पाकिस्तान से वर्ल्ड कप फाइनल भी हो तो न खेले भारत, देश क्रिकेट से ज्यादा अहमः गंभीर

https://static.asianetnews.com/images/authors/bff11d14-81b3-52a9-a94b-86431321f9f4.jpg
First Published 18, Mar 2019, 6:53 PM IST
Nothing wrong in opposing World Cup Final against Pakistan: Gautam Gambhir
Highlights

हाल ही में पद्मश्री पाने वाले पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने कहा, जिन 40 जवानों ने शहादत दी, वे क्रिकेट मैच से ज्यादा महत्वपूर्ण थे। बीसीसीआई या तो पाकिस्तान से पूरी तरह नाता तोड़े या हर स्तर पर खेले।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने कहा है कि बीसीसीआई या तो पाकिस्तान के साथ सभी तरह के क्रिकेट संबंध तोड़ ले या हर स्तर पर खेले क्योंकि ‘सशर्त प्रतिबंध’ जैसी कोई चीज नही हो सकती।पुलवामा आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के साथ हर स्तर पर संबंध तोड़ने की मांग करने वाले गंभीर ने कहा कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को तय करना है। साथ ही हमें उसके परिणाम झेलने के लिए तैयार रहना होगा। हाल ही में पद्मश्री से नवाजे गए गंभीर ने ‘फनगेज डाट काम’ के प्रचार कार्यक्रम से इतर ये बात कहीं।

यह पूछने पर कि फाइनल में दोनों टीमों की टक्कर होने पर क्या होगा, गंभीर ने कहा कि ऐसे में भारत को फाइनल छोड़ देना चाहिए। उन्होंने कहा,‘दो अंक अहम नहीं है। देश अहम है। जिन 40 जवानों ने शहादत दी, वे क्रिकेट मैच से अधिक महत्वपूर्ण थे। यदि हम विश्व कप फाइनल भी छोड़ देते हैं तो देश को इसके लिए तैयार रहना चाहिए।’ गंभीर ने कहा,‘समाज का एक तबका कहता है कि खेलों को राजनीति से नहीं जोड़ना चाहिए लेकिन जवान क्रिकेट के खेल से अधिक अहम हैं।’ 

हाल ही में पद्मश्री से नवाजे गए गंभीर ने ‘फनगेज डाट काम’ के प्रचार कार्यक्रम से इतर कहा,‘सशर्त प्रतिबंध नहीं हो सकता। या तो पाकिस्तान के साथ पूरे क्रिकेट संबंध तोड़ लिये जायें या हर स्तर पर खेले। पुलवामा में जो हुआ, वह कतई स्वीकार्य नहीं है।’

उन्होंने कहा,‘भारत के लिए आईसीसी टूर्नामेंटों में पाकिस्तान का बहिष्कार कर पाना मुश्किल होगा लेकिन एशिया कप में हम उनसे नहीं खेलें।’ गंभीर ने कहा कि पाकिस्तान के साथ हर स्तर पर ताल्लुकात खत्म होने चाहिए भले ही खेल जगत इसका बहिष्कार कर दे। बीसीसीआई ने आईसीसी से अपील की थी कि आतंक को पनाह देने वाले देशों से ताल्लुक तोड़ लिए जाएं लेकिन आईसीसी बोर्ड ने दुबई में हुई बैठक में यह अनुरोध खारिज कर दिया। 

इंग्लैंड के 2003 वर्ल्ड कप का दिया हवाला

गंभीर ने इंग्लैंड का हवाला दिया जिसने राबर्ट मुगाबे सरकार के खिलाफ विरोध के तहत जिम्बाब्वे के साथ राउंड राबिन मैच नहीं खेला था। उन्होंने कहा,‘इंग्लैंड ने 2003 में ऐसा किया और वे जिम्बाब्वे नहीं गए। बीसीसीआई अगर पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने का फैसला लेता है तो दो अंक गंवाने के लिए मानसिक तौर पर तैयार रहना होगा।’उन्होंने कहा,‘इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। संभव है कि हम सेमीफाइनल में क्वालीफाई नहीं कर सकें। अगर भारतीय टीम पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलती है तो मीडिया को उसे दोष नहीं देना चाहिए।’ 

राजनीति के बारे में अभी नहीं सोचा 

लोकसभा चुनाव में भाजपा से टिकट मिलने की अटकलों के बीच गंभीर ने कहा कि अभी उन्होंने इस बारे में सोचा नहीं है। उन्होंने कहा,‘पूरी जिंदगी मैं क्रिकेट खेलता रहा। मैंने लोगों से सुना है कि पूर्णकालिक राजनीति इंसान को बदल देती है। मेरी दो छोटी बेटियां है और मुझे उनके साथ समय बिताना है। मैंने भी अटकलें सुनी है लेकिन मैं फिलहाल आईपीएल के दौरान स्टार स्पोटर्स पर कमेंट्री कर रहा हूं।’ 

loader