प्रोग्राम  

(Search results - 7)
  • Pakistanis are afraid

    World10, Jan 2019, 2:07 PM IST

    भारतीय सेना तो छोड़िए हमारे टीवी कार्यक्रमों से भी डरता है पाकिस्तान

    पाकिस्तान को भारत का खौफ इतना ज्यादा है कि उसने अपने टीवी चैनलों पर भारतीय कार्यक्रम दिखाने पर प्रतिबंध लगा रखा है। वहां के चीफ जस्टिस ने टिप्पणी की है कि 'भारतीय कार्यक्रम हमारी संस्कृति को नुकसान पहुंचाते हैं नुकसान, इनको दिखाने की इजाजत नहीं देंगे'। दरअसल पाकिस्तानी सत्ता प्रतिष्ठान नहीं चाहता कि वह अपने नागरिकों को भारत के खुशहाल समाज की झलकियां दिखाए। क्योंकि इससे आम पाकिस्तानी नागरिक में असंतोष पैदा होगा, जो कि वहां के सत्ताधारियों के लिए घातक साबित हो सकता है। 

  • Cable TV

    News28, Dec 2018, 12:44 PM IST

    मनमाफिक चैनल चुनने की आजादी, अब 31 जनवरी तक का समय

    ट्राई की ओर से कहा गया है कि नए सिस्टम में उपभोक्ताओं पर टीवी चैनल थोपे नहीं जा सकते हैं, बल्कि वह केवल उन्हीं चैनलों को चुन सकते हैं, जिन्हें देखना चाहते हैं। 

  • News24, Dec 2018, 6:23 PM IST

    नासा के 2019 कैलेंडर में छाया भारतीय बच्चों का रचना संसार

    नासा की ओर से कर्मशियल क्रू प्रोग्राम 2019 चिल्ड्रन आर्ट वर्क कैलेंडर लांच किया गया है। इसके कवर पेज पर उत्तर प्रदेश की 9 साल की दीपशिखा का बनाया चित्र है। दीपशिखा के अलावा भारत के तीन और बच्चों के चित्रों को इसमें जगह दी गई है। ये बच्चे महाराष्ट्र और तमिलनाडु से हैं।

  • usa

    World26, Nov 2018, 9:56 AM IST

    26/11 हमला: अमेरिका ने की गुनहगारों पर 50 लाख डॉलर के इनाम की घोषणा

    मुंबई हमले के 10 वर्ष पूरे होने के मौके पर विदेश मंत्रालय के रिवार्ड फॉर जस्टिस प्रोग्राम शुरु किया है। इस प्रोग्राम के तहत ऐसे लोगों को 50 लाख डॉलर का इनाम देने की घोषणा की गई है जो 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले की साजिश रचने अथवा उसमें सहयोग देने वाले किसी भी व्यक्ति के बारे में कोई सुराग देंगे। 

  • HAL

    News25, Sep 2018, 5:57 PM IST

    एचएएल ने फिर किया वायुसेना को निराश, आईजेटी प्रोग्राम हो सकता है बंद

    रक्षा मंत्रालय 3,000 करोड़ रुपये इंटरमीडिएट जेट ट्रेनर प्रोग्राम को बंद करने पर फैसला लेने वाला है। इन विमानों का इस्तेमाल पायलटों को प्रशिक्षण देने के लिए होना था।

  • News8, Sep 2018, 4:34 PM IST

    ख़ुद को लैंगिक भेदभाव का शिकार बताना बिल्कुल बकवास: अभिजीत अय्यर

    धारा 377 पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हर जगह स्वागत हो रहा है। इस फैसले पर 'माय नेशन' से बातचीत करते हुए थिंकटैंक इंस्टीट्यूट ऑफ पीस एंड कॉनफिलिक्ट स्टडीज यानी आईपीसीएस के एटॉमिक डिफेंस प्रोग्राम में वरिष्ठ शोधकर्ता अभिजीत अय्यर मित्रा ने कहा कि समलैंगिकों के पक्ष में आया फैसला अच्छी बात है, पर ऐतिहासिक नहीं है। हमारे देश में कभी समलैंगिकों के प्रति वैमनस्य नहीं रहा है। अगर कोई अपने माता-पिता से कहने से डरता है तो इसमें राष्ट्र का क्या दोष है। साथ रहने से गिरफ़्तारी नहीं होती थी। आप जिन्हें समलैंगिक को डराने वाला कहते हैं उन्हीं की सरकार ने फैसला लिया कि वो कोर्ट की कार्यवाही में दख़ल नहीं देगी। …यह तो बहुत बड़ी बात है। ख़ुद को लैंगिक भेदभाव का शिकार बताना बिल्कुल बकवास है।