Legacy  

(Search results - 4)
  • <p><strong>पटना (Bihar) ।</strong>&nbsp;राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने खुद पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह की नाराजगी को दूर करने के लिए पहल की है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा है कि रघुवंश बाबू के इस्तीफे को आलाकमान ने खारिज कर दिया है। साथ ही कहा कि रघुवंश प्रसाद हमारी पार्टी के पुराने और विश्वसनीय नेता हैं। उनसे बात होगी तो मामला साफ हो जाएगा। हालांकि रामा सिंह के राजद ज्वाइन करने के सवाल को तेजस्वी ने टाल दिया, लेकिन इतना जरूर कहा कि उनके स्वस्थ होने के बाद उनसे मिलकर नाराजगी को दूर करने का प्रयास किया जाएगा।&nbsp;</p>

    News26, Jun 2020, 9:54 AM

    लालू की विरासत को संभाल नहीं पा रहे हैं तेजस्वी, लगातार हो रही है बगावत

    माना जा रहा कि राजद में बगावत लालू प्रसाद और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की राजनीति में पीढ़ी का अंतर है और यही अंतर पार्टी में होने वाली बगावत में डाल रहा है। राजद में तेजस्वी पुरानी पीढ़ी के दरकिनार कर अपनी टीम को बनाना चाहते हैं और इसलिए कभी लालू के साथ साये की तरह साथ रहने वाले वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी कर रहे हैं।

  • Indian spiritual legacy is leading our nation in the world

    Spirituality12, Sep 2019, 8:18 AM

    अपने आध्यात्मिक ज्ञान के प्रकाश में विश्व गुरु होने के मार्ग पर बढ़ रहा है भारत

    भारत अब तेजी से वैश्विक पटल पर अपनी पुराना स्थान हासिल कर रहा है। इसकी वजह है कर्म की प्रधानता वाले समाज की फिर से स्थापना और आध्यात्मिक ज्ञान का पुनर्जागरण। भारत के वर्तमान नेतृत्व की आध्यात्मिक विरासत के कारण ही पिछले कुछ वर्षों में वैश्विक समुदाय के बीच भारत का सम्मान तेजी से बढ़ता हुआ दिख रहा है। 
     

  • Sonia-Sheila

    News5, Sep 2019, 12:21 PM

    दिल्ली में कौन संभालेगा शीला की विरासत, दीक्षित परिवार पर दांव खेल सकती है कांग्रेस

    असल में कांग्रेस में पहले इस बात की चर्चा थी कि दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पर पंजाब के नेता नवजोत सिंह सिद्धू या फिर बिहार के नेता और फिल्म स्टार शत्रुध्न सिन्हा को प्रदेश की कमान सौंपी जा सकती है। लेकिन पिछले दिनों प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने साफ कर दिया था कि दिल्ली में किसी बाहरी को इसकी कमान नहीं सौंपी जाएगी। 

  • undefined

    News24, May 2019, 6:04 PM

    नेताओं के बेटे हारे पर बेटियों ने बचाई सियासी विरासत

    राजनीतिक विरासत को लेकर अक्सर यही माना जाता है कि बेटा पिता के नक्शेकदम पर चलकर सार्वजनिक जीवन में बड़ी सफलता हासिल करेगा, लेकिन इस बार के आम चुनाव में यह गलत साबित हुआ। मशहूर सियासी लोगों के बेटों को 17वीं लोकसभा के चुनाव में पराजय का कड़वा स्वाद चखना पड़ा।