कश्मीर में मानवाधिकार की रिपोर्ट पर भारत ने संयुक्त राष्ट्र को दिखाया आईना

First Published 3, Nov 2018, 10:28 PM IST
India expresses concern over politicisation of human rights  as foreign policy tool
Highlights

विदेश नीति के हथियार के रूप में मानवाधिकारों के राजनीतिकरण पर चिंता जताते हुए भारत ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का काम अधिक विवादास्पद और कठिन होता जा रहा है। 

कश्मीर को लेकर संयुक्त राष्ट्र की एक कथित रिपोर्ट पर भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद को आईना दिखाया है। भारत ने विदेश नीति के हथियार के रूप में मानवाधिकारों के राजनीतिकरण पर चिंता जताई है। साथ ही अफसोस जताते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का काम अधिक विवादास्पद और कठिन होता जा रहा है। इस साल जून में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त रहे  जैद राद अल हुसैन की रिपोर्ट में कश्मीर में कथित मानवाधिकार के हालात की जांच के लिए स्वतंत्र अंतरराष्ट्रीय जांच की मांग की गई थी। भारत ने इस रिपोर्ट को उस समय भी खारिज कर दिया था।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी उप प्रतिनिधि तन्मय लाल ने कहा कि प्रस्तावों और निर्णयों की बढ़ती संख्या, बैठकों और विशेष सत्रों के बढ़ते सिलसिले से मानवाधिकार परिषद का विस्तार होता जा रहा है लेकिन अकसर यह साफ नहीं होता कि इसका काम कितना प्रभावी है। 

इस रिपोर्ट पर संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में लाल ने कहा,‘हालांकि मानवाधिकार संधियों और कन्वेंशनों का एक बहुत ही व्यापक मानदंड खाका विकसित हुआ है...लेकिन अफसोसनाक है कि मानवाधिकार परिषद का काम और इसकी संबंधित प्रक्रियाएं अधिक विवादास्पद और मुश्किल होती जा रही हैं। उन्होंने कहा,‘मानवाधिकार एजेंडे पर विचार-विमर्श से जुड़ी कई कठिनाइयों के कारणों को खोजना मुश्किल नहीं है। आमतौर पर विकास, सामाजिक तथा सांस्कृतिक संदर्भों और प्रशासन प्रणालियों के अपने स्तर पर कई अलग-अलग प्राथमिकताओं और सदस्य देशों की चिंताओं के रूप में सामने आते है।’लाल ने कहा कि मानवाधिकार परिषद के काम का विस्तार जारी है लेकिन इसके काम की प्रभावशीलता हमेशा स्पष्ट नहीं होती है। 

आतंकवाद मानवाधिकारों का सबसे गंभीर उल्लंघन

आतंकवाद को मानवाधिकारों के उल्लंघन के खराब रूपों में से एक बताते हुए लाल ने कहा कि भारत को निर्दोष लोगों पर अपनी सीमाओं के पार से कई आतंकवादी हमलों का सामना करना पड़ा है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद को सबसे बड़ी वैश्विक चुनौतियों में से एक माना जाता है, इस खतरे का समाधान करने के लिए किसी भी सार्थक सामूहिक प्रतिक्रिया को कुछ लोगों द्वारा विफल किया जा रहा है। (इनपुट भाषा से)

loader