST

    गठबंधन नहीं यादव परिवार की साख है ‘दांव’ पर

     दो साल पहले परिवार में जो बिखराव हुआ उसका असर 2017 के विधानसभा चुनाव में देखने को मिला। लेकिन अब तस्वीर पूरी तरह से साफ हो गयी है कि चाचा शिवपाल सिंह यादव और भतीजे अखिलेश यादव में आगे भविष्य में समझौते की गुंजाइश कम ही है। लिहाजा शिवपाल ने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी(लोहिया) बनाकर लोकसभा चुनाव में अकेले लड़ने का फैसला किया। शिवपाल ने राज्य की ज्यादातर सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं। जबकि शिवपाल खुद फिरोजबाद सीट से पहली बार लोकसभा चुनाव में किस्मत आजमा रहे हैं। यहां समाजवादी पार्टी की तरफ से दिग्गज नेता रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव चुनाव लड़ रहे हैं।