अचानक इराक पहुंचे ट्रंप बोले, दुनिया की रखवाली का ठेका नहीं ले सकता अमेरिका

https://static.asianetnews.com/images/authors/bff11d14-81b3-52a9-a94b-86431321f9f4.jpg
First Published 27, Dec 2018, 9:31 AM IST
President Donald Trump defends Syria pullout, says US cannot be the world's policeman
Highlights

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, अगर अमेरिका पर कोई और आतंकवादी हमला हुआ तो इसका ‘करारा जवाब’ दिया जाएगा। अगर कुछ भी होता है तो जिम्मेदार लोगों को ऐसे परिणाम भुगतने पड़ेंगे जो कभी किसी ने नहीं भुगते होंगे। 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उनका देश दुनिया की रखवाली का ठेका नहीं ले सकता। उन्होंने दूसरे देशों से भी जिम्मेदारियां बांटने के लिए कहा है। इराक में तैनात अमेरिकी सैनिकों से अचानक मिलने पहुंचे ट्रंप ने युद्धग्रस्त सीरिया से सैनिकों को वापस बुलाने के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि इसमें कोई देरी नहीं होगी।

अमेरिकी सैनिकों को संबोधित करने के बाद ट्रंप ने बगदाद के पश्चिम में स्थित एयरबेस पर पत्रकारों से कहा, ‘अमेरिका लगातार दुनिया की रखवाली का ठेका नहीं ले सकता।’ यह अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर ट्रंप की पहली इराक यात्रा थी। वह प्रथम महिला मेलानिया के साथ इराक के औचक दौरे पर पहुंचे।

ट्रंप ने कहा कि अगर अमेरिका पर कोई और आतंकवादी हमला हुआ तो इसका ‘करारा जवाब’ दिया जाएगा। उन्होंने सैनिकों से कहा, ‘अगर कुछ भी होता है तो जिम्मेदार लोगों को ऐसे परिणाम भुगतने पड़ेंगे जो कभी किसी ने नहीं भुगते होंगे।’  उन्होंने सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुलाने और बाकी क्षेत्रीय देशों खासकर तुर्की पर आईएस के खिलाफ काम पूरा करने की जिम्मेदारी छोड़ने के फैसले का बचाव करते हुए कहा, ‘यह ठीक नहीं है कि सारा बोझ हम पर डाल दिया जाए।’ ट्रंप ने गत सप्ताह विश्व और अपने देश को हैरत में डालते हुए अचानक घोषणा की थी कि अमेरिका, सीरिया से अपने सैनिकों को वापस बुला रहा है। उन्होंने दलील दी कि अब सीरिया में अमेरिका की जरूरत नहीं है क्योंकि आईएस को हरा दिया गया है। 

ट्रंप ने अपने साथ यात्रा कर रहे पत्रकारों से कहा, ‘मैं यहां मौजूद हमारे महान सैनिकों को नमन करना चाहता हूं।’ ट्रंप द्वारा इराक और सीरिया में युद्ध अभियान में लगे अमेरिका के विशेष अभियान बलों के 100 सैनिकों के समूह को संबोधित किए जाने के बाद इराक की उनकी यात्रा के बारे में जानकारी सार्वजनिक की गई। यह पूछे जाने पर कि वह इराक क्यों आना चाहते थे, इस पर ट्रंप ने एयरबेस पर सैन्य अधिकारियों के साथ मुलाकात से पहले कहा, ‘यह ऐसा स्थान है जिसके बारे में कई वर्षों से बात कर रहा हूं। मैं एक असैन्य नागरिक के तौर पर इसके बारे में बात कर रहा हूं।’ 

सवालों का जवाब देते हुए ट्रंप ने कहा कि इराक आने को लेकर उनकी कुछ चिंताएं थीं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘निश्चित तौर पर जब मैंने सुना कि आपको किन परिस्थितियों से गुजरना पड़ा? आप देखोगे कि हमें अंधेरे विमान में सभी खिड़कियों को बंद कर और अंधेरे में किस परिस्थिति से गुजरना पड़ा।’ एयरबेस के भोजनालय में पहुंचने के बाद ट्रंप और मेलानिया 15 मिनट तक लोगों के बीच रहे। ट्रंप बात करने के लिए रुके और वहां मौजूद लोगों की ‘मेक अमेरिका ग्रेट अगेन’ लिखी टोपियों पर हस्ताक्षर किए। एक जगह उन्होंने एक बैज पर हस्ताक्षर किए जिस पर ‘ट्रंप 2020’ लिखा था।

वर्दी पर सिंगर नाम लिखे एक व्यक्ति ने ट्रंप से हाथ मिलाया। ट्रंप ने पत्रकारों से कहा, ‘वह मेरी वजह से वापस सेना में आया।’ ट्रंप ने व्यक्ति की ओर देखते हुए कहा, ‘और मैं आपकी वजह से यहां आया हूं।’ ट्रंप ने सैनिकों के साथ तस्वीरें और सेल्फी भी खिंचवाईं। मेलानिया ने सैनिकों तथा उनके परिवारों को छुट्टियों और नववर्ष की बधाई दी।
 

loader