मुंबई कसाब पुल हादसा: रेड सिग्नल ने दिया सैकड़ों लोगों को जीवन का ग्रीन ‘सिग्नल’

https://static.asianetnews.com/images/authors/bff11d14-81b3-52a9-a94b-86431321f9f4.jpg
First Published 15, Mar 2019, 9:03 AM IST
Traffic Red signal saved several people in Mumbai bridge collapse
Highlights

दक्षिणी मुंबई में एक रेलवे स्टेशन के पास पैदल पार पुल का बड़ा हिस्सा ढह जाने से पांच लोगों की मौत हो गई और 36 घायल हो गए। लेकिन इस हादसे वाले स्थल के पास ही एक रेड सिग्नल ने सैकड़ों लोगों की जान बचा दी।

मुंबई।

दक्षिणी मुंबई में एक रेलवे स्टेशन के पास पैदल पार पुल का बड़ा हिस्सा ढह जाने से पांच लोगों की मौत हो गई और 36 घायल हो गए। लेकिन इस हादसे वाले स्थल के पास ही एक रेड सिग्नल ने सैकड़ों लोगों की जान बचा दी। क्योंकि जब ये हादसा हुआ था उस वक्त ट्रैफिक सिग्नल रेड था, जिसके कारण लोग वहां पर रूके हुए थे, इससे उनकी जान बच गयी।

मुंबई के सीएसएमटी स्टेशन के साथ टाइम्स ऑफ इंडिया इमारत के पास वाले इलाके को जोड़ने वाले इस पुल को आम तौर पर ‘‘कसाब पुल’ के नाम से जाना जाता है क्योंकि 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के दौरान आतंकवादी इसी पुल से गुजरे थे। फिलहाल इस हादसे में घायल लोगों को निकटवर्ती अस्पतालों में ले जाया गया है। जानकारी के मुताबिक जब पुल गिरा उस वक्त पास ही की सड़क में ट्रैफिक रेड सिग्नल के कारण रूका हुआ था। जिसके कारण सैकड़ों लोगों की जान बच गयी।

एक प्रत्यक्षदर्शी का कहना है कि जब पुल ढहा तब पास के सिग्नल पर लाल बत्ती के चलते ट्रैफिक रुका हुआ था और इसी कारण से ज्यादा मौतें नहीं हुई। वहीं अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि बृहस्पतिवार सुबह पुल पर मरम्मत कार्य चल रहा था इसके बावजूद इसका इस्तेमाल किया गया। मुंबई में फुट ओवर ब्रिज का एक हिस्सा गिरने से 5 लोगों की जान चली गई और 36 लोग घायल हो गए। यह हादसा और भी भयावह हो सकता था।

अगर रेड सिग्नल न होता तो पीड़ितों की संख्या बढ़ सकती थी। ऐसे में ग्रीन सिग्नल का इंतजार करने वाले गाड़ी वालों के लिए यह लकी साबित हुआ। फिलहाल राज्य सरकार ने इस हादसे के लिए जांच के आदेश दे दिए हैं और उम्मीद की जा रही है कि बीएमसी जल्द ही कुछ अफसरों के खिलाफ कार्यवाही करेगी।
 

loader