Political Parties  

(Search results - 21)
  • <p>2014 నుండి 2019 వరకు చంద్రబాబునాయుడు కొన్ని జిల్లాల్లో పార్టీ నేతల మధ్య సమస్యలను పరిష్కారం కాలేదు.. చంద్రబాబునాయుడు కొన్ని జిల్లాల్లో రెండు వర్గాల మధ్య సఖ్యత కోసం చేసిన ప్రయత్నాలు ఆశించిన ఫలితాలు ఇవ్వలేదు.2004 నుండి 2014 వరకు ఉమ్మడి ఏపీ రాష్ట్రంలో చంద్రబాబునాయుడు పార్టీ కార్యక్రమాలపై కేంద్రీకరించాడు. నిత్యం సమీక్షలు, టెలి కాన్ఫరెన్స్ లతో పార్టీ నేతలతో బాబు టచ్ లో ఉండేవాడు.&nbsp;</p>

    NewsSep 16, 2020, 9:58 AM IST

    बिहार में सियासी दलों को मिले सिंबल, किसी को 'कड़ाही' तो किसी को मिली 'कैंची'

    राज्य में चुनाव का ऐलान कभी भी किया जा रहा है और इससे पहले चुनाव आयोग ने कई राजनीतिक दलों का सिंबल बदल दिए हैं। जिन दलों की राज्य स्तर पर चुनाव आयोग की मान्यता होती है

  • <p>निर्वाचन चुनाव आयोग ने कहा है कि मतदाता रजिस्टर पर साइन करने और ईवीएम का बटन दबाने के पहले वोटरों को ग्लव्स पहनना होगा। इसको देखते हुए निर्वाचन विभाग ने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किया है।</p>

    NewsSep 10, 2020, 7:49 AM IST

    बिहार में जल्द हो सकता है चुनाव की तारीखों का ऐलान, सियासी दल भी मैदान में उतरे

    माना जा रहा है कि बाढ़ की सबसे अधिक आशंका वाले इलाकों में चुनाव आयोग सबसे आखिरी चरण में चुनाव कराएगा। राज्य की 243 सीटों के लिए मतदान होना है और राज्य की विधानसभा का कार्यकाल 29 नवंबर को खत्म हो रहा है।

  • <p>उत्तर प्रदेश के पशुधन विभाग में करोड़ों के घोटाले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में दो सीनियर IPS डीआईजी रूल्स और मैनुअल दिनेश दुबे और डीआईजी PAC अरविंद सेन को सस्पेंड कर दिया है।</p>

    NewsAug 26, 2020, 8:07 AM IST

    यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले सियासी दलों का होगा टेस्ट, योगी सरकार ने दिए संकेत

    राज्य में ये चुनाव अगले साल के पहले तीन महीने में होते हैं तो ये राज्य सरकार और विपक्षी दलों के लिए एक टेस्ट होंगे। क्योंकि 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं और जो इन  चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगा। उसके लिए विधानसभा चुनाव  की राह आसान होगी। 

  • കര്‍ശന പരിശോധനയെ തുടര്‍ന്ന് ആളൊഴിഞ്ഞ പാര്‍ലമെന്‍റ് പരിസരം.

    NewsMar 23, 2020, 2:51 PM IST

    संसद में दिखा कोरोना का असर, अनिश्तिचतकाल के लिए स्थगित हुई संसद

    देशभर में कोविद -19 के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए राजनैतिक दलों ने मौजूदा सत्र से दूरी बनानी शूरू कर दी थी। हालांकि अभी तक संसद का  शीतकालीन सत्र रद्द नहीं किया है। लेकिन राजनैतिक दलों ने दूरी बनानी शुरू कर दी है। आज सरकार ने लोकसभा में वित्त विधेयक को सूचीबद्ध किया है और ये आज ही पारित हो गया है। र

  • ലക്നൗവിലും സംഭാലിലും ആക്രമണമുണ്ടായി. സര്‍ക്കാര്‍ ശക്തമായി നേരിടും. പൊതുമുതല്‍ നശിപ്പിക്കുന്നവരില്‍ നിന്ന് തന്നെ ഈടാക്കും. സിസിടിവി ദൃശ്യങ്ങളും വീഡിയോകളും പരിശോധിച്ച് പ്രതിഷേധക്കാര്‍ക്കുനേരെ പ്രതികാര നടപടിയെടുക്കുമെന്നും അദ്ദേഹം പറഞ്ഞു.

    NewsDec 24, 2019, 9:06 AM IST

    दंगाईयों ने पटना में मंदिरों में की तोड़फोड़, तोड़ा हनुमान मंदिर लेकिन राजनैतिक दल खामोश

    पटना में दो दिन पहले राजद और उसके सहयोगी दलों ने बिहार बंद का आयोजन किया था। इसमें राजद  के कार्यकर्ताओं ने पूरे राज्य में सरकारी संपत्ति वाहनों को नुकसान पहुंचाया। नागरिकता कानून को लेकर बिहार से लेकर पूरे देशभर में प्रदर्शन हो रहे हैं। लेकिन अभी तक किसी भी राज्य में प्रदर्शनकारियों ने अन्य धर्मों के धार्मिक स्थलों को छति नहीं पहुंचाई। 

  • Political parties are targeting Hindus through Hinduphobia

    NewsNov 26, 2019, 6:17 PM IST

    हिंदूफोबिया के जरिए हिंदूओं को निशाना बना रहे हैं राजनैतिक दल

    मौजूदा समय में देश में हिंदूपोबिया अपने चरम पर है। हम जहां भी देखते हुए हम केवल हिंदुओं के खिलाफ घृणा और झूठे तथ्यों को प्रसारित किया जा रहा है। ताकि हम लोगों दोषी महसूस कराया जा सके। हमारी संस्कृति और इतिहास हमेशा पौराणिक कथाओं की अवहेलना की जा रही है और इसे गलत तरह से स्थापित किया जा रहा है। इस श्रेणी में शामिल होने वाले नवीनतम व्यक्ति आम आदमी पार्टी के विधायक, राजेंद्र पाल गौतम हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि अगर राम और कृष्ण हमारे पुरखे हैं, तो वे हमें इतिहास में क्यों नहीं पढ़ाते? हमारे पूर्वजों का इतिहास अच्छी तरह से मालूम है जबकि राम और कृष्ण पौराणिक हैं। इसके लिए उन्होंने पेरियार की बातों को प्रमाण के साथ दिया है।

  • amit shah

    NewsOct 19, 2019, 6:51 PM IST

    महाराष्ट्र और हरियाणा में थमा चुनाव प्रचार, सोमवार को जनता जर्नादन करेंगी किस्मत का फैसला

    पीएम मोदी ने हरियाणा के ऐलनाबाद में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस और उसके नेताओं ने देश की आस्था, परंपरा और संस्कृति को कभी सम्मान नहीं दिया। कांग्रेस की सोच जिस तरह के हमारे पवित्र और धार्मिक स्थलों के प्रति रही वैसी ही सोच उनकी जन्मू कश्मीर के प्रति थी। देश 70 वर्ष तक समस्याओं से जूझता रहा और वह मजे करते रहे और समस्याओं को उलझाते रहे।

  • yogi with maya

    NewsSep 2, 2019, 2:48 PM IST

    यूपी में 2022 से यूपी में राजनैतिक दलों की हैसियत बताएंगे उपचुनाव

    राज्य में 13 विधानसभा सीटों पर जल्द ही उपचुनाव होने हैं। एक सीट के लिए चुनावा आयोग ने तारीख की घोषणा कर दी है। जबकि 12 सीटों पर जल्द ही चुनाव की घोषणा होनी है। ऐसे में सभी राजनैतिक दलों ने अपने अपने प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया। इस मामले में सबसे पहले बसपा ने इन सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा की है जबकि सपा ने एक सीट पर नाम घोषित किया है जबकि भाजपा ने किसी को प्रत्याशी नहीं बनाया है।

  • Political parties himself kept away from the iftar party, organising bhandara in up

    NewsJun 4, 2019, 9:55 AM IST

    जानें क्यों सियासी दलों ने बनाई इफ्तार पार्टियों से दूरी और शुरू कर दिए भंडारे

    राज्य में कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी रमजान में बड़े स्तर पर इफ्तार पार्टियों का आयोजन किया करती थी। जिसमें मुस्लिम समाज के लोगों के साथ ही सभी धर्म के लोगों को आमंत्रित किया जाता था। ताकि इसके जरिए अपनी धर्मनिरपेक्षता की छवि बरकरार रखा जा सके। लेकिन राज्य में 2014 के बाद जिस तरह से सिसायी माहौल बदला हुआ है। उसी तरह से राजनैतिक दलों ने इन इफ्तार पार्टियों से दूरी बनानी शुरू कर दी है। 

  • Small political parties failed to existence in uttar pradesh general

    NewsMay 26, 2019, 2:56 PM IST

    यूपी में अस्तित्व बचाने में विफल हुए छोटे राजनैतिक दल

    इस चुनाव में बड़े राजनैतिक दलों के साथ ही छोटे दलों की भी अग्नि परीक्षा थी। जिसमें ये दल बुरी तरह से विफल हुए हैं। यहां तक इन दलों को मिला वोट प्रतिशत इतना कम है कि इन राजनैतिक भविष्य पर संकट मंडराने लगा है। शिवपाल सिंह की पार्टी प्रसपा इस बात को लेकर खुश जरूर हो सकती है कि उसने समाजवादी पार्टी का वोट काटा और दो सीटों पर वह एसपी की हार का बड़ा कारण बनी।

  • bjp congress ldf

    NewsMay 19, 2019, 5:45 PM IST

    फेसबुक, गूगल पर चुनाव प्रचार में खर्च हुए 53 करोड़ रुपये, बीजेपी ने किया टॉप

    फेसबुक की विज्ञापन से जुड़ी रपट के मुताबिक इस साल फरवरी की शुरुआत से 15 मई तक उसके मंच पर 1.21 लाख राजनीतिक विज्ञापन चले। इन विज्ञापनों पर राजनीतिक दलों ने 26.5 करोड़ रुपये खर्च किए।

  • in Lok Sabha election will decide fate of small political parties in UP, vote katuwa or will survive

    NewsMay 17, 2019, 4:06 PM IST

    लोकसभा चुनाव तय करेगा किस्मत, वोटकटवा या फिर सदन में दस्तक देंगे छोटे राजनैतिक दल

    उत्तर प्रदेश में इस बार आधा दर्जन से ज्यादा छोटे दलों ने राष्ट्रीय या फिर क्षेत्रीय दलों के साथ चुनावी गठजोड़ किया है। अपना दल के अनुप्रिया पटेल के गुट ने बीजेपी के साथ तो कृष्णा पटेल गुट ने कांग्रेस के साथ के साथ गठबंधन किया। यही नहीं महान दल ने भी कांग्रेस से गठजोड़ किया। वहीं निषाद पार्टी ने बीजेपी के साथ गठजोड़ कर समाजवादी पार्टी से नाता तोड़ा है। वहीं यूपी में बीजेपी सरकार को समर्थन दे रहे सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने बीजेपी से अपने गठजोड़ को तोड़कर राज्य के पूर्वांचल की 22 सीटों पर अकेले प्रत्याशी उतारे हैं। 

  • school syllabus now became Vote bank for political parties in Rajasthan

    NewsMay 16, 2019, 2:25 PM IST

    राजनैतिक दलों के लिए वोट बैंक बन गया है स्कूली सिलेबस

     पिछले साल दिसंबर में कांग्रेस की सरकार बनते ही पाठ्यक्रमों में बदलाव की शुरूआत हो गयी थी। राज्य की अशोक गहलोत सरकार ने पिछली बीजेपी सरकार के दौरान बदले गए पाठ्यक्रमों में बदलाव करना का आदेश दिया। गहलोत सरकार ने बीजेपी सरकार के दौरान महाराणा प्रताप को महान बताने वाले विषय में बदलाव का फैसला करते हुए अकबर को फिर से महान पढ़ाने का फैसला किया। लोकसभा चुनाव के दौरान ये चुनावी मुद्दा भी बना, लेकिन अब राज्य सरकार ने दोनों को महान पढ़ाने का आदेश दिया। 

  • Supreme court cancelled bail of businessman under accused of the terror funding

    NewsApr 15, 2019, 4:27 PM IST

    सियासी दलों को 'पब्लिक अथॉरिटी' घोषित करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट का केंद्र और चुनाव आयोग को नोटिस

    भाजपा नेता और वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि जनप्रतिनिधि कानून की धारा 29C के तहत राजीतिक दलों को मिलने वाले दान की सूचना चुनाव आयोग को देना आवश्यक है। 
     

  • electoral bonds

    NewsApr 12, 2019, 5:43 PM IST

    चुनावी बॉन्ड पर रोक नहीं, सियासी दलों को सुप्रीम कोर्ट में 15 मई तक बंद लिफाफे में देना होगा ब्यौरा

    चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि इलेक्टोरल बॉन्ड में कुछ भी गलत नहीं है, लेकिन दानकर्ता के नाम सार्वजनिक किए जाने चाहिए क्योंकि लोगों और आयोग को राजनीतिक दलों की फंडिंग के बारे में जानने का अधिकार है।