प्रियंका गांधी वाड्रा  

(Search results - 76)
  • undefined

    News21, May 2020, 12:44 PM

    बस सियासत से क्या प्रियंका यूपी में हासिल कर सकेगी कांग्रेस की खोई जमीन!

    हालांकि राजनीति के जानकारों का कहना है कि प्रियंका को बस विवाद के जरिए फायदा मिल सकता है। क्योंकि प्रियंका ने यूपी सरकार को बस मुहैया कराने का वादा किया था और उसे पूरा किया।  हालांकि इस मुद्दे पर विवाद हो सकता है। लेकिन प्रियंका को बस विवाद के जरिए मीडिया माइलेज मिला है और कांग्रेस का कार्यकर्ता जो मुद्दों की तलाश में था इस मुद्दे के जरिए उसमें उत्साह आया है।

  • <p>malini awasthi</p>

    News20, May 2020, 9:49 PM

    प्रियंका के बस विवाद में आखिर कांग्रेस ने क्यों मालिनी अवस्थी को बनाया निशाना

    असल में योगी सरकार ने कांग्रेस द्वारा उपलब्ध कराई बसों को नहीं लिया है। क्योंकि सरकार का कहना है कि कांग्रेस ने जो बसें मुहैया कराई है। उनका रजिस्ट्रेशन नंबर फर्जी है और बसों में दो पहिया, एंबुलेंस और तिपहिया के नंबर दिखाए गए हैं और इसके लिए यूपी सरकार ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निजी सचिव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। वहीं अब कांग्रेस ने इस मामले में उत्तर प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी की पत्नी मालिनी अवस्थी को लपेटा है।

  • undefined

    News20, May 2020, 6:43 PM

    बस विवाद में प्रियंका को नहीं मिला पार्टी विधायक का साथ, अकेले पड़ी कांग्रेस महासचिव

    बस विवाद में अब कांग्रेस की विधायक और कभी प्रियंका गांधी की करीबी माना जानी वाली अदिति सिंह भी उतर गई है। उन्होंने सीधे तौर पर प्रियंका गांधी पर हमला बोला है। अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि  'बस' को लेकर पार्टी की फजीहत हुई  है।

  • undefined

    News19, Apr 2020, 7:33 PM

    प्रियंका ने 'आग्रह' से खेला योगी से सियासी दांव

    कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश सरकार से राज्य के प्रवासी श्रमिकों को उनके घर तक पहुंचाने में मदद करने की योजना तैयार करने का आह्वान किया। प्रियंका ने राज्य सरकार से कहा कि वह उन सभी प्रवासी श्रमिकों तक पहुंचने के लिए एक हेल्पलाइन और नियंत्रण कक्ष स्थापित करे। जो विभिन्न स्थानों पर फंसे हुए हैं।
     

  • undefined

    News19, Feb 2020, 7:00 AM

    बंगला बचाने के लिए कांग्रेस प्रियंका को भेजेगी राज्यसभा!

    असल में जिन राज्यों में कांग्रेस सत्ता में है वह प्रियंका गांधी को राज्यसभा में भेजना  चाहते हैं। क्योंकि इन राज्यों के पास प्रियंका का उच्च सदन में भेजने का जरूररी बहुत है। लिहाजा राज्य में प्रियंका समर्थकों ने ये मुहिम चलाई है। कांग्रेस में प्रियंका गांधी के समर्थकों का कहना है कि प्रियंका गांधी के राज्यसभा में आने से पार्टी उच्च सदन में मजबूत होगी और वह केन्द्र सरकार को आसानी से कठघरे में खड़ा कर सकेंगी।

  • undefined

    News15, Feb 2020, 6:27 PM

    प्रियंका को राज्यसभा भेजने की तैयारी में है कांग्रेस!

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस प्रियंका गांधी वाड्रा को राज्यसभा में भेजने की तैयारी में है। हालांकि अभी तक ये तय नहीं हुआ है कि प्रियंका गांधी किस राज्य से राज्यसभा में भेजा जाएगा। लेकिन अभी छत्‍तीसगढ़ कोटे से राज्‍यसभा भेजने की चर्चा चल रही है। हालांकि अप्रैल में छत्तीसगढ़, राजस्थान, मध्य प्रदेश से भी सीटें खाली हो रही है और इसमें कांग्रेस के कई दिग्गज रिटायर हो रहे हैं। 

  • undefined

    News13, Feb 2020, 6:15 AM

    पोस्टरवार के बीच प्रियंका पहुंची आजमगढ़, माया के बाद अब अखिलेश के निशाने पर

    प्रियंका गांधी समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में 5 फरवरी को पुलिस की कार्रवाई में घायल हुए प्रदर्शनकारियों से मिलने के लिए पहुंची। ये प्रदर्शन कारी नागरिकता कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। लेकिन अभी तक अखिलेश यादव इन लोगों से मिलने के लिए नहीं पहुंचे हैं।

  • mayawati

    News10, Feb 2020, 6:48 AM

    जानें क्यों प्रियंका के यूपी दौरे से माया हुई बैचेन, किया हमला

    प्रियंका गांधी ने संत रविदास की जयंती पर वाराणसी में मंदिर का दौरा किया। जिसके बाद बसपा खेमें में बैचेनी बढ़ गई। हालांकि प्रियंका गांधी और मायावती के बीच काफी अरसे से बयानबाजी चल रही है। लेकिन रविवार को ये और ज्यादा तेज हो गई। क्योंकि मायावती ने एक के बाद एक तीन बार सोशल मीडिया में प्रियंका गांधी पर निशाना साधते हुए हमला किया।

  • शीला दीक्षित के निधन के बाद इस वक्त कांग्रेस के पास कोई बड़ा चेहरा नहीं है जो केंद्र शासित राज्य में पार्टी के लिए कोई करिश्मा दिखा सके। दिल्ली में कांग्रेस के प्रदर्शन का सारा दारोमदार गांधी परिवार के कंधों पर ही है। पार्टी 2015 के चुनाव में खाता भी नहीं खोल पाई थी। अब दिल्ली जीतने के लिए जरूरी है कि दलित और अल्पसंख्यक मतदाता कांग्रेस के साथ जुड़े जो उससे टूट कर आप और बीजेपी के खेमे में चले गए हैं।   वाराणसी मे प्रियंका के साथ कांग्रेस के कई दिग्गज नेता नजर आए। इनमें कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला, अजय राय और यूपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू प्रमुखता से शामिल रहे।

    News9, Feb 2020, 10:59 AM

    दिल्ली में चुनाव प्रचार से दूर रहने वाली प्रियंका फिर पहुंची यूपी के मंदिरों की शरण में

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी यूपी में सक्रिय हैं। प्रियंका ने  2022  को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी को सक्रिय करना शुरू कर दिया है। पार्टी आलाकमान ने भी प्रियंका गांधी को यूपी में पूरी तरह से छोड़ दिया है। यूपी के फैसले प्रियंका गांधी ही ले रही हैं और इसमें किसी अन्य का कोई हस्तक्षेत्र नहीं है। लोकसभा चुनाव से पहले जिस तरह से प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी में मंदिरों के दर्शन किए थे।

  • gandhi family

    News24, Jan 2020, 1:09 PM

    अमेठी में बेटे की हार की टीस भुला नहीं पाई सोनिया, कांग्रेस के गढ़ में जनता से दिखाई बेरूखी

    अमेठी को कांग्रेस का गढ़ कहा जाता था। देश में कांग्रेस की स्थिति कुछ भी रही हो, लेकिन अमेठी की जनता ने हमेशा ही कांग्रेस का साथ दिया। वह भले ही सत्ता में रही या फिर विपक्ष में। लेकिन पिछले साल लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के इस गढ़ में सेंध लगाई। भाजपा ने कांग्रेस को इस गढ़ को ही गांधी परिवार से नही छिना बल्कि कांग्रेस के दिग्गज कहे जाने वाले संजय सिंह को भी भाजपा में शामिल करा लिया।

  • പ്രതിഷേധത്തിനിടെ രാഹുല്‍ ഗാന്ധിയും സോണിയാ ഗാന്ധിയും.

    News12, Jan 2020, 12:02 PM

    मुश्किल में कांग्रेस: सोनिया, प्रियंका कर रही हैं सीएए का विरोध तो समर्थन में उतरे विधायक

    मध्य प्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है कि वह राज्य में सीएए को लागू नहीं करेगी। जबकि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी इसका विरोध कर रही हैं। प्रियंका गांधी तो देशभर में घूम घूमकर एनआरसी और सीएए को लेकर विरोध जता रही हैं। वहीं अब प्रदेश में कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। राज्य में कांग्रेस के विधायक ने इस कानून का समर्थन किया है।

  • undefined

    News12, Jan 2020, 11:33 AM

    जानें क्यों प्रियंका पर ज्यादा आक्रामक हो रही हैं माया

    मायावती ने एक बार फिर आक्रामक तौर से कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा निशाना साधा है। मायावती ने साफ तौर पर कहा कि वह कोटा में मारे गए नवजात बच्चों पर शोक मनाने के लिए वहां नहीं जा सकती हैं। क्योंकि वहां पर कांग्रेस की सरकार है। प्रियंका गांधी जयपुर में कांग्रेस नेता के बेटे की शादी में जा सकती हैं लेकिन वह समय निकाल कर कोटा नहीं जा सकती हैं।

  • undefined

    News9, Jan 2020, 9:51 AM

    जामिया, जेएनयू वाया अब बीएचयू, जानें क्या है प्रियंका गांधी का ‘सीक्रेट प्लान’

    पिछले एक साल से प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में काफी सक्रिय हो रही हैं। जिसके कारण राज्य की भाजपा सरकार के साथ ही बसपा और सपा की मुश्किलें बढ़ी हुई हैं। पिछले लोकसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी सक्रिय राजनीति में उतरी थी और उन्होंने लखनऊ में रोड शो किया था। लोकसभा चुनावों में प्रियंका गांधी  कांग्रेस की स्टार प्रचारक थी, लेकिन उसके बावजूद राज्य में कांग्रेस की सीटों में इजाफा नहीं हो सका। यहां तक कि कांग्रेस अपनी परंपरागत सीट अमेठी को भी हार गई थी।
     

  • प्रियंका गांधी के पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और पार्टी के अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

    News29, Dec 2019, 9:11 AM

    यूपी पुलिस पर प्रियंका ने लगाया था झूठा आरोप, अब बयान से पलटी बोली सिर्फ हाथ लगाया

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने लखनऊ पुलिस पर आरोप लगाकर इस मामले को तूल दे दिया था और कहा था कि यूपी पुलिस ने उनका गला दबाया है जबकि उनके साथ सीआरपीएफ के कमांडो थे। लेकिन प्रियंका गांधी ने झूठा आरोप लगाकर यूपी सरकार को घेरने की कोशिश की। लेकिन जब प्रियंका गांधी के पूरे वीडियो सोशल मीडिया में आए तो लोगों ने उन्हें ट्वीट करना शुरू कर दिया था और झूठा बताया तो कांग्रेस और कांग्रेस की बड़ी किरकिरी हुई।

  • Modi govt try to sale  railway dept

    News5, Dec 2019, 10:39 AM

    बगावत और विरोध के बीच प्रियंका करेंगी संगठन को मजबूत

    माना जा रहा है कि जिन जिलों में अभी तक संगठन के पदाधिकारी की घोषणा नहीं हुई हैं। उन पर प्रियंका अपनी मुहर लगा सकती है। पिछले दिनों प्रियंका के  कुछ पदाकारियों को पार्टी संगठन में कमान सौंपने के बाद दस बड़े नेताओं ने सोनिया गांधी से शिकायत की थी। इन नेताओं का कहना था कि वह कई सालों से पार्टी की सेवा की है। उसके बाद सगंठन में उन्हें जगह नहीं मिली है और कम अनुभवी नेताओं को संगठन में जगह दी गई है।