Mamata Banerjee

डॉक्टरों के सामने झुकने के लिए मजबूर हुईं ममता बनर्जी, स्वीकार की सारी मांगें

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हड़ताल पर बैठे जूनियर डॉक्टरों की सभी मांगें स्वीकार कर ली हैं। यह सभी लोग कोलकाता के NRS कॉलेज में डॉक्टरों पर हुए हमले से नाराज थे। इन डॉक्टरों पर 85 साल के एक बुजुर्ग मो. सईद की ईलाज के दौरान मौत से नाराज सैकड़ों लोगों की भीड़ ने ईंट पत्थरों से हमला किया था। इस हमले में घायल एक डॉक्टर परिबोहो मुखर्जी की हालत अभी तक गंभीर है।

News

पीएम मोदी की मालदीव और श्रीलंका की यात्रा से भारत को हुआ यह लाभ

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का दूसरी बार पद ग्रहण करने के बाद पहली एवं दूसरी विदेश यात्रा के लिए मालदीव और श्रीलंका के चयन का विशेष महत्व है। मोदी ने इसके द्वारा यह संदेश दिया कि पड़ोसी प्रथम नीति केवल सिद्धांत में नहीं भारत के आचरण में निहित है। 

Avdhesh Kumar

अलीगढ़ मासूम हत्याकांड: इस हैवानियत पर क्या कहें और क्या न कहें

अलीगढ़ में अपनी मासूम बच्ची को गंवाने वाला परिवार अति साधारण रहा होगा तभी तो 10 हजार रुपया नहीं चुका पा रहा था। बच्ची के माता-पिता ने हत्यारे से पचास हजार रुपए उधार लिए थे जिसमें 40 हजार रुपए वापस किए जा चुके थे। केवल दस हजार रुपया बाकी रह गया था। हत्यारे ने बच्ची के दादा को रोककर पैसे लौटाने को कहा तो दोनों के बीच विवाद हो गया। इस पर आरोपी ने देख लेने की धमकी दे दिया और उसने वाकई ऐसा देखा कि जिसकी दुःस्वप्नों में भी कल्पना नहीं की जा सकती। 

Avdhesh Kumar

क्या सचमुच नीतीश कुमार के ‘पेट में दांत’ है?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पेट में दांत है! राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो लालू यादव अक्सर ये आरोप लगाते हैं। दरअसल ‘पेट में दांत’ के इस मुहावरे  का अर्थ है ‘गैरभरोसेमंद होना’। यानी लालू नीतीश को भरोसे के लायक नहीं समझते हैं। मोदी सरकार के दूसरी बार शपथ ग्रहण के बाद नीतीश की गतिविधियां देखकर लगता है कि उनके बारे में लालू यादव का संदेह शायद सही था। 

Anshuman Anand

कांग्रेस का रवैया उसे आत्मविनाश की तरफ ले जा रहा है

कांग्रेस संसदीय दल की बैठक से बाहर आई खबरें केवल कांग्रेस के लिए नहीं भारतीय लोकतंत्र के भविष्य की दृष्टि से चिंता पैदा करने वाली है। यह इसलिए क्योंकि देश में सबसे ज्यादा समय तक शासन करने वाली पार्टी दो करारी पराजय के बाद भी या तो यह समझ नहीं रही या समझने के लिए तैयार नहीं है कि इस दुर्दशा के लिए उसका स्वयं का विचार और व्यवहार जिम्मेवार है। 

Avdhesh Kumar
azam mimi nusrat
30, May 2019, 3:00 PM IST

नुसरत-मिमी सावधान, संसद में हैं आजम खान (व्यंग्य)

इस बार की लोकसभा बहुत खास है। क्योंकि अभी तक के संसदीय इतिहास में सबसे ज्यादा 78(अठत्तर) महिलाएं चुनकर संसद पहुंची हैं। इनमें सबसे ज्यादा ध्यान खींच रही हैं नुसरत और मिमी। जो कि बांग्ला फिल्म इंडस्ट्री की जानी पहचानी अभिनेत्रियां हैं। ये दोनों दिल्ली पहुंच चुकी हैं और इन्होंने संसद परिसर में घूम घूमकर अपनी फोटो भी खिंचाई है। लेकिन इनकी बेफिक्री तब हवा हो जाएगी, जब ये दोनों जा जाएंगी कि इस बार संसद में आजम खान भी मौजूद हैं। जिनकी निगाहें एक्स रे जैसी हैं। 

समाचार