क्रांति  

(Search results - 22)
  • Nation20, Aug 2019, 6:42 PM IST

    जानिए आजादी की जंग में क्या थी भीकाजी कामा की भूमिका

    दिल्ली में सफदरजंग अस्पताल से आगे भीकाजी कामा प्लेस है। जिसे रोज लाखों लोग देखते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारे देश का पहला झंडा भीकाजी कामा ने ही बनाया था। हालांकि वह एक बेहद अमीर परिवार में पेदा हुई थीं। लेकिन उन्हें अपने देश से बहुत ज्यादा प्यार था। उन्होंने अंग्रेजी शासन के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मंचों पर बहुत सफलतापूर्वक उठाया। वह देश के क्रांतिकारियों के लिए प्रेरणा स्रोत थीं। जानिए देश की आजादी में मैडम कामा का क्या योगदान था-

  • In the state of Didi, the BJP started the 'name' politics, the Bardhaman railway station  name will be change

    News20, Jul 2019, 9:04 PM IST

    दीदी के राज्य में भाजपा ने शुरू की ‘नाम’ की राजनीति, इस क्रांतिकारी के नाम पर होगा बर्द्धमान रेलवे स्टेशन का नाम

    अब भाजपा राज्य के सरकारी संस्थान जो केन्द्र सरकार के अधीन हैं। उनका नाम बदलने जा रही है। जिसका विरोध करना ममता के लिए मुश्किल होगा। क्योंकि भाजपा इन संस्थानों को क्रांतिकारियों के नाम पर रख रही है। लोकसभा चुनाव में टीएमसी को कड़ी टक्कर दे चुकी भाजपा अब राज्य के रेलवे स्टेशनों का नाम बदलने जा रही है।

  • Mangal Pandey

    Views19, Jul 2019, 5:22 PM IST

    मंगल पांडे ने दलित साथी की पुकार पर छेड़ी थी आजादी की जंग, मौत के बाद भी डरते रहे अंग्रेज

    देश के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के पहले शहीद मंगल पांडेय का आज जन्मदिन है। सन् 1857 की क्रांति के इस महानायक की जिंदगी के कई किस्से आज भी समाज को प्रेरणा दे सकते हैं। मंगल पांडेय ने बेहद बहादुरी से विशाल अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ जंग छेड़ी, लेकिन इसके लिए उन्हें उनके ही एक दलित साथी मातादीन ने प्रेरित किया था। जिसके बाद जो हुआ उससे अंग्रेजी हुकूमत थर्रा गई। मंगल पांडे ने जो बहादुरी दिखाई थी उसका असर उनकी मौत के 90 साल बाद 1947 में आजादी के समय भी दिखाई दिया। 
     

  • narendra modi

    News17, Apr 2019, 12:49 PM IST

    माढा में मोदी की चुनौती, जानें क्यों बीजेपी छीन लेगी एनसीपी का यह गढ़

    एनसीपी नेता शरद पवार पर हमला बोलते हुए मोदी ने कहा कि देश में आई भगवा क्रांति के डर से शरद पवार चुनाव मैदान छोड़कर भाग चुके हैं. मोदी ने कहा कि शरद पवार की राजनीति सिर्फ एक सिद्धांत पर बैठी है कि केन्द्र में गांधी परिवार का वर्चस्व कायम रहे.

  • News13, Apr 2019, 11:21 PM IST

    ...और इस तरह जलियांवाला बाग नरसंहार का बदला लेकर ऊधम सिंह ने पूरी की अपनी कसम

    13 अप्रैल, 1919 के जलियांवाला बाग हत्याकांड के दोषी को लंदन में गोली मारकर निर्दोष भारतीयों की मौत का बदला लेने वाले क्रांतिकारी का नाम है ऊधम सिंह। जलियांवाला बाग नरसंहार के 100 साल बाद उन बेकसूर लोगों को याद करने के साथ-साथ ऊधम सिंह को याद करना लाजिमी हो जाता है। अपनी बदले की कसम पूरी करने के लिए ऊधम सिंह ने 21 साल का इंतजार किया और मौका मिलते ही इस घटना के जिम्मेदार जनरल डायर को गोली मार दी। इसके बाद यह क्रांतिकारी खुशी-खुशी फांसी के फंदे पर झूल गया। 
     

  • Udham Singh

    News13, Apr 2019, 10:14 AM IST

    जलियांवाला बाग नरसंहार के 100 सालः 21 साल बाद ऊधम सिंह ने डायर को मारकर पूरी की अपनी कसम

    अपने मिशन को अंजाम देने के लिए ऊधम सिंह ने अफ्रीका, नैरोबी, ब्राजील और अमेरिका की यात्राएं कीं। सन 1934 में ऊधम सिंह लंदन पहुंचे और वहां 9 एल्डर स्ट्रीट कमर्शल रोड पर रहने लगे। 13 मार्च 1940 को लंदन के 'कॉक्सटन हॉल' में ऊधम सिंह ने अपनी कसम पूरी की।

  • News13, Mar 2019, 2:22 PM IST

    पूर्वोत्तर में भाजपा ने गठबंधन किया फाइनल, लोकसभा की 22 सीटों पर नजर

    भाजपा ने असम गण परिषद, बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट, इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा, नेशनल पीपुल्स पार्टी, नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी और सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के साथ गठबंधन किया है। 

  • tarapur

    Views14, Feb 2019, 3:05 PM IST

    स्वतंत्रता संग्राम के दूसरे सबसे बड़े बलिदान से देश अनजान क्यों ?


    आजादी से पूर्व तक अखिल भारतीय कांग्रेस द्वारा हर वर्ष 15 फरवरी को “तारापुर दिवस” मनाया जाता रहा है लेकिन आज़ादी के बाद सत्ता के स्वाद में हमारे नेता स्वतंत्रता शहीदों की शहादत को भूल गये और बड़े इतिहासकारों ने ‘तारापुर गोलीकांड’ के साहसिक कृत्यों को इतिहास में शामिल करना मुनासिब नहीं समझा।
     

  • Netaji

    Views23, Jan 2019, 4:17 PM IST

    भारत को आजादी नेताजी सुभाषचंद्र बोस की वजह से मिली, तत्कालीन ब्रिटिश पीएम ने किया था स्वीकार

    क्लिमैन्ट रिचर्ड एटली जो कि 1945 से 1951 तक ब्रिट्रेन के प्रधानमंत्री रहे। उनके समय में ही भारत को आजादी मिली। उनसे एक बार ब्रिटेन के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश ने पूछा कि आखिर आपने भारत क्यों छोड़ा? आप दूसरा विश्वयुद्ध जीत चुके थे। सबसे बुरा समय बीत चुका था। 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन फ्लॉप हो चुका था। आखिर ऐसी क्या जल्दी थी कि ब्रिटिश सरकार ने 1947 में अचानक यह कहना शुरु कर दिया कि नहीं हमें तुरंत भारत छोड़ना है? 

  • Reservation modi

    Views9, Jan 2019, 7:53 PM IST

    गरीब सवर्णों को आरक्षण राजनीतिक शिगूफा नहीं बल्कि एक दूरदर्शी सोच का नतीजा है

    मोदी सरकार ने आर्थिक रुप से कमजोर लोगों को आरक्षण देने का फैसला किया है। विपक्ष इसे राजनीतिक दांव की संज्ञा दे रहा है और इसके समय पर सवाल उठा रहा है। ऐसा कहकर इस बेहद संवेदनशील और सामाजिक बदलाव लाने वाले फैसले की अहमियत कम की जा रही है। हम आपको बताएंगे कि कैसे गरीबों को दिया जाने वाला यह आरक्षण जातीय विभेदों में बंटे इस देश में धीमी किंतु बड़ी क्रांति का कारण बनेगा। यह महज एक राजनीतिक दांव नहीं बल्कि प्रधानमंत्री के दूरदर्शी नजरिए का प्रतीक है।

  • Naseerudin Shah

    News22, Dec 2018, 5:57 PM IST

    तीन ऐसे उदाहरण जिस पर नसीरउद्दीन शाह ‘गायों’ पर बात करने से चूक गए

    हम लोगों की तरह कई लोग अभी भी क्रांतिकारी अभिनेता नसीरउद्दीन शाह से प्यार करते हैं। खुले तौर पर उनके बोलने के साहस का सम्मान करते हैं। लेकिन यहाँ पाँच उदाहरण हैं जो पूरी तरह से उनके आक्रोश का इंगित करता है। वह असहिष्णुता, अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर होने वाली हिंसा , गाय के नाम पर हत्या पर और सेलिब्रिटी किए गए भयावह व्यवहार पर बोलने पर विफल रहे।

  • kakori kand

    News19, Dec 2018, 12:14 PM IST

    काकोरी कांड : जिसने देश में क्रांतिकारियों के प्रति जनता का नजरिया बदल दिया था

    आज के दिन को शहादत दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत को आजादी दिलाने के लिए राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खां और रोशन सिंह ने अपने प्राण न्‍योछावर कर दिए थे। इन तीनों क्रांतिकारियों ने काकोरी कांड में शामिल होने के कारण फांसी पर चढ़ाया गया था।

  • Yogi Adityanath

    News14, Nov 2018, 2:47 PM IST

    सीएम योगी ने कांग्रेस पर लगाया समाज को बांटने का आरोप

    योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस नेता राज बब्बर का नाम लिए बगैर कहा कि उत्तरप्रदेश कांग्रेस के एक नेता ने नक्सलियों को क्रांतिकारी कहा। उनके इस बयान से देशद्रोह में लिप्त नक्सलियों के विरुद्ध लड़ रहे सुरक्षाकर्मियों की शहादत का अपमान हुआ है।

  • PM MODI

    News14, Nov 2018, 10:14 AM IST

    सिंगापुर फिनटेक फेस्टिवल में बोले प्रधानमंत्री मोदी- भारत में आज नई आर्थिक क्रांति

    फिनटेक फेस्टिवल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत के युवाओं ने आज दुनिया को अपनी तकनीक की शक्ति दिखाई है, ये इवेंट इसी शक्ति को दिखाता है। मैं अपने देश का पहला प्रधानमंत्री हूं, जिसे यहां की-नोट भाषण देने का मौका मिला है।