समाजवादी  

(Search results - 212)
  • BSP commencing new strategy to damage SP muslim voters

    News3, Dec 2019, 12:40 PM IST

    अम्बेडकर के जरिए दलितों को साधने के लिए सपा-बसपा में शुरू हुई जंग

    असल में इस साल की शुरूआत में सपा के बैनर और पोस्टरों में आम्बेडर और काशीराम की तस्वीरें दिखाई दी थी तो बसपा के पोस्टर में राममनोहर लोहिया की तस्वीरें दिखाई गई थी। क्योंकि लोकसभा चुनाव के लिए सपा और बसपा के बीच चुनावी गठबंधन हुआ था। दोनों दलों ने लोकसभा चुनाव साथ लड़ा था। लेकिन चुनाव के बाद आए परिणाम में बसपा को दस और सपा को पांच सीटें मिली। 

  • News20, Nov 2019, 7:00 AM IST

    जानें क्यों अखिलेश के लिए मुलायम हो रहे हैं शिवपाल

     शिववाल ने इटावा में बड़ा बयान देते हुए कहा कि वह वे सपा से गठबंधन को तैयार हैं। लिहाजा अब अखिलेश को भी इस बात के लिए तैयार हो जाना चाहिए। लेकिन यहां पर शिवपाल ये भी कहना नहीं भुले कि राज्य में सीएम अखिलेश यादव ही होंगे। शिवपाल ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं कहा कि उन्हें प्रदेश का सीएम बनना है। बल्कि वह अखिलेश के लिए ही कहते थे कि उन्हें प्रदेश का सीएम होना चाहिए। लिहाजा प्रदेश का अगला सीएम अखिलेश ही होंगे। 

  • पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

    News3, Nov 2019, 1:34 PM IST

    उपचुनाव की सफलता के बाद पार्टी को मजबूत करने में जुटे अखिलेश

    फिलहाल अखिलेश ने सबसे पहले संगठनात्मक ढांचे को मजबूत बनाने की कवायद शुरू की है। राज्य में हुए विधानसभा उपचुनाव में सपा 11 में से 3 सीटें जीतने में कामयाब रही। जबकि भाजपा खाते में 8 सीटें आई वहीं बसपा एक भी  सीट नहीं जीत पाई। जिसके बाद पार्टी को लग रहा कि करीब ढाई साल बाद होने वाले चुनाव में  मुख्य मुकाबला भाजपा और सपा के बीच में ही होगा। लिहाजा अभी से पार्टी चुनाव में जुट गई है।

  • News30, Oct 2019, 7:58 PM IST

    मुलायम से मिले योगी, शिवपाल मौजूद लेकिन अखिलेश रहे गायब

    अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की समाजवादी पार्टी के संरक्षक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है। क्योंकि किसी दौर में मुलायम भी राम मंदिर बाबरी मस्जिद को लेकर विवादों में रहे और उन्होंने अयोध्या में कार सेवकों पर गोली चलाई थी और उसके बाद उन्होंने खुद को मुल्ला मुलायम सिंह कहना पसंद किया था। 

  • News27, Oct 2019, 12:01 PM IST

    कार्यकर्ताओं में जोश भरने को फिर साइकिल में पैडल मारेंगे अखिलेश

    असल में अखिलेश यादव को ये बात समझ में आ गई है कि अब आने वाले विधानसभा चुनाव में असल लड़ाई भाजपा और  सपा की है। क्योंकि उपचुनाव में जिस तरह से जनता ने नतीजे दिए हैं। वह किसी भी हाल में भाजपा के पक्ष में नहीं है। क्योंकि भाजपा सत्ताधारी पार्टी है और उसके बाद भी उसे एक सीट का नुकसान हुआ है जबकि सपा को तीन सीटें मिली हैं। उसकी कुल सीटों में दो सीटों का इजाफा हुआ है।

  • mayawati

    News25, Oct 2019, 8:28 AM IST

    क्या पहली बार उपचुनाव में उतरकर माया ने की गलती, गढ़ को भी नहीं बचा पाई बसपा

    बहुजन समाज पार्टी के इतिहास में मायावती ने पहली बार उपचुनाव में किस्मत को आजमाने का फैसला किया था। बसपा इससे पहले कभी उपचुनाव नहीं लड़ी बल्कि वह उपचुनाव के जरिए जनता का  मूड भांपने का काम करती थी। लेकिन पहली बार मायावती की अगुवाई में पार्टी ने राज्य की 11 सीटों पर प्रत्याशियों को उतारे। हालांकि पार्टी ये मान कर चल रही थी कि लोकसभा चुनाव के प्रदर्शन का फायदा उसे मिलेगा। लेकिन बसपा को हार का सामना करना पड़ा। 

  • News25, Oct 2019, 6:20 AM IST

    किला बचाकर आजम हुए सपा में मजबूत, घर में ही रही सीट

    असल में इस सीट पर चुनाव आजम खान के रामपुर से सांसद चुने के बाद हुआ था। ये सीट आजम खान का किला मानी जाती है। अभी तक आजम खान इस सीट पर नौ बार विधायक रह चुके थे। लेकिन एक बार फिर ये सीट उनके घर में ही गई। पार्टी ने इस सीट पर आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा को उतारा था। असल में आजम इस सीट को घर में रखना चाहते थे। 

  • News18, Oct 2019, 7:32 PM IST

    प्रचार न करने के फैसले के बाद रामपुर में आजम की पत्नी का चुनाव प्रचार करेंगे, क्या हैं इसके मायने

    सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव रामपुर विधानसभा सीट में हो रहे उपचुनाव में प्रचार करेंगे। अखिलेश यादव चुनाव प्रचार के अंतिम दिन यानी शनिवार को रामपुर पहुंचेंगे और वहां जनसभा करेंगे। वह रामपुर में आजम खान की पत्नी के लिए वोट मांगेगे। फिलहाल अखिलेश यादव के इस फैसले के बाद राजनीतिक मायने निकाले जाने लगे हैं। क्योंकि अखिलेश यादव ने पहले फैसला किया था कि वह उपचुनाव के लिए चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। उसके बाद अचानक रामपुर में चुनाव प्रचार करना, किसी के समझ नहीं आ रहा है।

  • News17, Oct 2019, 9:22 AM IST

    रामपुर उपचुनाव: आजम का तीन दशक पुराना किला ढहाने की कोशिश में भाजपा

    आजम खान के लोकसभा सदस्य चुने जाने के बाद रामपुर से उपचुनाव हो रहा है। सपा ने आजम की सांसद पत्नी  तंज़ीन फातिमा को टिकट दिया है। इसके भी कई कारण हैं। क्योंकि फातिमा का राज्यसभा का कार्यकाल अगले साल नवंबर तक है। उसके बावजूद वह रामपुर की इस सीट से अपनी किस्मत विधानसभा के लिए आजमा रही हैं। असल में आजम को डर था कि अगर ये सीट किसी बाहरी व्यक्ति को दी गई तो उनके समर्थक नाराज हो सकते हैं।

  • पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

    News15, Oct 2019, 9:32 AM IST

    अस्तित्व के लिए जूझ रही है सपा, लेकिन अखिलेश नहीं करेंगे उपचुनाव में प्रचार

    फिलहाल सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यूपी विधामसभा उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार नहीं करने का फैसला किया है। हालांकि इसके कारण क्या हैं। ये कोई सपा नेता बताने को तैयार नहीं हैं। असल में कुछ नेताओं का ये कहना है कि पार्टी की स्थिति कई सीटों में काफी खराब है। जिसके कारण अखिलेश यादव ने प्रचार न करने का फैसला किया है।

  • News14, Oct 2019, 8:22 AM IST

    जानें क्यों आजम खान का योगी आदित्यनाथ के कारण कम हुआ 22 किलो वजन

    रामपुर से सांसद अब रामपुर की जनता को बता रहे हैं कि उनका 22 किलोग्राम वजन कम हुआ है। ये वजन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कारण कम हुआ है। ये हम नहीं बता रहे हैं बल्कि ये जानकारी आजम खान खुद रामपुर की जनता को दे रहे हैं। रामपुर में आजम खान भूमाफिया घोषित हो चुके हैं और उन पर वहां 84 केस भी दर्ज हैं।

  • sanjay Nirupam

    News4, Oct 2019, 8:01 AM IST

    महाराष्ट्र में अब निरूपम हुए नाराज, जल्द छोड़ सकते हैं कांग्रेस

    महाराष्ट्र में कांग्रेस के तेज तर्रार नेताओं में शुमार और यूपी बिहार का एक चेहरा माने जाने वाले संजय निरूपम भी अशोक तंवर की तरह बागी रूख अपनाए हुए हैं। निरुपम ने यहां तक कह दिया है कि अब पार्टी को कभी भी छोड़ा जा सकता है। जाहिर है कि जल्द ही निरूपम भी पार्टी से किनारा कर सकते हैं। जिसके कारण कांग्रेस की मुश्किलें कम होने की तुलना में बढ़ेंगी। 

  • News4, Oct 2019, 7:55 AM IST

    शिवपाल ने फिर दिखाई सपा को आंख, कहा विलय नहीं गठबंधन संभव

    उत्तर प्रदेश सरकार महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के मौके पर 36 घंटे का विशेष सत्र बुलाया था। जिसका विपक्ष ने विरोध किया था और इसमें शामिल नहीं होने का फैसला किया था। विपक्ष राज्य सरकार के विरोध में गांधी प्रतिमा के पास धरना प्रदर्शन किया वहीं कांग्रेस से इसके लिए पदयात्रा निकाली। लेकिन सपा के विरोध के बावजदू शिवपाल सिंह इस विशेष सत्र में हिस्सा लेन के लिए पहुंचे। सत्र में हिस्सा लेने के बाद शिवपाल सिंह ने कहा कि समाजवादी पार्टी में वापसी का समय खत्म हो गया है।

  • News2, Oct 2019, 4:49 PM IST

    फिर परिवार समेत थाने पहुंचे आजम खान

    आज दूसरी बार आजम खान अपने परिवार के साथ पहुंचे थे। हालांकि दो दिन पहले भी वह एसआईटी के सामने पेश हुए थे। जहां उसे कई सवाल पूछे गए थे। जिसके बाद आजम खान ने एसआईटी से चार दिन का समय मांगा था। हालांकि कल आजम खान लखनऊ में भी एक दूसरे मामले में एसआईटी के सामने पेश हुए थे।

  • News1, Oct 2019, 8:36 AM IST

    शिवपाल ने दिया अखिलेश को झटका, परिवार को लेकर हुए ‘मुलायम’

    प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने सपा और अखिलेश यादव के प्रति नरमी दिखाते हुए कहा कि सपा के लिए अभी भी समय है। उन्होंने कहा कि वह परिवार के लिए फैसला कर सकते हैं। लेकिन उनकी पार्टी का सपा में विलय नहीं बल्कि सपा के साथ चुनावी गठबंधन हो सकता है। शिवपाल ने कहा कि छह महीने पहले लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने इसके लिए कोशिश भी की थी। लेकिन घर के ही षड़यंत्रकारियों ने ऐसा नहीं होने दिया।