Tazeen Fatima  

(Search results - 9)
  • undefined

    News27, Feb 2020, 7:14 AM IST

    नवाब घराने से नफरत करने वाले आजम उनकी बनाई जेल में काट रहे हैं तन्हाई, मुश्किलें अभी बाकी हैं

    रामपुल में रियासतों के विलय के बाद नवाबों की जेल को ही जिला कारागार बना दिया गया था। जबकि रामपुर में आजम खान  नवाब परिवार के खिलाफ ही राजनीति करते हैं। नवाब परिवार का विरोध कर ही आजम खान ने रामपुर में सियासत की ऊंचाईयों को छूआ है। आजम खां का घर भी जेल के पास ही है। आजम खान कभी रामपुर की जिला जेल बंद नहीं हुई हालांकि वह जेल गए लेकिन उन्हें जमानत मिल गई थी।

  • उस समय उन्‍होंने कई रैलियों में भाषण भी दिए थे। जिसे लोगों ने खूब पसंद किया था। बता दें, आजम के दो बेटे हैं बड़े बेटे का नाम अदीब आजम खान है।

    News26, Feb 2020, 5:48 PM IST

    फर्जी प्रमाण पत्र मामले में जेल पहुंचा आजम परिवार, नया पता-रामपुर जेल

    अब इस मामले में अगली सुनवाई 2 मार्च को होगी। कई बार अदालत में पेश होने के लिए आजम खान को नोटिस दी गई थी। लेकिन आजम खान और उनका परिवार अदालत में पेश नहीं हो रहा था। लेकिन आज सपा सरकार में रहे पूर्व मंत्री आजम खान, अपने परिवार के साथ अदालत में पेश हुए। 

  • undefined

    News3, Dec 2019, 9:58 AM IST

    फिर फर्जी जन्म प्रमाण पत्र मामले में आजम, पत्नी और बेटे की बढ़ी मुश्किलें

    कई दिनों की खामोशी के बाद आजम खान एक बार फिर मीडिया की सुर्खियों में हैं। इस बार आजम अपने बेटे के फर्जी जन्म प्रमाण पत्र के मामले में सुर्खियों में हैं। असल में आरोप और उनके बेटे और पततत्नी पर आरोप है कि उन्होंने अपने बेटे विधायक अब्दुल्ला आजम खान के दो जन्म प्रमाण पत्र बनाए हैं। इसमें एक पत्र लखनऊ और दूसरा रामपुर नगर पालिका से बनाया है। अब्दुल्ला आजम खान रामपुर से विधायक भी है। आरोप है कि  आजम खान ने अपने बेटे की आयु को कम करने के लिए दो जन्म प्रमाण पत्र बनाए हैं।

  • undefined

    News22, Nov 2019, 10:27 AM IST

    उपचुनाव जीतते ही बढ़ गई हैं आजम खान की पत्नी की मुश्किलें

    जानकारी के मुताबिक जिलाधिकारी के आदेश के बाद रामपुर में विधायक, तंजीम फातिम, उसके पति सांसद आजम खान और उनके बेटे विधायक अब्दुल्लाह आजम खान के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। हालांकि आजम खान और उनके परिवार पर ये कोई पहला मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है। इससे पहले भी रामपुर में आजम  खान और उनके परिवार पर 80 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।

  • undefined

    News25, Oct 2019, 6:20 AM IST

    किला बचाकर आजम हुए सपा में मजबूत, घर में ही रही सीट

    असल में इस सीट पर चुनाव आजम खान के रामपुर से सांसद चुने के बाद हुआ था। ये सीट आजम खान का किला मानी जाती है। अभी तक आजम खान इस सीट पर नौ बार विधायक रह चुके थे। लेकिन एक बार फिर ये सीट उनके घर में ही गई। पार्टी ने इस सीट पर आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा को उतारा था। असल में आजम इस सीट को घर में रखना चाहते थे। 

  • undefined

    News18, Oct 2019, 7:32 PM IST

    प्रचार न करने के फैसले के बाद रामपुर में आजम की पत्नी का चुनाव प्रचार करेंगे, क्या हैं इसके मायने

    सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव रामपुर विधानसभा सीट में हो रहे उपचुनाव में प्रचार करेंगे। अखिलेश यादव चुनाव प्रचार के अंतिम दिन यानी शनिवार को रामपुर पहुंचेंगे और वहां जनसभा करेंगे। वह रामपुर में आजम खान की पत्नी के लिए वोट मांगेगे। फिलहाल अखिलेश यादव के इस फैसले के बाद राजनीतिक मायने निकाले जाने लगे हैं। क्योंकि अखिलेश यादव ने पहले फैसला किया था कि वह उपचुनाव के लिए चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। उसके बाद अचानक रामपुर में चुनाव प्रचार करना, किसी के समझ नहीं आ रहा है।

  • undefined

    News17, Oct 2019, 9:22 AM IST

    रामपुर उपचुनाव: आजम का तीन दशक पुराना किला ढहाने की कोशिश में भाजपा

    आजम खान के लोकसभा सदस्य चुने जाने के बाद रामपुर से उपचुनाव हो रहा है। सपा ने आजम की सांसद पत्नी  तंज़ीन फातिमा को टिकट दिया है। इसके भी कई कारण हैं। क्योंकि फातिमा का राज्यसभा का कार्यकाल अगले साल नवंबर तक है। उसके बावजूद वह रामपुर की इस सीट से अपनी किस्मत विधानसभा के लिए आजमा रही हैं। असल में आजम को डर था कि अगर ये सीट किसी बाहरी व्यक्ति को दी गई तो उनके समर्थक नाराज हो सकते हैं।

  • undefined

    News14, Oct 2019, 8:22 AM IST

    जानें क्यों आजम खान का योगी आदित्यनाथ के कारण कम हुआ 22 किलो वजन

    रामपुर से सांसद अब रामपुर की जनता को बता रहे हैं कि उनका 22 किलोग्राम वजन कम हुआ है। ये वजन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कारण कम हुआ है। ये हम नहीं बता रहे हैं बल्कि ये जानकारी आजम खान खुद रामपुर की जनता को दे रहे हैं। रामपुर में आजम खान भूमाफिया घोषित हो चुके हैं और उन पर वहां 84 केस भी दर्ज हैं।

  • undefined

    News30, Sep 2019, 9:04 AM IST

    आजम का गढ़ बचाने सपा ने खेला बड़ा दांव

    चार दिन पहले ही सपा ने ये तय कर दिया था कि रामपुर की इस सीट के लिए फैसला आजम खान ही लेंगे। आजम खान इस सीट पर लगातार नौ बार से विधायक हैं। इस सीट को हाथ निकल जाने का मतलब होगा कि रामपुर की सियासत से आजम का अस्तित्व खत्म होने जैसा है। लिहाजा इस सीट के लिए उत्तराधिकारी आजम खान के परिवार से ही होना चाहिए।