India vs Australia : जानिए कौन रहे भारतीय जीत के हीरो!

First Published 10, Jun 2019, 11:05 AM IST

आईसीसी वर्ल्डकप के चौहदवे मैच में भारत ने शानदार जीत दर्ज की है। कल ओवल में खेले गए मुकाबले में भारत की टीम ने ना सिर्फ मैच जीता बल्कि ऑस्ट्रेलिया के लगातार चल रहे जीत के सिलसिले को भी तोड़ दिया। आपको बता दें की ऑस्ट्रेलिया ने लगातार पिछले 10 मैचों  में जीत दर्ज की थी लेकिन अफ़सोस उसका ये सिलसिला आगे ना बढ़ सका।

कल का मैच भारत के लिहाज से बेहतरीन मैच था। जिसमें उसका बोलिंग, बैटिंग और फील्डिंग सभी क्षेत्रों में प्रदर्शन शानदार रहा। कल की जीत सही मायनो में एक टीम एफर्ट था। कल के मैच में कई रिकार्ड्स टूटे और बने, जिसमें से एक रिकॉर्ड रोहित शर्मा ने अपने छक्के से तोड़ा। कल उन्होंने एकदिवसीय मैचों का अपना 355वा चक्का लगाकर धोनी और सचिन का रिकॉर्ड तोड़ दिया। वहीं कल के मैच में 352 रन अब तक का भारत का किसी भी वर्ल्ड कप में सर्वाधिक स्कोर है। वैसे तो टीम में सभी ने अपना योगदान दिया लेकिन आइये जानते है कल के मैच में कौन-कौन रहे हीरो -

शिखर धवन और रोहित शर्मा- भारत की इस ओपनिंग जोड़ी से सभी को हमेशा से उमीदे रहती हैं और यह जोड़ी भी हमेशा से उन उमीदों पर खरा उतरी हैं। किसी भी टीम के लिए उसकी जीत की बुनियाद उसके ओपनर्स होते हैं, जो कल इस जोड़ी ने फिर से साबित किया। इन दोनों ने कल के मैच में पहले विकेट के लिए 127 रन जोड़े। हालाँकि रोहित अपने चिर-परिचित तेज़ खेलने के अंदाज़ में नहीं दिखे लेकिन फिर भी उन्होंने 70 गेंदों का सामना करते हुए 3 चौकों और 1 छक्के की मद्दद से 57 रन बनाये। वहीं दूसरे सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन जो काफी समय से अपनी फॉर्म में नहीं थे, ने कल के मैच में शानदार शतक लगया 109 गेंदों का सामना करते हुए 117 रन बनाये जिसमें 16 छक्के शामिल थे।

शिखर धवन और रोहित शर्मा- भारत की इस ओपनिंग जोड़ी से सभी को हमेशा से उमीदे रहती हैं और यह जोड़ी भी हमेशा से उन उमीदों पर खरा उतरी हैं। किसी भी टीम के लिए उसकी जीत की बुनियाद उसके ओपनर्स होते हैं, जो कल इस जोड़ी ने फिर से साबित किया। इन दोनों ने कल के मैच में पहले विकेट के लिए 127 रन जोड़े। हालाँकि रोहित अपने चिर-परिचित तेज़ खेलने के अंदाज़ में नहीं दिखे लेकिन फिर भी उन्होंने 70 गेंदों का सामना करते हुए 3 चौकों और 1 छक्के की मद्दद से 57 रन बनाये। वहीं दूसरे सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन जो काफी समय से अपनी फॉर्म में नहीं थे, ने कल के मैच में शानदार शतक लगया 109 गेंदों का सामना करते हुए 117 रन बनाये जिसमें 16 छक्के शामिल थे।

विराट खोहली - जिन्होंने ना सिर्फ एक बार फिर से अच्छी कप्तानी का प्रदर्शन किया बल्कि टीम के लिए 82 रनों की मजबूत पारी खेली। उन्होंने यह रन 77 गेंदों में बनाये जिसमें 4 चौके और 2 छक्के शामिल थे। विराट कोहली ने हर बार यह साबित किया हैं की वह टीम की रीढ़ की हड्डी हैं। और उनकी मौजूदगी टीम में ऊर्जा भरती है। कल के मैच में बेशक विराट शतक से चूक गए हों लेकिन  उन्होंने एक अहम पारी खेली।

विराट खोहली - जिन्होंने ना सिर्फ एक बार फिर से अच्छी कप्तानी का प्रदर्शन किया बल्कि टीम के लिए 82 रनों की मजबूत पारी खेली। उन्होंने यह रन 77 गेंदों में बनाये जिसमें 4 चौके और 2 छक्के शामिल थे। विराट कोहली ने हर बार यह साबित किया हैं की वह टीम की रीढ़ की हड्डी हैं। और उनकी मौजूदगी टीम में ऊर्जा भरती है। कल के मैच में बेशक विराट शतक से चूक गए हों लेकिन उन्होंने एक अहम पारी खेली।

हार्दिक पंड्या और धोनी - हार्दिक पंड्या जैसे जैसे खेलते जा रहे हैं वो एक बेहतरीन आल-राउंडर बनते जा रहें हैं। कल के मैच में उन्होंने जितनी तेज़ी से रन बनाये शायद उसी की वजह से भारत 350 का आंकड़ा पार कर पाया। कल के मैच में पंड्या अपने अर्धशतक से चूक गए। उन्होंने  केवल 27 गेंदों में 48 रन बनाये जिसमें 4 चौके और 3 छक्के शामिल थे। वहीं पंड्या के आउट होते ही महेंद्र सिंह धोनी ने रनों  की गति को और तेज़ किया धोनी ने 14 गेंदों में 3 चौके और 1 चक्का लगाते हुए 27 की अहम पारी खेली। कल के मैच में अगर ये दोनों बल्लेबाज़ तेजी से रन ना बनाते तो शायद भारत 300 का आंकड़ा तो पार कर जाता लेकिन 350 का स्कोर शायद ही बना पाता।

हार्दिक पंड्या और धोनी - हार्दिक पंड्या जैसे जैसे खेलते जा रहे हैं वो एक बेहतरीन आल-राउंडर बनते जा रहें हैं। कल के मैच में उन्होंने जितनी तेज़ी से रन बनाये शायद उसी की वजह से भारत 350 का आंकड़ा पार कर पाया। कल के मैच में पंड्या अपने अर्धशतक से चूक गए। उन्होंने केवल 27 गेंदों में 48 रन बनाये जिसमें 4 चौके और 3 छक्के शामिल थे। वहीं पंड्या के आउट होते ही महेंद्र सिंह धोनी ने रनों की गति को और तेज़ किया धोनी ने 14 गेंदों में 3 चौके और 1 चक्का लगाते हुए 27 की अहम पारी खेली। कल के मैच में अगर ये दोनों बल्लेबाज़ तेजी से रन ना बनाते तो शायद भारत 300 का आंकड़ा तो पार कर जाता लेकिन 350 का स्कोर शायद ही बना पाता।

भुवनेश्वर कुमार- भारतीय बोलिंग का अहम हिस्सा। भुवनेश्वर कुमार की ख़ास बात यह हैं कि वो चाहे विकेट लें या ना लें लेकिन रनों पर अंकुश जरूर लगाते हैं। कल के मैच में सबसे बेहरतीन गेंदबाज़ी करने वाले कुमार ने 10 में सिर्फ 50 रन देकर 3 विकेट लिए। भुवनेश्वर कुमार ने किसी भी बल्लेबाज़ रन बनाने का कोई मौका नहीं दिया जिसके कारण पूरे मैच में ऑस्ट्रेलिआ के बल्लेबाज़ दबाव में रहे ।

भुवनेश्वर कुमार- भारतीय बोलिंग का अहम हिस्सा। भुवनेश्वर कुमार की ख़ास बात यह हैं कि वो चाहे विकेट लें या ना लें लेकिन रनों पर अंकुश जरूर लगाते हैं। कल के मैच में सबसे बेहरतीन गेंदबाज़ी करने वाले कुमार ने 10 में सिर्फ 50 रन देकर 3 विकेट लिए। भुवनेश्वर कुमार ने किसी भी बल्लेबाज़ रन बनाने का कोई मौका नहीं दिया जिसके कारण पूरे मैच में ऑस्ट्रेलिआ के बल्लेबाज़ दबाव में रहे ।

जसप्रीत बुमराह- को विश्व का नंबर एक बॉलर क्यों कहते हैं इसका एक उदहारण उनका कल का प्रदर्शन था। एक अच्छी बैटिंग के बाद भारत को जीत के लिए एक अच्छी गेंदबाज़ी की भी जरुरत थी। जिसे उसके गेंदबाज़ों ने चतुराई से निभाया। जसप्रीत बुमराह ने ना सिर्फ विकेट लिए बल्कि  ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों को रन बनाने का कोई मौका नहीं दिया। उन्होंने अपने 10 ओवर में 61 रन देकर 3 महत्वपूर्ण खिलाड़ियों को आउट किया।

जसप्रीत बुमराह- को विश्व का नंबर एक बॉलर क्यों कहते हैं इसका एक उदहारण उनका कल का प्रदर्शन था। एक अच्छी बैटिंग के बाद भारत को जीत के लिए एक अच्छी गेंदबाज़ी की भी जरुरत थी। जिसे उसके गेंदबाज़ों ने चतुराई से निभाया। जसप्रीत बुमराह ने ना सिर्फ विकेट लिए बल्कि ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों को रन बनाने का कोई मौका नहीं दिया। उन्होंने अपने 10 ओवर में 61 रन देकर 3 महत्वपूर्ण खिलाड़ियों को आउट किया।

loader