Rural Economy  

(Search results - 1)
  • undefined

    Views14, Apr 2019, 3:46 PM

    बाबा साहेब अंबेडकर की आर्थिक नीति से बनता समावेशी भारत

    वेस्टर्न फिलॉसफी में फ्रेडरिक हीगल भौतिकवाद का द्वंद प्रतिपादित करते हैं। आगे चलकर कार्ल मार्क्स इस द्वंद को सिर के बले खड़ा कर देते हैं। बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने भी महात्मा गांधी के आर्थिक विचारों को सिर के बल खड़ा करने की बात कही।