समाचार

<p>West Bengal, Mamta Banerjee, Corona epidemic, lockdown<br />
&nbsp;</p>

भाजपा की तर्ज पर टीएमसी ने भी शुरू किया वर्चुअल कैंपेन

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के लिए अगले साल होने वाले चुनाव बड़ी चुनौती है। क्योंकि भाजपा राज्य में एक बड़ी शक्ति के तौर पर उभर रही है और उसमें लोकसभा चुनाव में टीएमसी को बड़ी शिकस्त दी है। भाजपा वहीं राज्य में टीएमसी के खिलाफ माहौल बना रही है। 

<p>coronavirus india</p>
<p>corona</p>
<p>यात्रियों को खाने की सामग्री भी पैक्ड दी गई थी। सभी पैसेंजर्स और क्रू के लिए सैनेटाइजर की बॉटल्स थी। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरा ख्याल रखा गया था। फिर भी ऐसा कैसे हो गया, इसकी जांच की जा रही है। &nbsp;</p>
<p><br />
shivaraj singh chauhan</p>
<p>सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना पैकेज के तहत प्रति लाभार्थी को 1000 रुपए की राहत और माह जून की पेंशन की किश्त की धनराशि हस्तांतरित की गई है। इसमें वृद्धावस्था पेंशन के 49,87,054 लाभार्थियों को 748.06 करोड़ रुपए, निराश्रित महिला पेंशन के 26,06,213 लाभार्थियों को 390.93 करोड़ रुपए, दिव्यांग पेंशन के 10,67,786 लाभार्थियों को 160.17 करोड़ रुपए और कुष्ठावस्था पेंशन के 10,728 लाभार्थियों को 2.68 करोड़ रुपए शामिल है।&nbsp;</p>
<p>एवलिन शर्मा ने हाल ही में अपने इंटरनेशनल शो के लिए करार किया है।<br />
&nbsp;</p>
undefined
undefined
<p>भूकंप ने कुछ ही सेकंड में बड़ी-बड़ी इमारतों को मिट्टी में मिला दिया था।</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>भारत में सबसे कम मृत्यु दर</strong><br />
स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने पिछले दिनों कहा, समय पर संक्रमण का पता लगाने और सही इलाज करने की वजह से हम बेहतर स्थिति में हैं। देश में कोरोना संक्रमण से जिन लोगों की मौतें हुई हैं, उनमें से 73% ऐसे थे जिन्हें पहले से ही गंभीर बीमारियां थीं। देश में कोरोना से मौतों की दर सिर्फ 2.82% है, जबकि दुनिया में ये दर 6.13% है।</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>ठीक होने वाले मरीजों की दर 48.07 प्रतिशत</strong><br />
स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत का रिकवरी रेट 15 अप्रैल को 11.42% था। 3 मई को यही बढ़कर 26.59% हो गया। 18 मई को बढ़कर 38.39% हो गया और आज यह 48.07 % है।&nbsp;</p>
<p>kp Sharma Oli</p>
undefined
<p style="text-align: justify;"><strong>इबोला वैक्सीन बनाने के दौरान भी नहीं मिल रहे थे मरीज&nbsp;</strong><br />
कोरोना के मामले ब्रिटेन, यूरोप और अमेरिका में अधिक थे, अब संक्रमण फैलने की दर गिर रही है। ट्रायल के लिए पर्याप्त मरीज नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसी ही स्थिति 2014 में इबोला के समय भी पश्चिमी अफ्रीका में बनी थी। वैक्सीन महामारी के अंतिम दौर में तैयार हुई थी और टेस्टिंग के लिए मरीज नहीं मिल रहे थे।<br />
&nbsp;</p>
Digvijaya Singh says Scindia was not at all sidelined kps
ನವಜೋತ್‌ ಸಿಂಗ್ ಸಿಧು
<p style="text-align: center;">देश के 70 फीसदी से ज्‍यादा मामले सिर्फ 13 शहरों में हैं। इनमें दिल्ली, मुंबई, चेन्नै, अहमदाबाद, ठाणे, पुणे, हैदराबाद, कोलकाता/हावड़ा, इंदौर, जयपुर, जोधपुर, चेंगलपट्टु और तिरुवलुर शामिल हैं। इन्‍हीं शहरों पर अब सरकार का फोकस है।<br />
&nbsp;</p>
<p>10 मई 2015 की तस्वीर। &nbsp;पीएम मोदी ने आसनसोल में IISCO के आधुनिक इस्पात संयंत्र का उद्घाटन करने के बाद कहा था, यदि दूसरे देशों के साथ टीम इंडिया की भावना के माध्यम से मुद्दों को सुलझाया जा सकता है तो घरेलू मुद्दों का समाधान बहुत आसान होगा।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>
undefined
undefined
undefined
undefined
कोरोना संकट के बीच यह पहला मौका नहीं है, जब चीन के मास्क और मेडिकल उपकरणों में खामी की बात सामने आई हो। इससे पहले यूरोप के कई देशों में चीन से पहुंचे सामान जैसे मास्क और जांच किट में खामी की बात सामने आई थी। इसके बाद स्पेन और नीदरलैंड्स ने मेडिकल सामानों को वापस करने का भी फैसला किया था।
Amit Shah Thumb
Prashant Kishor