जहानाबाद  

(Search results - 5)
  • news

    NewsJan 28, 2020, 7:49 PM IST

    निर्भया केस में दोषी मुकेश की दया याचिका से शर्जील इमाम की गिरफ्तारी तक, देखिए माय नेशन के 100 सेकेंड्स में

    दया याचिका खारिज होने के बाद निर्भया के दोषी मुकेश की न्यायिक समीक्षा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई हुई। मुकेश की वकील अंजना प्रकाश ने दलील दी कि मुकेश के साथ जेल में बुरा बर्ताव हुआ और उसे पीटा गया। एएमयू में आपत्तिजनक भाषण देने वाले आरोपी शर्जील इमाम को पुलिस ने जहानाबाद से गिरफ्तार कर लिया है। मंगलवार सुबह पुलिस ने शर्जील के भाई मुजम्मिल और उसके एक सहयोगी को जहानाबाद से हिरासत में लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को एनसीसी की रैली में कैडेट्स को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि हमारा पड़ोसी देश हमसे तीन-तीन जंग हार चुका है। हमारी सेनाओं को उसे हराने में 10-12 दिन भी नहीं लगेंगे।

  • Sharjeel Imam, Sambit Patra, CAA, NRC, JNU students, BJP, NRC protest, CAA protest

    NewsJan 28, 2020, 3:37 PM IST

    देश के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने वाला इमाम जहानाबाद से गिरफ्तार, भागने की तैयारी में था

    इमाम पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में देश के खिलाफ भड़काऊ बयान देने के सबूत पुलिस के पास हैं और इसके बाद से ही पुलिस ने अलीगढ़ में उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। वहीं असम में भी उसके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज है। इमाम ने देश के अभिन्न हिस्से असम को तोड़ने का भाषण दिया था।

  • undefined

    NewsMar 29, 2019, 1:12 PM IST

    बिहार में महागठबंधन ने किया सीटों का बंटवारा, कीर्ति आजाद को झटका, शत्रुघ्न की उम्मीदें बढ़ीं

    बहुचर्चित बेगूसराय और दरभंगा सीट आरजेडी के पास गई। वहीं पटना साहिब कांग्रेस के खाते में आना शत्रुघ्न सिन्हा के लिए अच्छी खबर। कीर्ति आजाद की उम्मीदें अब दिल्ली पर टिकीं। 

  • bihar2

    NewsNov 15, 2018, 10:01 AM IST

    उपेंद्र कुशवाहा का एनडीए से पत्ता लगभग साफ

    भाजपा उपेंद्र कुशवाहा का एनडीए और महागठबंधन- दोनों नाव पर सवारी करने की रणनीति के कारण उन्हें गठबंधन में स्थान नहीं देना चाहती। माना जा रहा है कि बीजेपी और जेडीयू बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।

  • Deep analysis of congress led Bharat Bandh

    NewsSep 10, 2018, 7:25 PM IST

    क्या इतनी ही है कांग्रेस की ताकत?

    सोमवार का भारत-बंद कांग्रेस और उसके समर्थक दलों का शक्ति प्रदर्शन माना जा रहा था। लेकिन अगर कांग्रेस खेमे की यही ताकत है तो अभी राहुल गांधी को बहुत मेहनत करने की जरुरत है।