Delhi Assembly  

(Search results - 57)
  • ভোটে  জিতে 'আই লাভ ইউ' বলে দিল্লিবাসীর প্রতি বার্তা দেন অরবিন্দ কেজরিওয়াল।

    NewsFeb 13, 2020, 6:27 AM IST

    दिल्ली में नई सरकार, पर रह सकती है पुरानी कैबिनेट

    माना जा रहा है कि आप सरकार कैबिनेट में संगठन से ज्यादा लोगों के पक्ष में नहीं है और मंत्रियों के प्रदर्शन के आधार पर उन्हें बाद में शामिल किया जाएगा। पार्टी का मानना है कि निवर्तमान कैबिनेट के मंत्रियों ने अच्छा काम किया है लिहाजा नए लोगों को कैबिनेट में शामिल करने की जरूरत नहीं होगी। कैबिनेट में अरविंद केजरीवाल के साथ ही मनीष सिसोदिया ,सत्येंद्र जैन, गोपाल राय, राजेंद्र पाल गौतम, इमरान हुसैन और कैलाश गहलोत को शुरूआत में शामिल किया जाएगा।

  • undefined

    NewsFeb 12, 2020, 7:59 PM IST

    कांग्रेस में होगा बदलाव, लेकिन कौन संभालेगा डूबती हुई नैया

    विधानसभा चुनाव में हार के बाद दिल्ली कांग्रेस में इकाई के बड़े पैमाने पर होने की संभावना है। कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन के 70 में से 67 उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त हो गई। कांग्रेस में महज तीन प्रत्याशी ही अपनी  जमानत बचा पाए। लिहाजा कांग्रेस का अब तक का दिल्ली में खराब प्रदर्शन है। हालांकि हार के बाद भी पार्टी में गुटबाजी देखी जा रही है। क्योंकि पीसी चाको ने हार के बाद कहा कि दिल्ली में पार्टी को कमजोर करने में दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की अहम भूमिका रही थी। 

  • undefined

    NewsFeb 12, 2020, 3:15 PM IST

    दिल्ली विधानसभा परिणाम के बाद कांग्रेस में घमासान

    मंगलवार को परिणाम घोषित होने के बाद कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने इस्तीफा दिया था। पहली बार कांग्रेस को 63 सीटों में जबरदस्त शिकस्त मिली है और वह 66 में से 63 सीटों पर जमानत तक नहीं बचा पाई है। वहीं कांग्रेस में स्थानीय नेता राष्ट्रीय स्तर के नेताओं को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं तो राष्ट्रीय स्तर के नेता इसके लिए प्रबंधन को जिम्मेदार बता रहे हैं। 

  • कौन हैं जेपी नड्डाः पटना में 1960 में जन्में जगत प्रकाश नड्डा ने बीए और एलएलबी की परीक्षा पटना से पास की थी और शुरु से ही वे एबीवीपी से जुड़े हुये थे। नड्डा जब 16 बरस के थे तो जेपी आंदोलन से जुड़ गए। लिहाजा, राजनीति का ककहरा मंझे राजनेताओं के दौर में सीखने को मिला। इसके बाद सीधे छात्र राजनीति से जुड़ गए। उनकी काबिलियत देखते हुए ही 1982 में उन्हें उनकी पैतृक जमीन हिमाचल में विद्यार्थी परिषद का प्रचारक बनाकर भेजा गया। वहां छात्रों के बीच नड्डा ने ऐसी लोकप्रियता हासिल कर ली थी कि उनके नेतृत्व में हिमाचल प्रदेश विवि के इतिहास में पहली बार एबीवीपी ने जीत हासिल की। (जेपी नड्डा, पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की फाइल फोटो)

    NewsFeb 12, 2020, 6:23 AM IST

    क्या हैं भाजपा के लिए दिल्ली हार के मायने, कहां फेल हो गई 'भगवा पार्टी'

    भाजपा दिल्ली की सत्ता से पिछले 27 वर्षों से बाहर है और अब उसे अगली लड़ाई के लिए पांच साल के लिए इंतजार करना होगा। चुनाव में भाजपा को महज आठ सीटें मिली हैं वहीं आप को 63 सीटें मिली हैं। जो पिछले विधानसभा चुनाव से चार सीटें कम है। लेकिन एक सच्चाई ये भी है कि भाजपा अपने लोकसभा चुनाव के प्रदर्शन को दोहरा नहीं सकी। जबकि लोकसभा चुनाव हुए महज छह महीने ही हुए हैं। लिहाजा भाजपा को भी सोचना होगा कि कहां पर उससे गलती हुई है।

  • आम आदमी पार्टी को दिल्ली विधानसभा चुनाव में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए किशोर ने AAP को "गारंटी कार्ड" योजना का आइडिया दिया। जिसमें जनता के लिए ढेरों मूलभूत चीजों को मुफ्त मुहैया करवाने का वादा किया गया है।

    NewsFeb 11, 2020, 8:05 PM IST

    आप की जीत के बाद पीके जल्द करेंगे अगले कदम का खुलासा


    दिल्ली विधानसभा चुनावों में आप की जीत ने फिर से चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को मजबूत किया है। हालांकि पहले ये कयास लगाए जा रहे थी कि चुनाव के बाद पीके या तो टीएमसी में शामिल हो सकते हैं या फिर वह आप का दामन थामेंगे। लेकिन आप  की जीत ने प्रशांत किशोर के लिए कई सियासी पार्टियों के दरवाजे खोल दिए हैं। 

  • undefined

    NewsFeb 11, 2020, 7:57 PM IST

    दिल्ली में हार, पर झारखंड में भाजपा को मिली अच्छी खबर

    गौरतलब है कि मरांडी ने बागी विधायक दिलीप तिर्की को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया था, जबकि दूसरे विधायक को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मुलाकात के लिए पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया है। हालांकि दोनों विधायकों पर फैसला विधानसभा अध्यक्ष को करना है। 

  • undefined

    NewsFeb 11, 2020, 2:50 PM IST

    दिल्ली वाले पूर्वांचलियों ने ही नकार दी बिहार की पार्टियां

    चुनाव में भाजपा ने जनता दल यूनाइेटड के लिए दो सीटें और एक सीट लोक जनशक्ति पार्टी के लिए छोड़ी थी जबकि कांग्रेस ने चार सीटें राजद के लिए छोड़ी थी। लेकिन चुनाव के बाद ये दल एक भी सीट नहीं जीत पाए यही नहीं पूर्वांचल बाहुल्य सीटों पर ये दल उम्मीद के मुताबिक वोट भी हासिल नहीं कर पाई हैं।

  • शुरुआती रुझान देखकर आप कार्यकर्ताओं में खुशी का माहौल है। पार्टी दफ्तर के सामने कार्यकर्ताओं ने ढोल-नगाड़ों पर जमकर डांस किया।

    NewsFeb 11, 2020, 10:15 AM IST

    दिल्ली का दंगल: शुरूआती परिणाम में आप आगे पर भाजपा की सीटों में सुधार

    फिलहाल दिल्ली में आम आदमी पार्टी के कार्यालय में जश्न का माहौल है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पार्टी कार्यालय में पहुंच गए हैं। रूझानों को देखकर लग रहा है कि पार्टी ने दिल्ली की सत्ता में वापसी कर ली है। हालांकि चुनाव परिणाम कोई चौंकाने वाले नहीं हैं। क्योंकि एक्जिट पोल में सभी ने फिर से दिल्ली की सत्ता पर आप की वापसी की भविष्यवाणी की थी। 

  • चुनाव में वोट डालने पहुंची 110 साल की कलितारा मंडल की भी काफी चर्चा हुई।

    NewsFeb 11, 2020, 6:38 AM IST

    किसके लिए आज मंगल होगी दिल्ली की सत्ता, चुनाव परिणाम पर सबकी नजर


    दिल्ली चुनाव परिणामों को नागरिकता कानून से भी जोड़ा जा रहा है। क्योंकि इस कानून को लागू करने के बाद भाजपा झारखंड में चुनाव हार चुकी है। वहीं लोगों का कहना है कि नागरिकता कानून का असर भाजपा को दिल्ली में भी देखने को मिलेगा। वहीं सियासी पंडितों का कहना है कि दिल्ली में भाजपा को मजबूत करेगी।
     

  • Supreme Court  said,Reservation for promotion is not a fundamental right of anyone kps

    NewsFeb 10, 2020, 8:56 AM IST

    शाहीन बाग को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में होगी 'जनता' की सुनवाई

    दिल्ली के शाहीन बाग में करीब दो महीने से नागरिकता संसोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शन करने वालों ने सड़क पर कब्जा कर रखा है। जिसके कारण दिल्ली से नोएडा और नोएडा से दिल्ली और हरियाणा जानें वाले लाखों लोगों को रोजाना दिक्कतों को सामना करना पड़ रहा है। लिहाजा अब परेशान जनता ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इसके लिए जनता ने पिछले दिनों शाहीन बाग में भी प्रदर्शन किया था।

  • undefined

    NewsFeb 9, 2020, 7:47 PM IST

    क्या आप को मजबूत करने के लिए दिल्ली में कमजोर हुई है कांग्रेस!

    राज्यसभा सांसद केटीएस तुलसी ने कहा है कि कांग्रेस ने वोटों को ध्रुवीकरण को रोकने के लिए दिल्ली में खुद को कमजोर किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस ने आप को दिल्ली में मजबूत किया है। लिहाजा चुनाव में कांग्रेस कहीं भी नजर नही आई और मुकाबला भाजपा और आप के बीच में सिमट गया।
     

  • undefined

    NewsFeb 9, 2020, 12:36 PM IST

    दिल्ली चुनाव को लेकर जानें क्यों परेशान हैं सट्टेबाज, केजरीवाल हैं पहली पसंद

    राजस्थान का फलौदी दुनियाभर का सबसे बड़ा सट्टा बाजार है। लेकिन इस बार यहां के सट्टेबाज परेशान हैं। क्योंकि दिल्ली को लेकर अच्छा सट्टा नहीं लग रहा है। क्योंकि यहां पर मुकाबला एक तरफा  है। जिसके कारण सट्टे के बाजार  में ज्यादातर भविष्यवाणियां आप की सरकार को लेकर हैं। इस बात को लेकर सट्टेबाज परेशान हैं।

  • शीला दीक्षित के निधन के बाद इस वक्त कांग्रेस के पास कोई बड़ा चेहरा नहीं है जो केंद्र शासित राज्य में पार्टी के लिए कोई करिश्मा दिखा सके। दिल्ली में कांग्रेस के प्रदर्शन का सारा दारोमदार गांधी परिवार के कंधों पर ही है। पार्टी 2015 के चुनाव में खाता भी नहीं खोल पाई थी। अब दिल्ली जीतने के लिए जरूरी है कि दलित और अल्पसंख्यक मतदाता कांग्रेस के साथ जुड़े जो उससे टूट कर आप और बीजेपी के खेमे में चले गए हैं।   वाराणसी मे प्रियंका के साथ कांग्रेस के कई दिग्गज नेता नजर आए। इनमें कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला, अजय राय और यूपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू प्रमुखता से शामिल रहे।

    NewsFeb 9, 2020, 10:59 AM IST

    दिल्ली में चुनाव प्रचार से दूर रहने वाली प्रियंका फिर पहुंची यूपी के मंदिरों की शरण में

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी यूपी में सक्रिय हैं। प्रियंका ने  2022  को होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी को सक्रिय करना शुरू कर दिया है। पार्टी आलाकमान ने भी प्रियंका गांधी को यूपी में पूरी तरह से छोड़ दिया है। यूपी के फैसले प्रियंका गांधी ही ले रही हैं और इसमें किसी अन्य का कोई हस्तक्षेत्र नहीं है। लोकसभा चुनाव से पहले जिस तरह से प्रियंका गांधी वाड्रा ने यूपी में मंदिरों के दर्शन किए थे।

  • Delhi elections, Delhi voting, Delhi firing, Delhi assembly elections, firing, CM Kejriwal, Arvind Kejriwal

    NewsFeb 7, 2020, 8:57 PM IST

    मतदान से पहले केजरीवाल 'हिंदू-मुसलमान' वाले वीडियो में फंसे , चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

    फिलहाल कल दिल्ली में मतदान होना है और इसके लिए आम आदमी पार्टी ने जमकर तैयारियों की है। अभी तक दिल्ली की सत्ता पर आप काबिज है। लेकिन मतदान से पहले चुनाव आयोग ने आप की मुश्किलें बढ़ा दी है। क्योंकि आप के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने सोशल मीडिया में एक वीडियो पोस्ट किया था। जो आपत्तिजनक है और इसकी शिकायत भाजपा ने चुनाव आयोग से की थी।

  • undefined

    NewsFeb 4, 2020, 8:20 AM IST

    आप आज दिल्ली के लिए जारी करेगी घोषणा पत्र

    दिल्ली में आठ फरवरी को मतदान होना है और 11 फरवरी को इसके परिणाम आने हैं। वहीं कांग्रेस और भाजपा पहले ही अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी कर चुकी हैं। आप दिल्ली की सत्ता मे 2015 से काबिज है। लिहाजा वह जनता को  कुछ अलग करने के वादे चुनाव में कर रही है। हालांकि पहले दिल्ली में आप सरकार दिल्ली को पूर्ण राज्य  का दर्जा  देने की मांग करती आई है। लेकिन इस बार आम लोगों से जुड़ी समस्याओं का वादा करेगी।