केजरीवाल ड्रामा नहीं करते, 'आप' की कसम

First Published 11, May 2019, 5:09 PM IST

आम आदमी पार्टी की बुनियाद धरना प्रदशन रहा है। धरना प्रदर्शन करके पार्टी को 5 साल पहले सत्ता भी मिल गयी लेकिन फिर भी पार्टी के नेताओं ने किसी न किसी बात को मुद्दा बनाकर प्रदर्शन करना नहीं छोड़ा है। खास करके चुनावों के दौरान आम आदमी पार्टी कई मुद्दों पर नाटकीय रूप से सुर्ख़ियों में रही है जिसका मकसद जनता की सुहानुभूति जीतना रहा है और साथ ही साथ सरकार पर बिना सबूत इलज़ाम लगाकर कीचड़ उछालना। आइये जानते हैं 2014 से अब तक के वो वाकिये जिसपर आम आदमी पार्टी ने नाटकीय अंदाज़ में सुर्खियां बटोरी।

2014 में पहली बार मुख्यमंत्री बनने के बाद अरविन्द केजरीवाल ने कांग्रेस सरकार के ग्रह मंत्री सुशील कुमार शिंडे के खिलाफ धरना प्रदशन किया था जिसका कारण था दिल्ली में महिलाओं की बढ़ती असुरक्षा और पुलिस की लापरवाही।  इस धरने में उनके 6 मंत्री और लगभग 200 कार्यकर्ता शामिल थे। मुख्यमंत्री के औदे पर बैठ कर जो बात बातचीत से हल हो सकती है उसके लिए ऐसा प्रदर्शन करके सिर्फ सुर्खियां बटोरीं जा सकती हैं जो इस घटना से साबित हुआ था।

2014 में पहली बार मुख्यमंत्री बनने के बाद अरविन्द केजरीवाल ने कांग्रेस सरकार के ग्रह मंत्री सुशील कुमार शिंडे के खिलाफ धरना प्रदशन किया था जिसका कारण था दिल्ली में महिलाओं की बढ़ती असुरक्षा और पुलिस की लापरवाही। इस धरने में उनके 6 मंत्री और लगभग 200 कार्यकर्ता शामिल थे। मुख्यमंत्री के औदे पर बैठ कर जो बात बातचीत से हल हो सकती है उसके लिए ऐसा प्रदर्शन करके सिर्फ सुर्खियां बटोरीं जा सकती हैं जो इस घटना से साबित हुआ था।

अरविन्द केजरीवाल आम आदमी जैसी सोच बेशक न रखते हों लेकिन अपनी छवि आम आदमी जैसी दिखाने के लिए अपनी पोशाक पर ध्यान जरूर देते हैं। जिसमें शामिल है साधारण चप्पल और मफलर| उनके इस अंदाज ने उन्हें "मफलर मैन" के नाम से भी मशहूर किया। लेकिन हद्द तो तब हो गयी जब वो विदेशी मेहमानों के सामने भी सैंडल पहने पहुँच गए। दरअसल राष्ट्रपति भवन में फ्रांस के राष्ट्रपति होल्लंडे के स्वागत में एक पार्टी रखी गयी थी जिसमें सभी नेताओं और मुख्यमंत्रिओं को न्योता दिया गया था उसी कार्यक्रम में अरविन्द केजरीवाल घर की चप्पल पहने पहुँच गए और एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गये। उनकी इस हरकत पर शर्मिंदगी महसूस करते हुए एक शख्स ने उन्हें नए जूते खरीदने के लिए बैंक चैक भेजा था।

अरविन्द केजरीवाल आम आदमी जैसी सोच बेशक न रखते हों लेकिन अपनी छवि आम आदमी जैसी दिखाने के लिए अपनी पोशाक पर ध्यान जरूर देते हैं। जिसमें शामिल है साधारण चप्पल और मफलर| उनके इस अंदाज ने उन्हें "मफलर मैन" के नाम से भी मशहूर किया। लेकिन हद्द तो तब हो गयी जब वो विदेशी मेहमानों के सामने भी सैंडल पहने पहुँच गए। दरअसल राष्ट्रपति भवन में फ्रांस के राष्ट्रपति होल्लंडे के स्वागत में एक पार्टी रखी गयी थी जिसमें सभी नेताओं और मुख्यमंत्रिओं को न्योता दिया गया था उसी कार्यक्रम में अरविन्द केजरीवाल घर की चप्पल पहने पहुँच गए और एक बार फिर से सुर्ख़ियों में आ गये। उनकी इस हरकत पर शर्मिंदगी महसूस करते हुए एक शख्स ने उन्हें नए जूते खरीदने के लिए बैंक चैक भेजा था।

ये वाकया था जब दिल्ली के आईएएस अधिकारिओं ने अरविन्द केजरीवाल और उनके नेताओं के दिल्ली चीफ सेक्रेटरी के साथ अनैतिक व्यवहार पर हड़ताल कर दी थी। जिसके बाद एक बार फिर आम आदमी पार्टी ने भाजपा सरकार और एल.जी पर आरोप लगाया और एल.जी के ही दफ्तर के एयर कंडीशन कमरे में धरना दिया जिसमें वो अपने तीन और मंत्रियो के साथ सोफे पर लेट कर मोबाइल चलाते और आराम फरमाते दिखाई दिए जिस दौरान दिल्ली सरकार का काम ठप रहा।

ये वाकया था जब दिल्ली के आईएएस अधिकारिओं ने अरविन्द केजरीवाल और उनके नेताओं के दिल्ली चीफ सेक्रेटरी के साथ अनैतिक व्यवहार पर हड़ताल कर दी थी। जिसके बाद एक बार फिर आम आदमी पार्टी ने भाजपा सरकार और एल.जी पर आरोप लगाया और एल.जी के ही दफ्तर के एयर कंडीशन कमरे में धरना दिया जिसमें वो अपने तीन और मंत्रियो के साथ सोफे पर लेट कर मोबाइल चलाते और आराम फरमाते दिखाई दिए जिस दौरान दिल्ली सरकार का काम ठप रहा।

2018 में अरविंद केजरीवाल पर दिल्ली सचिवालय में उनके चेंबर के बाहर अज्ञात शख्स ने मिर्च फेंकी थी। इस बार ये वाकया दिल्ली सचिवालय के अंदर का था जिसका एक सी सी टीवी फुटेज सामने आया था  जिसमें वो शख्स अरविन्द केजरीवाल पर मिर्च पाउडर डालने की कोशिश करता दिखाई दिया। जिसका आरोप  केजरीवाल सरकर ने भाजपा पर लगाया।

2018 में अरविंद केजरीवाल पर दिल्ली सचिवालय में उनके चेंबर के बाहर अज्ञात शख्स ने मिर्च फेंकी थी। इस बार ये वाकया दिल्ली सचिवालय के अंदर का था जिसका एक सी सी टीवी फुटेज सामने आया था जिसमें वो शख्स अरविन्द केजरीवाल पर मिर्च पाउडर डालने की कोशिश करता दिखाई दिया। जिसका आरोप केजरीवाल सरकर ने भाजपा पर लगाया।

ये वाकया हाल ही का है जब अरविन्द केजरीवाल नयी दिल्ली लोकसभा सीट के लिए प्रचार कर रहे थे तभी उस भीड़ में से एक शख्स ने उनकी ओर लपक कर उन्हें एक थप्पड़ जड़ दिया जिसके बाद पुलिस ने फ़ौरन उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया जिसके बाद उस शख्स ने ये कबूल किया की वह आम आदमी पार्टी का कार्यकर्ता है जो पार्टी से नाराज़ था लेकिन केजरीवाल सरकर ने ये आरोप भी भाजपा पर लगाया

ये वाकया हाल ही का है जब अरविन्द केजरीवाल नयी दिल्ली लोकसभा सीट के लिए प्रचार कर रहे थे तभी उस भीड़ में से एक शख्स ने उनकी ओर लपक कर उन्हें एक थप्पड़ जड़ दिया जिसके बाद पुलिस ने फ़ौरन उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया जिसके बाद उस शख्स ने ये कबूल किया की वह आम आदमी पार्टी का कार्यकर्ता है जो पार्टी से नाराज़ था लेकिन केजरीवाल सरकर ने ये आरोप भी भाजपा पर लगाया

दो दिन पहले ही आम आदमी पार्टी ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके एक पर्चा मीडिया से साँझा किया जिसमें उन्होंने ये दवा किया कि इस पर्चे को भाजपा के लोकसभा प्रत्याशी गौतम गंभीर ने छपवाया है जिसमें आतिशी के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है। इस बात के बाहर आते ही गौतम गंभीर ने खुले तौर पर आप को चुनौती दे डाली की अगर वो ये साबित कर दे की इस पर्चे से उनका कोई भी सम्बन्ध है तो वो सबके सामने आत्मदाह कर लेंगे। लेकिन गौतम गंभीर की इस चुनौती का आप पार्टी के पास कोई जवाब नहीं है और न ही वो ये साबित कर पाए की ये  पर्चा गौतम गंभीर ने ही छपवाया है।

दो दिन पहले ही आम आदमी पार्टी ने एक प्रेस कांफ्रेंस करके एक पर्चा मीडिया से साँझा किया जिसमें उन्होंने ये दवा किया कि इस पर्चे को भाजपा के लोकसभा प्रत्याशी गौतम गंभीर ने छपवाया है जिसमें आतिशी के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है। इस बात के बाहर आते ही गौतम गंभीर ने खुले तौर पर आप को चुनौती दे डाली की अगर वो ये साबित कर दे की इस पर्चे से उनका कोई भी सम्बन्ध है तो वो सबके सामने आत्मदाह कर लेंगे। लेकिन गौतम गंभीर की इस चुनौती का आप पार्टी के पास कोई जवाब नहीं है और न ही वो ये साबित कर पाए की ये पर्चा गौतम गंभीर ने ही छपवाया है।

loader