रायबरेली  

(Search results - 40)
  • <p><strong>Rajasthan<br />
Date of Ban: November 2</strong></p>

<p><br />
Rajasthan Chief Minister Ashok Gehlot was the first to announce the ban on the sale and bursting of firecrackers during Diwali this year. Gehlot said, "State govt has taken the decision to ban the sale and bursting of firecrackers in order to protect the health of COVID-19 infected patients &amp; public from poisonous smoke emanating due to fireworks. In this challenging corona pandemic time, protecting lives of ppl is paramount for govt."</p>

    NewsNov 10, 2020, 7:27 PM IST

    दिवाली से पहले यूपी सरकार ने पटाखों पर लगाया प्रतिबंध, हो रही है आलोचना

    एक आधिकारिक आदेश के अनुसार, एनसीआर क्षेत्र, मुजफ्फरनगर, आगरा, वाराणसी, मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद, कानपुर, लखनऊ, मुरादाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, बागपत, बुलंदशहर में सभी प्रकार के पटाखों की बिक्री और उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

  • sonia protection vapus

    NewsJun 23, 2020, 12:01 PM IST

    रायबरेली में दरक रहा है किला तो अमेठी में दुरूस्त करने में जुटी कांग्रेस

    हालांकि लोकसभा चुनाव के एक साल के बाद अब कांग्रेस को अमेठी का याद आई और वह अपने किले को फिर से मजबूत करने की रणनीति पर काम रही है। अमेठी में भाजपा नेता स्मृति ईरानी की जीत के सालभर बाद ही यहां के लोगों की थाह लेने में जुटी गई है।  इसके लिए कांग्रेस आलाकमान ने जिला कमेटी को निर्देश दिया है कि वह जिले कर छोटी बड़ी घटना पर नजर रखे।

  • undefined

    NewsMay 28, 2020, 1:42 PM IST

    सिंधिया की राह पर चली बागी अदिति, गांधी परिवार के गढ़ में ढह सकता है कांग्रेस का आखिरी किला

    रायबरेली को गांधी परिवार का गढ़ कहा जाता है। लेकिन यहां से कांग्रेस की एकमात्र विधायक अदिति सिंह भी अब जल्द ही कांग्रेस को अलविदा कह सकती हैं। फिलहाल  अदिति सिंह ने कांग्रेस के पूर्व बागी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का अनुसरण करते हैं अपने ट्वविटर एकाउंट से कांग्रेस नाम और लोगो को हटा दिया है। जबकि सिंधिया ने कांग्रेस को छोड़ने से पहले इस तरह से कांग्रेस नाम और लोगो को हटाया था।

  • undefined

    NewsMay 20, 2020, 6:43 PM IST

    बस विवाद में प्रियंका को नहीं मिला पार्टी विधायक का साथ, अकेले पड़ी कांग्रेस महासचिव

    बस विवाद में अब कांग्रेस की विधायक और कभी प्रियंका गांधी की करीबी माना जानी वाली अदिति सिंह भी उतर गई है। उन्होंने सीधे तौर पर प्रियंका गांधी पर हमला बोला है। अदिति सिंह ने प्रियंका गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि  'बस' को लेकर पार्टी की फजीहत हुई  है।

  • undefined

    NewsMay 8, 2020, 11:51 AM IST

    जानें क्योंकि रायबरेली और अमेठी में लग रहे हैं सोनिया और कांग्रेस के खिलाफ नारे

    कुछ दिन पहले ही सोनिया के बयान के बाद विवाद शुरू हो गया था, जब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने घोषणा की थी कि पार्टी प्रवासी श्रमिकों का ट्रेन किराया भुगतान करेगी। कांग्रेस ने भाजपा सरकार को भी घेरा था और आरोप लगाया था कि वह गरीबों पर बोझ डाल रही है। लेकिन सोनिया गांधी का बयान अब उनकी ही मुसीबत बन गया है।

  • gandhi family

    NewsJan 24, 2020, 1:09 PM IST

    अमेठी में बेटे की हार की टीस भुला नहीं पाई सोनिया, कांग्रेस के गढ़ में जनता से दिखाई बेरूखी

    अमेठी को कांग्रेस का गढ़ कहा जाता था। देश में कांग्रेस की स्थिति कुछ भी रही हो, लेकिन अमेठी की जनता ने हमेशा ही कांग्रेस का साथ दिया। वह भले ही सत्ता में रही या फिर विपक्ष में। लेकिन पिछले साल लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के इस गढ़ में सेंध लगाई। भाजपा ने कांग्रेस को इस गढ़ को ही गांधी परिवार से नही छिना बल्कि कांग्रेस के दिग्गज कहे जाने वाले संजय सिंह को भी भाजपा में शामिल करा लिया।

  • undefined

    NewsJan 23, 2020, 8:25 AM IST

    सोनिया गांधी और प्रियंका रायबरेली में, लेकिन मजबूत छत्रप अदिति ने गांधी परिवार से बनाई दूरी

    सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी के रायबरेली दौरे पर हैं, इस इस दौरे में अदिति सिंह की गैरमौजूदगी सबको खटक रही हैं। क्योंकि अदिति सिंह को रायबरेली में कांग्रेस का मजबूत किला जाना जाता है। हालांकि पिछले दिनों प्रदेश कांग्रेस और अदिति सिंह के बीच रिश्तों में तल्खी आई थी। 

  • undefined

    NewsNov 27, 2019, 5:23 PM IST

    नवेली दुल्हन कांग्रेस विधायक अदिति सिंह को पार्टी ने दिया सदस्यता बर्खास्तगी का ‘गिफ्ट’

    अदिति सिंह कांग्रेस की रायबरेली से विधायक है और पिछले कई दिनों से पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं। हालांकि कहा जा रहा है कि अदिति सिंह के राज्य के सीएम योगी आदित्यनाथ से बढ़ी नजदीकियों के कारण पार्टी उन्हें बाहर का रास्ता दिखा रही है। क्योंकि कांग्रेस को आशंका है कि वह जल्द ही पार्टी से अलविदा कह सकती हैं।

  • undefined

    NewsOct 8, 2019, 6:38 AM IST

    अदिति सिंह ने कांग्रेस को दिखाया आईना, नहीं दिया जवाब, कई 'असंतुष्ट' किनारा करने की तैयारी में

    अभी तक कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने पार्टी द्वारा दिए गए नोटिस का जवाब नहीं दिया है। लिहाजा पार्टी उन पर कड़ी कार्यवाही कर किसी तरह का संदेश दे सकता है। लेकिन ये तय है कि अदिति सिंह आने वाले समय में किसी तरह का बड़ा फैसला ले सकती हैं। उनको दिए गए नोटिस की मियाद पूरी हो गई है। लेकिन अदिति सिंह ने पार्टी को कोई जवाब नहीं दिया है।

  • undefined

    NewsOct 3, 2019, 9:23 PM IST

    भाजपा का मिशन रायबरेली शुरू, गांधी परिवार के दूसरे गढ़ को ढहाने की तैयारी में भगवा ब्रिगेड

    असल में इस बार लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के एक गढ़ अमेठी पर कब्जा कर लिया है। लेकिन अब भाजपा की नजर गांधी परिवार के दूसरे गढ़ माने जाने वाले रायबरेली पर है। हालांकि इस बार भाजपा ने कांग्रेस को  बढ़ा झटका दिया था। कांग्रेस और दिग्गज नेता और गांधी परिवार के करीबी माने जाने वाले दिनेश सिंह और उनके परिवार को भाजपा ने पार्टी में शामिल करा कर कांग्रेस को बड़ा झटका दिया था।

  • after voting Congress trying to save last stronghold in raebareli

    NewsOct 3, 2019, 10:17 AM IST

    यूपी में राहुल, प्रियंका की करीबी अदिति हुई बागी, पार्टी छोड़ने की अटकलें

    इससे पहले अदिति सिंह उन नेताओं में शुमार थी। जिन्होंने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने में केन्द्र सरकार की तारीफ की थी। हालांकि कांग्रेस इसके खिलाफ थी। लेकिन अब अदिति सिंह ने कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है। क्योंकि दो अक्टबूर को कांग्रेस के विधायक यात्रा और धरने पर थे। लेकिन अदिति सिंह ने यूपी सरकार द्वारा बुलाए गए विशेष सत्र में हिस्सा लिया। अदिति ने सत्र में भाषण भी दिया। असल में कांग्रेस पार्टी के साथ ही सभी विपक्षी दलों ने दो अक्टूबर को आयोजित उत्तर प्रदेश विधानसभा के विशेष सत्र के बहिष्कार करने की फैसला किया था।

  • Yogi will dochange the move, character and face of the government through cabinet reshuffle in

    NewsAug 28, 2019, 8:27 AM IST

    योगी के दौरे से पहले अस्पताल में बिछाई भगवा रंग की चादर

    मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रायबरेली में राणा बेनी माधोसिंह की प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित करने को वहां पहुंचे थे। असल में अमेठी फतह के बाद भाजपा का पूरा जोर रायबरेली पर है। जहां अभी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी सांसद हैं। जबकि कांग्रेस का ही गढ़ कहे जाने वाले अमेठी में इस बार लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के किले को ध्वस्त कर दिया है। 

  • यह है मामला: पीड़िता ने आरोप लगाया था कि 2017 में नौकरी दिलाने के बहाने कुलदीप सेंगर ने अपने घर पर उसके साथ रेप किया था। घटना के करीब सालभर बाद अप्रैल 2018 में लड़की ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निवास के बाहर आग लगाकर जान देने की कोशिश की थी।

    NewsJul 30, 2019, 11:12 AM IST

    उन्नाव गैंगरेप के आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप की बदली जा सकती है जेल, कई मोबाइल जांच के घेरे में

    सीतापुर जेल में बंद भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की जेल बदली जा सकती है। उन्हें इलाहाबाद या फिर अन्य जेल में शिफ्ट किया जा सकता है। फिलहाल पुलिस कुछ सदिंग्ध मोबाइल नंबरों की जांच कर रही है जो उस दिन सीतापुर जेल के आसपास सक्रिय थे।

  • Unnao rape victim under critical condition while aunity and advocate dead in car accident in raebareli

    NewsJul 28, 2019, 8:57 PM IST

    उन्नाव रेप कांड की पीड़िता का जबरदस्त एक्सीडेंट, चाची और वकील की मौत जबकि पीड़िता की हालत गंभीर

    आज पीड़िता रायबरेली जेल में बंद अपने चाचा से मिलने जा रही थी। उसके साथ उसकी चाची और वकील भी साथ थे। लेकिन उसकी कार की अतरूआ गांव के पास एक ट्रैक के साथ जबरदस्त टक्कर हो गयी। जिसमें उसकी चाची की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि पीड़िता और उसका वकील गंभीर तौर पर घायल हो गए। जिन्हें लखनऊ लाया जा रहा था, जिसमे वकील महेन्द्र सिंह की रास्ते में मौत हो गयी जबकि पीड़िता को गंभीर हालत में लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी स्थिति गंभीर बनी है।

  • BJP set out mission raebareli in congress bastion

    NewsJun 25, 2019, 8:05 AM IST

    तो क्या बीजेपी ने गांधी परिवार के गढ़ में शुरू कर दिया है ‘मिशन रायबरेली’

    असल में बीजेपी ने जिस तरह से पांच साल पहले अमेठी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ तैयारियां शुरू की थी, उसी तरह से अब वह रायबरेली में अपनी तैयारियों को अंजाम दे रही हैं। बीजेपी ये मानकर चल रही है कि भले ही अगले लोकसभा चुनाव पांच साल बाद होंगे, लेकिन रायबरेली में चुनाव के आसार कभी भी बन सकते हैं।