बलिदान बैज पाना नहीं है आसान, जानिए कैसे धोनी ने किया हासिल

First Published 8, Jun 2019, 5:05 PM IST

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) से कहा है कि महेंद्र सिंह धोनी को अपने दस्ताने पर अंकित बालिदान चिन्ह हटाना होगा। आईसीसी के इस फैसले से पूरे देश में रोष है और सोशल मीडिया पर भी लोगों ने आईसीसी के खिलाफ अपनी नाराज़गी व्यक्त की है। साथ ही साथ धोनी के प्रशंसकों ने उनका, दिल खोल के सपोर्ट किया है।  लेकिन क्या आप जानते हैं कि धोनी के दस्तानो पर जो 'बालिदान' बैज अंकित था उसका क्या मतलब होता है और भारतीय सेना के लिए वह चिन्ह कितना गौरवपूर्ण है -

सम्मान का प्रतीक-बलिदान विशेष बलों का एक विशिष्ट प्रतीक है, जो पैराशूट रेजिमेंट का एक हिस्सा है। यह भारतीय सेना में सबसे प्रतिष्ठित बैज में से एक है। केवल पैरामिलिट्री कमांडो को बैज पहनने की अनुमति है। इसमें शामिल होने के लिए भारतीय सेना में शामिल जवान पैराट्रूपर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसमें लगभग 3 महीने का ट्रेनिंग पीरियड होता है।

सम्मान का प्रतीक-बलिदान विशेष बलों का एक विशिष्ट प्रतीक है, जो पैराशूट रेजिमेंट का एक हिस्सा है। यह भारतीय सेना में सबसे प्रतिष्ठित बैज में से एक है। केवल पैरामिलिट्री कमांडो को बैज पहनने की अनुमति है। इसमें शामिल होने के लिए भारतीय सेना में शामिल जवान पैराट्रूपर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसमें लगभग 3 महीने का ट्रेनिंग पीरियड होता है।

प्रतिष्ठित चिन्ह - इसमें नीचे की ओर एक कमांडो डैगर इंगित किया गया है, जिसमें ब्लेड से ऊपर की ओर फैले हुए पंख हैं और ब्लेड पर एक स्क्रॉल लगा हुआ है जिसके साथ बालिदान को देवनागरी में अंकित किया गया है।

प्रतिष्ठित चिन्ह - इसमें नीचे की ओर एक कमांडो डैगर इंगित किया गया है, जिसमें ब्लेड से ऊपर की ओर फैले हुए पंख हैं और ब्लेड पर एक स्क्रॉल लगा हुआ है जिसके साथ बालिदान को देवनागरी में अंकित किया गया है।

आसानी से नहीं मिलता ये बैज-इस बैज को प्राप्त करने के लिए, सबसे कठिन प्रशिक्षण से गुजरना पड़ता है,जिसमें न सिर्फ  शारीरिक बल्कि मानसिक सयम का भी परीक्षण होता है। प्रशिक्षण के दौरान जवान नींद की कमी, अपमान, थकावट, मानसिक और शारीरिक तनाव से गुजरता है, और केवल कुछ जवान इस प्रशिक्षण   के अंत तक पहुँच पाते हैं जिन्हे ये बैज हासिल होता है। इसमें कई जवान रिजेक्ट हो जाते हैं बेहद ही दर्दनाक ट्रेनिंग के बाद ही जवानों को गुलाबी टोपी दी जाती है।. पैरा कमांडोज को एक परंपरा के अनुसार कांच भी खाना पड़ता है। एक परंपरा  के अनुसार टोपी मिलने के बाद उन्हें रम से भरा ग्लास दिया जाता है। जिसे पीने के बाद जवानों को दांतों से ग्लास का किनारा काटकर उसे चबाकर अंदर निगलना पड़ता है।

आसानी से नहीं मिलता ये बैज-इस बैज को प्राप्त करने के लिए, सबसे कठिन प्रशिक्षण से गुजरना पड़ता है,जिसमें न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक सयम का भी परीक्षण होता है। प्रशिक्षण के दौरान जवान नींद की कमी, अपमान, थकावट, मानसिक और शारीरिक तनाव से गुजरता है, और केवल कुछ जवान इस प्रशिक्षण के अंत तक पहुँच पाते हैं जिन्हे ये बैज हासिल होता है। इसमें कई जवान रिजेक्ट हो जाते हैं बेहद ही दर्दनाक ट्रेनिंग के बाद ही जवानों को गुलाबी टोपी दी जाती है।. पैरा कमांडोज को एक परंपरा के अनुसार कांच भी खाना पड़ता है। एक परंपरा के अनुसार टोपी मिलने के बाद उन्हें रम से भरा ग्लास दिया जाता है। जिसे पीने के बाद जवानों को दांतों से ग्लास का किनारा काटकर उसे चबाकर अंदर निगलना पड़ता है।

धोनी को यह बैज कैसे मिला-धोनी को 2011 में पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक से सम्मानित किया गया। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि उन्होंने 2015 में पैरा ब्रिगेड प्रशिक्षण में भी हिस्सा लिया था। बहस के बीच, धोनी समर्थकों और क्रिकेट प्रेमियों ने सशस्त्र बलों के साथ पूर्व कप्तान और एकजुटता के लिए अपना प्यार दिखाना जारी रखा है।

धोनी को यह बैज कैसे मिला-धोनी को 2011 में पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल की मानद रैंक से सम्मानित किया गया। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि उन्होंने 2015 में पैरा ब्रिगेड प्रशिक्षण में भी हिस्सा लिया था। बहस के बीच, धोनी समर्थकों और क्रिकेट प्रेमियों ने सशस्त्र बलों के साथ पूर्व कप्तान और एकजुटता के लिए अपना प्यार दिखाना जारी रखा है।

loader