Defeat  

(Search results - 51)
  • gandhi family

    News14, Feb 2020, 9:00 AM IST

    कांग्रेस के लिए दिल्ली की हार किसी के लिए बनी कोरोना वायरस तो किसी के लिए सर्जिकल स्ट्राइक

    कांग्रेस के नेता दावा करते हैं कि कांग्रेस ने दिल्ली में लगातार पन्द्रह साल तक राज किया। लेकिन उसके बावजूद कांग्रेस की राज्य की 66 सीटों में से 63 सीटों पर जमानत जब्त हो गई।। जबकि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस दूसरे स्थान पर आई थी और उसका प्रदर्शन राज्य में आप से बेहतर था। लेकिन दिल्ली हार के बाद अब कांग्रेस के दिग्गज नेता  वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा है कि पार्टी को ''सख्ती" से सोचना चाहिए और ये हार पार्टी के लिए कोरोना वायरस की तरह है।

  • कौन हैं जेपी नड्डाः पटना में 1960 में जन्में जगत प्रकाश नड्डा ने बीए और एलएलबी की परीक्षा पटना से पास की थी और शुरु से ही वे एबीवीपी से जुड़े हुये थे। नड्डा जब 16 बरस के थे तो जेपी आंदोलन से जुड़ गए। लिहाजा, राजनीति का ककहरा मंझे राजनेताओं के दौर में सीखने को मिला। इसके बाद सीधे छात्र राजनीति से जुड़ गए। उनकी काबिलियत देखते हुए ही 1982 में उन्हें उनकी पैतृक जमीन हिमाचल में विद्यार्थी परिषद का प्रचारक बनाकर भेजा गया। वहां छात्रों के बीच नड्डा ने ऐसी लोकप्रियता हासिल कर ली थी कि उनके नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश विवि के इतिहास में पहली बार एबीवीपी ने जीत हासिल की। (जेपी नड्डा, पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की फाइल फोटो)

    News12, Feb 2020, 6:23 AM IST

    क्या हैं भाजपा के लिए दिल्ली हार के मायने, कहां फेल हो गई 'भगवा पार्टी'

    भाजपा दिल्ली की सत्ता से पिछले 27 वर्षों से बाहर है और अब उसे अगली लड़ाई के लिए पांच साल के लिए इंतजार करना होगा। चुनाव में भाजपा को महज आठ सीटें मिली हैं वहीं आप को 63 सीटें मिली हैं। जो पिछले विधानसभा चुनाव से चार सीटें कम है। लेकिन एक सच्चाई ये भी है कि भाजपा अपने लोकसभा चुनाव के प्रदर्शन को दोहरा नहीं सकी। जबकि लोकसभा चुनाव हुए महज छह महीने ही हुए हैं। लिहाजा भाजपा को भी सोचना होगा कि कहां पर उससे गलती हुई है।

  • undefined

    News11, Feb 2020, 7:57 PM IST

    दिल्ली में हार, पर झारखंड में भाजपा को मिली अच्छी खबर

    गौरतलब है कि मरांडी ने बागी विधायक दिलीप तिर्की को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था, जबकि दूसरे विधायक को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मुलाकात के लिए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया है। हालांकि दोनों विधायकों पर फैसला विधानसभा अध्यक्ष को करना है। 

  • undefined

    News10, Feb 2020, 10:05 AM IST

    हार के बावजूद सीएम बंगले का मोह नहीं छोड़ पा रहे हैं भाजपा के 'दास'

    राज्य में दो महीने पहले झारखंड मुक्ति मोर्चा की अगुवाई में कांग्रेस और राजद की सरकार बन चुकी है। जबकि हेमंत सोरेन राज्य के सीएम के तौर पर शपथ लेने के बाद कैबिनेट का विस्तार कर चुके हैं। लेकिन राज्य के पूर्व सीएम रघुवर दास का अपने सरकारी बंगले से मोह नहीं छूट रहा है। लिहाजा उन्होंने राज्य सरकार से सरकारी बंगला आवंटित करने को कहा है। 

  • Cricket

    News2, Feb 2020, 6:21 PM IST

    न्यूजीलैंड को हराकर भारत ने रचा इतिहास

    भारतीय टीम ने विदेशी धरती पर मेजबान टीम को टी-20 मैचों की सीरिज में 5-0 से हराया है। ऐसा करने वाली भारतीय टीम पहली टीम बनी है। भारतीय टीम ने आज माउंट माउंगानुई में पांचवें और अंतिम टी-20 के मुकाबले में सात रन से जीत दर्ज की। भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने चार ओवरों में 12 रन देकर तीन विकेट लिए।

  • undefined

    News29, Jan 2020, 11:27 AM IST

    चुनाव से दूर क्यों हैं कांग्रेस के दिग्गज, भाजपा, आप को पटखनी देने के लिए क्या है प्लान

    अपनी रणनीति के तहत कांग्रेस पार्टी अंतिम पांच दिनों के भीतर ही दिल्ली में धुआंधार प्रचार करेगी। इसके जरिए वह विपक्षी दलों को मात देना चाहती है। इसके लिए कांग्रेस पार्टी ने एक्शन प्लान तैयार किया है। जिसके जरिए वह आखिरी दिनों में जनता से कनेक्ट करेगी। अभी तक कांग्रेस पार्टी का प्रचार सबसे फीका और इसको देखते हुए लग रहा है कि कांग्रेस ने चुनाव से पहले हार मान ली है।

  • undefined

    News27, Jan 2020, 7:01 PM IST

    क्यों दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने मान ली हार, पायलट क्यों बोले नहीं मिलेगी पार्टी को जीत

    सचिन पायलट ने दावा किया है कि चुनावों में कांग्रेस पार्टी को जीत नहीं मिल सकता है। जबकि राज्य में आम आदमी पार्टी सरकार बनाएगी। पायलट का बयान चुनाव से पहले काफी अहम माना जा रहा है। क्योंकि भले ही पार्टी में दिल्ली में कितने ही दावे क्यों न कर ले वह भाजपा और आप से मजबूत स्थिति में नहीं है।

  • gandhi family

    News24, Jan 2020, 1:09 PM IST

    अमेठी में बेटे की हार की टीस भुला नहीं पाई सोनिया, कांग्रेस के गढ़ में जनता से दिखाई बेरूखी

    अमेठी को कांग्रेस का गढ़ कहा जाता था। देश में कांग्रेस की स्थिति कुछ भी रही हो, लेकिन अमेठी की जनता ने हमेशा ही कांग्रेस का साथ दिया। वह भले ही सत्ता में रही या फिर विपक्ष में। लेकिन पिछले साल लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के इस गढ़ में सेंध लगाई। भाजपा ने कांग्रेस को इस गढ़ को ही गांधी परिवार से नही छिना बल्कि कांग्रेस के दिग्गज कहे जाने वाले संजय सिंह को भी भाजपा में शामिल करा लिया।

  • undefined

    News23, Jan 2020, 2:23 PM IST

    सावरकर,भगवा और हिंदुत्व, शिवसेना को मात देने की तैयारी में राज!

    शिवसेना के संस्थापक बालासाहेब ठाकरे की जयंती के मौके पर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने अपने अधिवेशन की शुरूआत की। इस सम्मेलन में राज ठाकरे ने नया भगवा झंडा लॉन्च किया। वहीं उन्होंने हिंदुत्व और सावरकर की भी फोटो लगाई। जिससे इसका बात का अर्थ आसानी से समझा जा सकता है कि राज ठाकरे की पार्टी बदलने वाली है।

  • Citizenship law implemented in all over country kps

    News12, Jan 2020, 11:27 AM IST

    झारखंड में हार के बाद जानें किस नेता पर दांव लगाएगी भाजपा

    विधानसभा चुनाव में राज्य में भाजपा के सभी ‘मजबूत किले’ ध्वस्त हो गए थे। यहां तक कि राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास भी चुनाव हार गए थे। रघुवर दास को पार्टी के बागी सरयू राय ने हराया था। लिहाजा अब भाजपा राज्य में किसी नए चेहरे के जरिए पार्टी को मजबूत करना चाहती है। इसके लिए पार्टी ने आदिवासी चेहरे पर दांव खेलने की योजना बनाई है। 

  • undefined

    News24, Dec 2019, 7:42 AM IST

    जाने कैसे झारखंड में हार के बाद भी जीत गई भाजपा

    फिलहाल भाजपा की राज्य की सत्ता से बाहर हो चुकी है और इसका मलाल भाजपा के नेताओं को है। लेकिन इस हार के बावजूद भाजपा के लिए झारखंड एक अच्छी खबर भी है। क्योंकि इस चुनाव में भाजपा का वोट प्रतिशत भी बढ़ा है। जबकि उसके सहयोगी दलों का भी वोट प्रतिशत बढ़ा है, जिन्होंने गठबंधन न होने के कारण भाजपा के खिलाफ ही चुनाव लड़ा है।

  • undefined

    News7, Nov 2019, 8:37 AM IST

    जानें क्यों उपचुनाव हार के बाद माया ने फिर भंग की सभी जिला इकाइयां

    लोकसभा चुनाव में मिली दस सीटों से गदगद मायावती ने पार्टी संगठन में फेरबदल किया था। लेकिन महज छह महीने में ही विधानसभा उपचुनाव में बसपा को करारी हार मिली है। पार्टी एक भी सीट नहीं जीत पाई है वहीं अंबेडकरनगर की सीट में पार्टी को हार मिली है। यही नहीं रामपुर में पार्टी के प्रत्याशी की जमानत भी नहीं बची है। जिसके बाद मायावती ने फिर से संगठन में बदलाव किया है। 

  • undefined

    News28, Oct 2019, 8:31 PM IST

    इधर चचेरी बहन को चुनाव में हराया उधर बैंक ने जब्त कर लिया है फ्लैट, जानें कौन है ये विधायक

    चुनाव जीतने के बाद मुंडे अपनी बहन के खिलाफ किसी भी  कार्यकर्ता को बयान नहीं देने का आदेश दिया था। मुंडे एनसीपी नेता और प्रमुख शरद पवार के खास माने जाते हैं। लेकिन अब मुंडे का फ्लैट सहकारी बैंक ने जब्त कर लिया है। बैंक का कहन है कि मुंडे ने 70 लाख रुपये का कर्ज लिया था।

  • undefined

    News15, Oct 2019, 7:57 AM IST

    क्या हार के डर से अशोक गहलोत ने बदला अपना ही फैसला

    असल में राजस्थान में निकाय चुनाव होने हैं। पहले सरकार ने फैसला किया था कि निकायों के प्रमुखों का चुनाव सीधे जनता से कराया जाएगा। लेकिन बाद में सरकार ने इसे बदलते हुए नया आदेश दिया है कि चुने गए प्रतिनिधि ही निकाय प्रमुख का चुनाव करेंगे। ऐसे में विपक्ष दल भाजपा को मौका मिल गया है। जिसके बाद राज्य में राजनीति शुरू हो गई है। 

  • sachin

    News18, Sep 2019, 7:44 AM IST

    ‘हाथी’ के जरिए मजबूत हुए गहलोत तो चित हुए पायलट

    अपने जादू से किसी दौर में लोगों को अपने बस मे करने वाले राज्य के सीएम अशोक गहलोत के छह विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया है। हालांकि गहलोत ऐसा पहले भी कर चुके हैं। 2009 में जब राज्य में कांग्रेस की सरकार थी और अशोक गहलोत मुख्यमंत्री थे तो उस वक्त भी उन्होंने बसपा के छह विधायकों को तोड़कर पार्टी में शामिल कराया था।