दिल्ली के बुजुर्गों के लिए मुफ्त तीर्थयात्रा योजना, ऐसे उठाइए लाभ

https://static.asianetnews.com/images/authors/bff11d14-81b3-52a9-a94b-86431321f9f4.jpg
First Published 16, Dec 2018, 12:30 PM IST
delhi govt. start new scheme for Senior Citizen who live in delhi to go free pilgrimage
Highlights

दिल्ली के 60 साल से ज्यादा उम्र के बुवजुर्गों के लिए मुफ्त तीर्थयात्रा योजना शुरू हो चुकी है। इस योजना का लाभ कैसे उठाया जाए? यह हम आपको बताएंगे। 

दिल्ली के 60 साल से ज्यादा उम्र के बुवजुर्गों के लिए मुफ्त तीर्थयात्रा योजना शुरू हो चुकी है। इस योजना का लाभ कैसे उठाया जाए? यह हम आपको बताते हैं। 

सबसे पहले बता दें इसके रजिस्ट्रेशन शुरू हो गए हैं। यात्रियों को 15 कोच वाली ट्रेन के जनरल कैटेगरी वाले डिब्बे में यात्रा करवाई जाएगी। 

इस योजना का कौन उठा सकता है लाभ? 

दिल्ली का निवासी हर वह बुजुर्ग जिसकी उम्र 60 साल या इससे ज्यादा है, वह इस योजना का लाभ उठा सकता है। सरकारी कर्मचारी इस योजना का लाभ नहीं ले सकेंगे। नागरिकों को लक्की ड्रॉ के आधार पर चुना जाएगा और उसे यात्रा पर ले जाया जाएगा।
योजना के तहत कहां घुमाया जाएगा? 

इस योजना के तहत दिल्ली सरकार पांच अलग-अलग रूटों के तीर्थ स्थलों की यात्रा करवाएगी। यह रूट दिल्ली-मथुरा-वृंदावन-आगरा-फतेहपुर सीकरी-दिल्ली, दिल्ली-हरिद्वार-ऋषिकेश-नीलकंठ-दिल्ली, दिल्ली-अजमेर-पुष्कर-दिल्ली, दिल्ली-अमृतसर-बाघा बॉर्डर-आनंदपुर साहिब-दिल्ली और दिल्ली-वैष्णो देवी-जम्मू-दिल्ली हैं। बुजुर्ग एक बार में एक रूट के तीर्थ स्थल की यात्रा कर सकेंगे। 

70 से अधिक उम्र वाले बुजुर्ग के साथ जा सकता है अन्य व्यक्ति? 

हां, 70 साल से अधिक का कोई बुजुर्ग यदि चाहे, तो मदद के लिए अपने साथ एक व्यक्ति (अटेंडेंट) को भी निशुल्क ले जा सकता है। लेकिन उस व्यक्ति की उम्र 21 साल या इससे अधिक होनी चाहिए। हालांकि अटेंडेंट का दिल्ली का नागरिक होना जरूरी नहीं है। 

यात्रा में जाने के लिए यह डॉक्युमेंट हैं जरूरी:  

1. आधार कार्ड या वोटर कार्ड: निजी जानकारी के लिए आधार कार्ड या वोटर कार्ड दोनों में से किसी एक का होना जरूरी है। अप्लाई के दौरान इन्हें अपने साथ रखें। 
2. स्वयं घोषणापत्र: इसमें बताना होगा कि आवेदक सरकारी कर्मचारी नहीं है। साथ ही, अपनी उम्र और साथ वाले अटेंडेंट की जानकारी देनी होगी। 
3. एमएलए सर्टिफिकेट: स्थानीय विधायक आवेदक की पहचान करेगा। 
4. मेडिकल सर्टिफिकेट: यह सर्टिफिकेट इसलिए जरूरी है क्योंकि इसमें बताना होगा कि यात्रा पर जाने वाले बुजुर्ग पूरी तरह से स्वस्थ है। 

कितने दिनों की होगी यात्रा? 

अमृतसर-बाघा बॉर्डर-आनंदपुर साहिब और वैष्णो देवी-जम्मू की यात्रा 5-5 दिनों की होगी। मथुरा-वृंदावन, हरिद्वार-ऋषिकेश-नीलकंठ और पुष्कर-अजमेर की यात्रा 4-4 दिनों की होगी। 

कैसे करें अप्लाई? 

इस योजना के तहत तीर्थ यात्रा पर जाने वाले बुजुर्ग को ऑनलाइन या ऑफलाइन फॉर्म भरना होगा। पहले आओ पहले पाओ के आधार पर वरिष्ठ नागरिकों का चयन इस यात्रा के लिए किया जाएगा। 
इस वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन भरें फॉर्म- 

• edistrict.delhigovt.nic.in इस वेबसाइट पर आपको रजिस्ट्रेशन कराना होगा। 
• यहां आपको ऊपर की ओर CITIZEN'S CORNER लिखा दिखेगा। इसके ठीक नीचे CITIZEN'S CORNER का विकल्प आएगा, जिसके नीचे New User और Registered Users Login का विकल्प मिलेगा। 
• यदि आप इस वेबसाइट पर रजिस्टर नहीं हैं, तो New User पर क्लिक करें। यहां आपको आधार कार्ड या वोटर आईडी कार्ड की डिटेल्स देनी होंगी। इसके बाद आप यहां रजिस्टर कर पाएंगे। 
• इस वेबसाइट पर रजिस्टर करने के बाद आपको तीर्थ यात्रा के लिए अप्लाई करना होगा। 
• ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के समय कोड के हिसाब से अप्लाई किया जा सकेगा। ऑनलाइन अप्लाई किए जाने के बाद सीट अलॉट का मेसेज आ जाएगा। सीट नंबर की जानकारी भी दी जाएगी। 
• अब आप तय तारीख पर ट्रेन पकड़िए और तीर्थ यात्रा पर निकल जाइए। 

ऑफलाइन ऐसे भरें फॉर्म 

जो खुद ऑनलाइन अप्लाई नहीं कर सकते उनके लिए स्थानीय विधायक ऑफिस, ई-डिस्ट्रिक्ट केंद्र, एसडीएम ऑफिस में भी हेल्पडेस्क होगी। वह वहां जाकर फॉर्म भरवा सकते हैं।
 

loader