‘उन्हें इतिहास पर गलतबयानी ना करने दें जो अटलजी को कोसा करते थे’

“अटल बिहारी वाजपेयी एक इतिहास पुरुष, जिनके नाम जिनकी महान शख्सियत की दुहाई आज वो लोग दे रहे हैं, जिन्होंने कभी अटलजी के साथ ‘अछूत’ जैसा बर्ताव किया। ये लोग अब अटलजी की विचारधारा को ही तोड़-मरोड़ कर पेश करने की फिराक में हैं। उनको ऐसा ना करने दे।“ –कपिल मिश्रा

Kapil Mishra

अवैध बांग्लादेशियों और रोहिंग्याओं को निकालना क्यों जरूरी, ये हैं छह कारण

अप्रवासियों की बेरोकटोक आवाजाही और बांग्लादेश से सटी सीमा के खुले होने चलते राजनीतिक दलों की वोटबैंक की राजनीति परवान चढ़ती रही। इसे सेकुलरिज्म का लबादा ओढ़ाकर मान्यता भी दे दी गई। यही नहीं सेकुलरिज्म को एक बुरा शब्द बना दिया गया।

abhijit majumder

जीवंत और वास्तविक भारतीयता का प्रतीक- कैसे राखीगढ़ी भारत की मूल संस्कृति को प्रदर्शित करता है।

राखीगढ़ हड़प्पा काल के शहरी व्यवस्था का चित्र सामने रखती है जो जम्मू के मांडा से महाराष्ट्रा के दाइमाबाद तक 1600 किलोमीटर की दूरी तक फैली हुई थी। 1963 में राखीगढ़ी की पहली बार रिपोर्ट सामने आई थी। इसका पहला रिकॉर्ड 1969 में सूरज भान द्वारा प्रकाशित किया गया था, जिसमें उन्होंने राखीगढ़ी में शहर नियोजन और वास्तुकला जैसे परिपक्व हड़प्पाकालीन परंपराओं का दस्तावेज प्रस्तुत किया था।


 

True Indology

कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र में ले जाने के विचार पर क्या बोले थे पटेल...

इस वीडियो सीरीज के तीसरे अंक में लेखक हिंदोल सेनगुप्ता ने उन तथ्यों को दुरुस्त किया है, जिनके अनुसार कश्मीर का मसला संयुक्त राष्ट्र में ले जाने के लिए सरदार पटेल जिम्मेदार थे। देंखे जब माउंटबेटन की विनाशकारी सलाह पर जवाहर लाल नेहरू ने यह मुद्दा उठाया तो सरदार पटेल का क्या रुख था। 
सेनगुप्ता ने ऐतिहासिक दुष्प्रचार के दस्तावेज को अपनी आने वाली किताब 'द मैन हू चेंज इंडिया' और शृंखला में चुनौती दी है।  

Team Mynation
rahul gandhi again winking but this time in jaipur
13, Aug 2018, 6:45 PM IST

एक बार फिर चलाए राहुल गांधी ने नैनो से बाण

पहले संसद में मारी आंख तो अब जयपुर में कांग्रेस प्रतिनिधि सम्मेलन के मंच पर चलाई अखियों से गोली, देखें वीडियो

Entertainment