येचुरी  

(Search results - 5)
  • Rahul blinking eyes

    ViewsDec 5, 2018, 6:28 PM IST

    देश के सीने पर दिए हजार घाव: क्या पाकिस्तानी रणनीति पर कांग्रेस जीतना चाहती है चुनाव?

    जब देश में कांग्रेस जैसे राजनीतिक दल हों तो पाकिस्तान जैसे दुश्मनों की जरुरत ही क्या। विश्लेषण शुरु करने से पहले आपको थोड़ा पीछे ले चलते हैं। 
    बांग्लादेश में बुरी तरह मात खाने के बाद पाकिस्तानी सैनिक तानाशाह जिया-उल-हक के शासनकाल में दुश्मनों ने भारत को नुकसान पहुंचाने के लिए नई योजना बनाई थी। इसे ‘हजार घावों के जरिए मात देने’ की थ्योरी कहा गया। इसके तहत पाकिस्तानी सेना और उसकी बदनाम खुफिया संस्था आईएसआई ने कई छोटी लेकिन गंभीर साजिशों का सूत्रपात किया। जिसके तहत भारत भूमि पर खालिस्तानी, कश्मीरी सहित पूर्वोत्तर में कई अलगाववादी आंदोलनों को दुश्मनों ने हवा दी। जिससे कि भारत छोटे छोटे आंदोलनों में घिरकर कमजोर हो जाए। 

  • undefined

    ViewsDec 1, 2018, 4:02 PM IST

    सीताराम येचुरी के खोखले दावे, वामपंथी शासन के दौरान सबसे अधिक दुखी थे किसान

    राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में किसानों के आंदोलन के दौरान सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने जमकर शब्दों के बाण चलाए। प्रधानमंत्री के खिलाफ ‘पॉकेटमार’ जैसी अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया। लेकिन ऐसा करते हुए येचुरी अपनी ही पार्टी के पापों को भूल गए। जब पश्चिम बंगाल में वामपंथी शासन के तीन दशकों में किसानों और भूमिहीन मजदूरों को भारी संकट का सामना करना पड़ा था।

  • SITARAM

    NewsNov 14, 2018, 1:03 PM IST

    सीताराम येचुरी ने स्टालिन से की मुलाकात

    माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ महागठबंधन बनाने के विपक्ष के प्रयास को आगे ले जाने के लिए द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन से मुलाकात की। 

  • undefined

    NewsAug 16, 2018, 8:00 PM IST

    सामने आई विपक्ष की संवेदनहीनता

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, जेडीएस के नेता दानिश अली, एनसीपी नेता तारिक अनवर, शरद यादव और हाल ही में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए चंदन मित्रा भी शिरकत करने पहुंचे।

  • undefined

    NewsJul 21, 2018, 6:37 PM IST

    प्रधानमंत्री के भाषण पर लाल बहादुर शास्त्री की नातिन ने कहा कि...

    लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव चर्चा बेहद रोचक रही। पक्ष, विपक्ष दोनों की तरफ से जोरदार हमले बोले गए। कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दलों ने सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोपों की बौछार तो की लेकिन पीएम ने लोकसभा में अपने अंदाज और भाषण से लोगों का दिल जीत लिया।