Search results - 6 Results
  • जिन्ना और मौदूदी

    Views9, Mar 2019, 6:14 PM IST

    पाकिस्तान को आतंक की फैक्ट्री बनाने वाला वह शख्स, जिसने जिन्ना के हाथ से छीन लिया था यह देश

    मोहम्मद अली जिन्ना पाकिस्तान के पिता कहे जाते है क्योंकि  वे मुस्लिम बहुल पाकिस्तान बनाना चाहते थे। मगर जिन्ना ने सांप्रदायिकता का जो बीज बोया जब वह फला फूला तो वह इस्लामी कट्टरतावाद और जिहादी मानसिकता का वटवृक्ष बन गया। जिन्ना के जाते एक दशक भी नहीं गुजरा कि पाकिस्तान के धर्मपिता  मौलाना मौदूदी की सोच  ने पाकिस्तान का अपहरण कर लिया और वह संकीर्णता में ढल गया और बन गया एकरंगी,संकीर्ण और पिछड़ी सोचवाला पाकिस्तान।

    आज की स्थिति वाला वह पाकिस्तान, जो पूरी दुनिया के लिए खतरा बना हुआ है। 

  • lets become fundamentalist hindu

    Views24, Oct 2018, 7:25 PM IST

    तो चलिए हम सब 'रुढ़िवादी' हिंदू बन जाते हैं

     इस इक्कीसवी सदी में हमारे लिये यह उचित समय है जब हम एक समुदाय को दूसरे समुदाय के विरोध में खड़ा करने वाले हानिकारक, अप्रमाणित रुढ़िवाद का त्याग करें? सब से अच्छा विकल्प है कि हम हिंदू मूलतत्वों का अनुसरण करें। तो चलें, हम सब मनुष्यों में, कुदरत में और पशुओं में भी ईश्वरत्व देखनेवाले रुढ़िवादी हिंदू बनें। इससे संपूर्ण विश्व का लाभ होगा।

  • allhabad

    News16, Oct 2018, 2:17 PM IST

    योगी सरकार ने बदला 443 साल पुराना इतिहास

    अब से लगभग 433 साल पहले 1575 में मुगल बादशाह अकबर ने प्रयाग का नाम बदला था l  उसने इसे 'इलाहाबास' नाम दिया था जिसका अर्थ है अल्लाह का घर, जो कि बदलते-बदलते इलाहाबाद हो गया था l लेकिन योगी सरकार ने इसका प्राचीन नाम 'प्रयाग' बहाल कर दिया है, जिसका अर्थ है पवित्र नदियों का संगम। 

  • God and Allah is not Parbrahm parmeshwar

    Views15, Oct 2018, 4:03 PM IST

    ‘परमब्रह्म परमेश्वर’ से अलग हैं ‘गॉड’ और ‘अल्लाह’

    प्राचीनकाल में जब ईसाईयत और इस्लाम का कोई अस्तित्व नहीं था, तब सर्वोच्च सत्य के बारे में वैदिक धर्म की समझ बहुत ही परिपक्व थी। हिंदू परंपरा में परमसत्य को ब्रह्म के नाम से जाना जाता है। यह सबसे सूक्ष्म, अदृश्य, जागृत जैसे समस्त संसार का आधार है। ऋषियों ने उद्घोषणा की, कि ब्रह्म वह नहीं है जिसे आंखें देखती हैं, बल्कि ब्रह्म वह है जिसकी वजह से आंखें देख पाती हैं। ब्रह्म वह नहीं है जिसे मस्तिष्क सोचता है, बल्कि ब्रह्म वह है जिसकी वजह से मस्तिष्क सोच पाने में सक्षम हो पाता है। यह बात अब्राहमिक धर्मों के भगवान के लिए नहीं कही जा सकती। 

  • Can we please be clear about religious extremism?

    Views6, Oct 2018, 6:13 PM IST

    आखिर कब हम मजहबी कट्टपंथ के बारे में अपना नजरिया साफ करेंगे?

    पाकिस्तानी राजनयिक का व्यवहार कुछ इस तरह का है, जैसे पाकिस्तान को ईश्वर की ओर से यह अधिकार मिला है, कि वह अपने नागरिकों पर इस्लाम को थोपे। तो क्या भारत को अपनी सदियों पुरानी परंपरा की वकालत करने का अधिकार नहीं है, जो कि एक व्यक्ति के साथ साथ समाज के लिए भी बेहद लाभदायक साबित हुआ है। 

  • निदा कान के खिलाफ फलवा

    Nation17, Jul 2018, 11:11 AM IST

    कुरीतियों के खिलाफ बोलने पर मुस्लिम महिला निदा खान के खिलाफ फतवा

    फतवा जारी होने के बाद निदा खान ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पलटवार किया और कहा कि फतवा जारी करने वाले पाकिस्तान चले जाएं हिन्दुस्तान एक लोकतांत्रिक देश है यहां दो कानून नहीं चलेंगे। किसी मुस्लिम को इस्लाम से खारिज करने की हैसियत किसी की नहीं है। सिर्फ अल्लाह ही गुनहगार और बेगुनाह का फैसला कर सकता है।