जम्मू-कश्मीर में कुछ इस तरह बुजुर्ग मतदाताओं की मदद करते दिखे सुरक्षा बल

First Published 18, Apr 2019, 4:48 PM IST

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में जम्मू-कश्मीर में बूथों की सुरक्षा के लिए तैनात एसएसबी(सीमा सुरक्षा बल) के जवानों ने बुजुर्ग मतदाताओं की वोट डालने में मदद की। हम आपको दिखाएंगे डोडा सीट की तस्वीरें जहां बुजुर्गों के बीच मतदान के लिए खासा उत्साह नजर आया। 

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में जम्मू-कश्मीर के डोडा सीट पर बुजुर्गों का मतदान के लिए खासा उत्साह नजर आया।

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में जम्मू-कश्मीर के डोडा सीट पर बुजुर्गों का मतदान के लिए खासा उत्साह नजर आया।

डोडा जिलें में लगभग सभी मतदान केंद्रों पर सुबह से ही कतारें में देखने को मिले।

डोडा जिलें में लगभग सभी मतदान केंद्रों पर सुबह से ही कतारें में देखने को मिले।

लेकिन खास बात यह देखने को मिली की बुजुर्ग मतदाताओं की मदद करने के लिए एसएसबी आर्मी फोर्स वहां मौजूद थी। जो बुजुर्गों को मतदान केंद्रों तक पहुंचा रहे थे।

लेकिन खास बात यह देखने को मिली की बुजुर्ग मतदाताओं की मदद करने के लिए एसएसबी आर्मी फोर्स वहां मौजूद थी। जो बुजुर्गों को मतदान केंद्रों तक पहुंचा रहे थे।

मतदान के लिए वो बुजुर्ग भी पहुंचे जिनकी उम्र 90 साल से भी अधिक है। इनमें से तो कई चलने की हालत में भी नहीं थे।

मतदान के लिए वो बुजुर्ग भी पहुंचे जिनकी उम्र 90 साल से भी अधिक है। इनमें से तो कई चलने की हालत में भी नहीं थे।

लेकिन लोगों के बीच वोट को लेकर जागरुकता देखना काफी शानदार प्रतीत होता है। खासतौर से बुजुर्ग लोगों का उत्साह देखने लायक है।

लेकिन लोगों के बीच वोट को लेकर जागरुकता देखना काफी शानदार प्रतीत होता है। खासतौर से बुजुर्ग लोगों का उत्साह देखने लायक है।

बहुत से बुजुर्ग तो ऐसे थे जो वोट बूथ पर अपनी वील चेयर पर आए थे

बहुत से बुजुर्ग तो ऐसे थे जो वोट बूथ पर अपनी वील चेयर पर आए थे

यह हम सभी जानते हैं कि जम्मू-कश्मीर पहाड़ी इलाका है। इसलिए एसएसबी आर्मी बुजुर्गों को मुश्किल रास्तों पर से उठा कर मतदान केंद्र तक पहुंचाने में मदद कर रहे थे।

यह हम सभी जानते हैं कि जम्मू-कश्मीर पहाड़ी इलाका है। इसलिए एसएसबी आर्मी बुजुर्गों को मुश्किल रास्तों पर से उठा कर मतदान केंद्र तक पहुंचाने में मदद कर रहे थे।

गांव के लगभग सभी लोग वोट देने पहुंचे।

गांव के लगभग सभी लोग वोट देने पहुंचे।

loader