// Temp comment this bcz its will help stop page_view double calls // Temp comment this bcz its will help stop page_view double calls

Motivational News

पोलियोग्रस्त पिता-गृहणी मां के बेटे को बहन ने इसलिए बनाया शतरंज बादशाह

Image credits: Twitter

नाॅर्वे शतरंज टूर्नामेंट में फिर रच दिया इतिहास

नाॅर्वे शतरंज टूर्नामेंट में विश्व के नंबर 1 व नंबर 2 खिलाड़ी को हराकर शतरंज की दुनिया को चौंकाने वाले भारतीय ग्रैंडमास्टर प्रज्ञानंदधा के बारे में क्या आप जानते हैं। 

Image credits: Twitter

प्रज्ञानंदधा के पिता हैं बैंक कर्मचारी

भारत के इस 18 वर्षीय चेस ग्रैंडमास्टर रमेशबाबू प्रज्ञानंदधा का जन्म 10 अगस्त 2005 को चेन्नई, तमिलनाडु में हुआ था। प्रज्ञानंदधा के पोलियाग्रस्त पिता रमेशबाबू TNSC बैंक कर्मचारी हैं।

Image credits: Twitter

रमेशबाबू प्रज्ञानंदधा की मां हैं गृहिणी

रमेशबाबू प्रज्ञानंदधा की मां नागलक्ष्मी एक कुशल गृहिणी हैं, जो अक्सर उनके साथ दिखती हैं। चेन्नई के वेलाम्मल मेन कैंपस से पढ़ाई की है।

 

Image credits: Twitter

बहन ने 3 साल की उम्र में खिलाना शुरू कर दिया था शतरंज

मिडिल क्लास फेमिली से तालुक रखने वाले प्रज्ञानंदधा महज 3 साल की उम्र में ही अपनी बहन आर वैशली के साथ शतरंज खेलने लगे थे। इसके पीछे एक खास वजह थी।

 

Image credits: Twitter

टीवी पर कार्टून की लत न लगे इसलिए शतरंज की तरफ मोड़ा

पिता रमेश बाबू  के मुताबिक उनकी बेटी और फिर बेटा टीवी पर कार्टून बहुत देखते थे। कार्टून देखना बंद कराने के लिए उन्होंने पहले बेटी को शतरंज खेलने के लिए प्रेरित किया।

 

Image credits: Twitter

किसी ने सपने में भी नहीं सोचा था कि होगा ऐसा कुछ

बेटी आर वैशाली ने ही अपने भाई प्रज्ञानंदधा को साथ में खिलाना शुरू कर दिया, उसे क्या मालूम की उसका ये छोटा भाई आने वाले दिनों में नए नए विश्व रिकार्ड बनाएगा।  

 

Image credits: Twitter

प्रज्ञानंदधा की बड़ी बहन आर वैशाली भी है महिला ग्रैंडमास्टर

विश्व के टॉप टेन में 02 जून 2024 को शामिल हो चुके प्रज्ञानंदधा की बड़ी बहन आर वैशाली एक निपुण महिला ग्रैंडमास्टर और इंटरनेशनल चेस मास्टर हैं।

 

Image credits: Twitter

8 साल की उम्र से ही बनाने लगे थे रिकार्ड

प्रज्ञानंदधा ने 2013 में विश्व युवा शतरंज चैम्पियनशिप अंडर-8 का खिताब जीता, जिससे उन्हें फिडे मास्टर का खिताब मिला। उन्होंने 2015 में अंडर-10 का खिताब भी जीता।

 

Image credits: Twitter

10 साल क उम्र में बन गए इंटरनेशल मास्टर

2016 में 10 साल 10 महीने और 19 दिन की उम्र में प्रज्ञानंदधा इतिहास के सबसे कम उम्र वाले शतरंज के अंतर्राष्ट्रीय मास्टर बन गए।

 

Image credits: Twitter

12 साल की उम्र में सबसे कम उम्र के बने ग्रैंडमास्टर

23 जून 2018 को वे इटली के उर्टिजी में ग्रेडाइन ओपन में 8वें राउंड में लुका मोरोनी को हराकर अपना तीसरा और अंतिम मानदंड हासिल करके 12 साल 10 महीने 13 दिन की उम्र में ग्रैंडमास्टर गए।

Image credits: Twitter
Find Next One