दिल्ली-एनसीआर में गर्मी की छुट्टियां शुरू, 500 किलोमीटर से कम दूरी पर हैं ये 7 वैकेशन डेस्टिनेशन

First Published 17, May 2019, 5:22 PM IST

दिल्ली-एनसीआर के स्कूलों में गर्मी की छुट्टियां शुरू हो चुकी है। साथ ही दिल्ली और आसपास के इलाकों में गर्मी का प्रकोप भी बढ़ रहा है। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के मुताबिक इस मौसम से राहत मिलने में अभी एक महीने से अधिक समय लगेगा। इसके बावजूद दिल्ली और एनसीआर की करोड़ों की आबादी परिवार के साथ गर्मी की छुट्टियां मनाने की तैयारी में जुटे हैं।

हालांकि दिल्ली एनसीआर क्षेत्र उत्तर भारत समेत समूचे देश के लिए एक अहम टूरिस्ट जंक्शन है। इसकी खास वजह दिल्ली से नजदीक दो खास पर्वतीय राज्यों का होना है। हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड़ की सरहद दिल्ली से 250 किलोमीटर की दूरी पर हैं और इसलिए मध्यम वर्ग के लिए ये दोनों राज्य गर्मी की छुट्टिंयां मनाने की परफेक्ट डेस्टिनेशन हैं।

ऐसे में जानिए कि दिल्ली से 500 किलोमीटर से कम की दूरी पर इन दोनों राज्यों में खास टूरिस्ट स्पॉट क्या-क्या हैं जहां आप बच्चों के साथ गर्मी की छुट्टियों मनाने के लिए जा सकते हैं।  

1. लैंसडाउन (246 किलोमीटर): अंग्रेजों के समय से उत्तराखंड राज्य में महत्वपूर्ण कैंटोनमेंट एरिया लैंसडाउन अपने ओक और पाइन प्लांटेशन के चलते गर्मी के दौरान एक परफेक्ट ट्रैवल डेस्टिनेशन है। अपनी खूबसूरत वादियों के लिए लैंसडाउन दिल्ली वासियों के लिए एक आदर्श हिल स्टेशन है। लैंसडाउन की दिल्ली से दूरी महज 246 किलोमीटर है। छुट्टियों के दौरान यहां टूरिस्ट पर्वतारोहण के साथ-साथ ट्रैकिंग का लुफ्त उठाने के लिए आते हैं। इसके अलावा यहां 4 से 5 दिन के वैकेशन के दौरान आप टिप एंड टॉप प्वाइंट, वॉर मेमोरियल और हिमालय की खूबसूरत वादियों का मजा ले सकते हैं।

1. लैंसडाउन (246 किलोमीटर): अंग्रेजों के समय से उत्तराखंड राज्य में महत्वपूर्ण कैंटोनमेंट एरिया लैंसडाउन अपने ओक और पाइन प्लांटेशन के चलते गर्मी के दौरान एक परफेक्ट ट्रैवल डेस्टिनेशन है। अपनी खूबसूरत वादियों के लिए लैंसडाउन दिल्ली वासियों के लिए एक आदर्श हिल स्टेशन है। लैंसडाउन की दिल्ली से दूरी महज 246 किलोमीटर है। छुट्टियों के दौरान यहां टूरिस्ट पर्वतारोहण के साथ-साथ ट्रैकिंग का लुफ्त उठाने के लिए आते हैं। इसके अलावा यहां 4 से 5 दिन के वैकेशन के दौरान आप टिप एंड टॉप प्वाइंट, वॉर मेमोरियल और हिमालय की खूबसूरत वादियों का मजा ले सकते हैं।

2. शिमला (340 किलोमीटर): हरी वादियों और खूबसूरत  पहाड़ियों के बीच शिमला पूरे देश के लिए बेहद अहम हिल स्टेशन टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। दिल्ली से महज 340 किलोमीटर की दूरी पर हिमाचल प्रदेश का यह शहर भी अंग्रेजों द्वारा बसाया है। खासबात है कि शिमला को देश की समर कैपिटल की संज्ञा भी मिली हुई है। वैसे शिमला पूरे उत्तर भारत के लिए स्नोफॉल का लुत्फ उठाने का बेहद अहम ठिकाना है। इसके बावजूद ठंड़ी हवाओं और रंगबिरंगी वादियों के लिए शिमला गर्मी की छुट्टियों के दौरान भी टूरिस्ट से भरा रहता है। गर्मी की छुट्टियों के दौरान हाइकिंग, ट्रैकिंग और माउंटेनियरिंग में बच्चों के साथ क्वॉलिटी टाइम बिताया जा सकता है। शिमला में माल रोड, क्राइस्ट चर्च, कुफरी और ग्रीन वैली।

2. शिमला (340 किलोमीटर): हरी वादियों और खूबसूरत पहाड़ियों के बीच शिमला पूरे देश के लिए बेहद अहम हिल स्टेशन टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। दिल्ली से महज 340 किलोमीटर की दूरी पर हिमाचल प्रदेश का यह शहर भी अंग्रेजों द्वारा बसाया है। खासबात है कि शिमला को देश की समर कैपिटल की संज्ञा भी मिली हुई है। वैसे शिमला पूरे उत्तर भारत के लिए स्नोफॉल का लुत्फ उठाने का बेहद अहम ठिकाना है। इसके बावजूद ठंड़ी हवाओं और रंगबिरंगी वादियों के लिए शिमला गर्मी की छुट्टियों के दौरान भी टूरिस्ट से भरा रहता है। गर्मी की छुट्टियों के दौरान हाइकिंग, ट्रैकिंग और माउंटेनियरिंग में बच्चों के साथ क्वॉलिटी टाइम बिताया जा सकता है। शिमला में माल रोड, क्राइस्ट चर्च, कुफरी और ग्रीन वैली।

3. धर्मशाला (470 किलोमीटर): देश में शरणार्थी निर्वासित तिब्बत सरकार का प्रशासनिक केन्द्र धर्मशाला गर्मी के दौरान बेहद अहम टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। यहां की खूबसूरत और शांत वादियां लाखों की संख्या में प्रतिवर्ष टूरिस्ट को यहां खींच कर लाती हैं। दिल्ली से महज 470 किलोमीटर की दूरी पर स्थित धर्मशाला शॉपिंग, ट्रेकिंग और कैंपिंग के साथ-साथ मंदिरों में दर्शन के लिए बेहद अहम है। यहां सैलानियों के लिए डल लेक, कांगड़ा फोर्ट और दलाई लामा टेंपल प्रमुख आकर्षण है।

3. धर्मशाला (470 किलोमीटर): देश में शरणार्थी निर्वासित तिब्बत सरकार का प्रशासनिक केन्द्र धर्मशाला गर्मी के दौरान बेहद अहम टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। यहां की खूबसूरत और शांत वादियां लाखों की संख्या में प्रतिवर्ष टूरिस्ट को यहां खींच कर लाती हैं। दिल्ली से महज 470 किलोमीटर की दूरी पर स्थित धर्मशाला शॉपिंग, ट्रेकिंग और कैंपिंग के साथ-साथ मंदिरों में दर्शन के लिए बेहद अहम है। यहां सैलानियों के लिए डल लेक, कांगड़ा फोर्ट और दलाई लामा टेंपल प्रमुख आकर्षण है।

4. कसौली (300 किलोमीटर): हिमाचल प्रदेश के पर्वतीय इलाकों में कसौली एक छोटा हिल स्टेशन है। दिल्ली से 300 किलोमीटर और शिमला से महज 77 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कसौली अपनी स्वच्छचा और सौंदर्य के चलते गर्मी की सीजन में लाखों की संख्या में टूरिस्ट को लुभाता है। इसके अलावा मिनी शिमला की संज्ञा से नवाजा गया कसौली रोडोडेंड्रॉन, ओक, विलो और अखरोड़ के पेड़ों के चलते अपनी खास पहचान बनाता है। प्रसिद्ध अंग्रेजी लेखक रस्किन बॉन्ड का जन्म स्थान यह इलाका अपनी शांत और खूबसूरत वादियों के लिए जाना जाता है।

4. कसौली (300 किलोमीटर): हिमाचल प्रदेश के पर्वतीय इलाकों में कसौली एक छोटा हिल स्टेशन है। दिल्ली से 300 किलोमीटर और शिमला से महज 77 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कसौली अपनी स्वच्छचा और सौंदर्य के चलते गर्मी की सीजन में लाखों की संख्या में टूरिस्ट को लुभाता है। इसके अलावा मिनी शिमला की संज्ञा से नवाजा गया कसौली रोडोडेंड्रॉन, ओक, विलो और अखरोड़ के पेड़ों के चलते अपनी खास पहचान बनाता है। प्रसिद्ध अंग्रेजी लेखक रस्किन बॉन्ड का जन्म स्थान यह इलाका अपनी शांत और खूबसूरत वादियों के लिए जाना जाता है।

5. औली (500 किलोमीटर): उत्तराखंड राज्य का यह भाग और हिल स्टेशन लगभग 10 हजार फीट की उंचाई पर है। इस भाग में राज्य सरकार और केन्द्र सरकार के संयुक्त प्रोग्राम के तहत 5 से 7 किलोमीटर के क्षेत्र में बेहद खूबसूरत स्की रिजॉर्ट बनाया गया है। इस स्की रिजॉर्ट के चलते इसे भारत के स्विटजरलैंड की संज्ञा भी मिली है। प्राकृतिक सुंदरता और बर्फीले पहाड़ों से घिरा औली देवदार के जंगलों के लिए खास है और यहां होने वाला स्नोफॉल स्कीइंग के लिए बेहद खास है। इस डेस्टिनेशन का खास अट्रैक्शन रोप-वे है जिससे यहां के देवदार के जंगल अपने पूरे शबाब में दिखते हैं।

5. औली (500 किलोमीटर): उत्तराखंड राज्य का यह भाग और हिल स्टेशन लगभग 10 हजार फीट की उंचाई पर है। इस भाग में राज्य सरकार और केन्द्र सरकार के संयुक्त प्रोग्राम के तहत 5 से 7 किलोमीटर के क्षेत्र में बेहद खूबसूरत स्की रिजॉर्ट बनाया गया है। इस स्की रिजॉर्ट के चलते इसे भारत के स्विटजरलैंड की संज्ञा भी मिली है। प्राकृतिक सुंदरता और बर्फीले पहाड़ों से घिरा औली देवदार के जंगलों के लिए खास है और यहां होने वाला स्नोफॉल स्कीइंग के लिए बेहद खास है। इस डेस्टिनेशन का खास अट्रैक्शन रोप-वे है जिससे यहां के देवदार के जंगल अपने पूरे शबाब में दिखते हैं।

loader