दुनिया भर में घूम-घूमकर 'भीख मांग' रहे इमरान खान?

https://static.asianetnews.com/images/authors/bff11d14-81b3-52a9-a94b-86431321f9f4.jpg
First Published 8, Jan 2019, 4:41 PM IST
Pakistan's Sindh Chief Minister Murad Ali Shah claim Imran Khan 'begging'for funds worldwide
Highlights

पाकिस्तान अपनी दरक चुकी अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष से भी 8 अरब अमेरिकी डॉलर की कर्ज सहायता के लिए बातचीत कर रहा है।

पाकिस्तान के सिंध प्रांत के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान वित्तीय संकट से जूझ रहे देश के लिए दुनियाभर में घूमकर आर्थिक मदद की भीख मांग रहे हैं। बदीन के मातली में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेता शाह ने कहा कि इमरान खान भीख मांगने (वित्तीय मदद) के लिए एक देश से दूसरे देश जा रहे हैं। समा टीवी की रिपोर्ट के अनुसार, मुराद शाह ने कहा कि जिन्हें राजनीति का कोई अनुभव नहीं है, उन्हें सरकार में शामिल किया गया है। 

पाकिस्तान अपनी दरक चुकी अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष से भी 8 अरब अमेरिकी डॉलर की कर्ज सहायता के लिए बातचीत कर रहा है। इससे पहले, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने पांच जनवरी को पाकिस्तान को उसके भुगतान संतुलन की चुनौती का हल निकालने में मदद के लिए 6.2 अरब डॉलर का पैकेज देने का फैसला किया है।

डॉन अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, पैकेज में 3.2 अरब डॉलर मूल्य के तेल की आपूर्ति के लिए भुगतान को बाद में करने की सुविधा और तीन अरब डॉलर नकदी शामिल हैं। मुराद अली शाह ने दावा किया है कि यूएई के सहायता पैकेज की शर्तें सऊदी अरब से प्राप्त पैकेज की शर्तों जैसी ही हैं। 

यूएई अपने सहायता पैकेज में पाकिस्तान को 3 अरब अमेरिकी डॉलर की नकद जमा देने के साथ साथ 3.2 अरब अमेरिकी डालर के तेल की आपूर्ति उधार पर करने सुविधा दे सकता है। पाकिस्तान के डॉन अखबार ने देश के एक केंद्रीय मंत्री के हवाले से यह खबर दी है.

बहरहाल, पाकिस्तान को चीन से भी आर्थिक मदद मिल रही है। हालांकि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पाकिस्तान को कितनी वित्तीय मदद दी है, इसे  सार्वजनिक नहीं किया गया है। हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि पाकिस्तान को फिलहाल दो अरब अमेरिकी डॉलर की मदद मिली है।

जानकारों के अनुसार, पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष से जिस कर्ज का अनुरोध कर रहा है उसके लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इमरान खान से यह आश्वासन चाहते हैं कि इसका इस्तेमाल चीन का कर्ज को चुकाने में न हो। यह माना जा रहा है कि चीन की ओर से अधिक दरों पर दिए गए कर्ज की बदौलत ही पाकिस्तान वित्तीय संकट में फंसा है। 

loader