Vedas  

(Search results - 4)
  • five elements

    SpiritualitySep 10, 2019, 9:03 AM IST

    वेदों में वर्णित पांच तत्वों के अलावा छठा तत्व विज्ञान भी नहीं तलाश पाया

    प्राचीन भारतीय वेदों के पूरी तरह विज्ञान आधारित होने का सबसे बड़ा प्रमाण यह है कि जिन पांच तत्वों की बात वेदों में की गई है। उनके अलावा कोई भी छठा तत्व अभी तक आधुनिक विज्ञान तलाश नहीं पाया है। वेदों में समस्त ज्ञान इसलिए समाहित है क्योंकि यह भारतीयों के लाखों सालों के शोध और प्राकृतिक अनुभवों का निचोड़ है, जिसमें समस्त ज्ञान विज्ञान का निवास है। 
     

  • Music is created by lord shiva himself that is identity of india

    SpiritualityAug 31, 2019, 7:53 AM IST

    स्वयं भगवान शिव से उत्पन्न है भारतीय जीवन का आधार 'संगीत'

    संगीत से भारत का बहुत बड़ा नाता है। भारतीय शास्त्रीय संगीत पूरे विश्व की अद्भुत कला विरासत है। संगीत का हमारे जीवन से इतना लगाव इसलिए है क्योंकि ध्वनियों के संयोजन की पद्धति सबसे पहले भारत में निकाली गई यानी उसका व्याकरण रचा गया। सुर बनाए गए और उन्हें ताल देने के लिए वाद्य तैयार किए गए। संगीत की उत्पत्ति महादेव से मानी जाती है। 
     

  • Cows and green fields

    ViewsMar 28, 2019, 6:09 PM IST

    गायें ही धरती को मरुस्थल बनने से रोकती हैं

    आधुनिक विज्ञान ने यह सिद्ध कर दिया है कि जहां पृथ्वी पर गौएं  होती हैं पर्जन्य – मेघ  भी वहीं वर्षा करते हैं | और पृथ्वी भी जहां गौएं होती हैं वहीं पर  वर्षा के जल को अपने अंदर ऐसे संचित कर के रखती है जैसे रेतस योनि में |   वर्षा के जल से पृथ्वी वनस्पति रूपी संतान देती है | जहां पृथ्वी पर गौ नहीं होंगी वहां पृथ्वी बांझ हो जाएगी , और मेघ भी वहां वर्षा करने के लिए नहीं आएंगे | 

  • undefined

    ViewsMar 13, 2019, 7:00 PM IST

    गौधन सिर्फ दूध ही नहीं पर्यावरण सुरक्षा के लिए भी बेहद जरुरी

    दक्षिणी रोडेसिआ में गत 1960 में वन और पर्यावरण में कार्य कर रहे  वैज्ञानिकों ने जब विश्व के बदलते पर्यावरण के कारण  वहां के हरे भरे  वनीय क्षेत्र की हरियाली समाप्त होते देखी   तो सब का यह विचार था कि शाकाहारी पशु हाथी, गौ इत्यादि वनों की हरियाली खा कर समाप्त कर देते हैं|  उस वन में हाथी बड़ी संख्या में थे|  निर्णय हुआ कि सब हाथियों  का वध कर दिया जाए| 
     इस अभियान में उस दशक में 40,000 से अधिक हाथी मारे गए  जो आर्थिक व्यापार की दृष्टि से भी बड़ा लाभदायक रहा | परंतु हाथियों के मारे जाने के बाद बड़ा आश्चर्य हुआ कि जो रही सही हरियाली बची थी वह भी समाप्त हो गई |