Moon  

(Search results - 24)
  • Today, the whole of Europe and America is nervous, fear of Friday the Thirtieth may cause a loss of 900 million

    World13, Sep 2019, 4:05 PM IST

    आज 13 सितंबर को खौफ में है पूरा यूरोप और अमेरिका, जानिए क्या है इसकी वजह

    आज 13 सितंबर है और शुक्रवार का दिन है। आज 13 साल बाद चंद्रमा का ऐसा संयोग बन रहा है जिसे यूरोप में बेहद डरावना माना जाता है। इसे काली ताकतों को आकर्षित करने वाला दिन माना जाता है। इसकी वजह से यूरोप और अमेरिका में लोग बेहद डरे हुए हैं।  खास बात यह है कि भारतीय मान्यताओं के मुताबिक भी आज की पूर्णिमा के बाद से पितृपक्ष शुरु हो जाएगा। जिसमें माना जाता है कि पूर्वजों की आत्माएं धरती पर उतरती हैं।  
     

  • Chandrayaan 2

    Nation8, Sep 2019, 9:09 PM IST

    आखिरी 15 मिनटों में चंद्रयान के साथ क्या हुआ था, जानिए तस्वीरों की जुबानी

    जिस समय चंद्रयान 2 से अलग होकर विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह की ओर बढ़ रहा था। वह आखिरी 15 मिनट इसरो सहित पूरे देश के लिए बेहद अहम थे। विक्रम के इन्हीं 15 मिनटों को इसरो ने दहशत का समय बताया था। आईए आपको दिखाते हैं कि इन आखिरी 15 मिनटों में आखिर हुआ क्या था। 
     

  • Nation7, Sep 2019, 2:36 PM IST

    चांद पर पहुंचकर रहेगा भारत, मुंबई में पीएम मोदी ने किया ऐलान

    भारत के  कदम चांद तक पहुंचकर रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुंबई में ऐलान किया है कि इसरो को छोटी असफलताओं से घबराना नहीं चाहिए। देश को हमारे वैज्ञानिकों पर गर्व है और हमें उम्मीद है कि हम चांद पर जरूर पहुंचेंगे।
     

  • isro

    News7, Sep 2019, 10:26 AM IST

    जब रो पड़े इसरो चीफ तो पीएम मोदी ने लगाया गले और हुए भावुक

    पीएम मोदी ने कहा कि आप अपने आप में प्रेरणा के सागर हैं और आने वाले दिनों में इसरो नए मिशन शुरू करेगा और इसके जरिए वह नए मुकाम हासिल करेगा। उन्होंने कहा कि मुझे और पूरे देश को वैज्ञानिकों और इंजीनियरों पर पूरा गर्व है क्योंकि हम लोग मक्खन पर लकीर नहीं बल्कि पत्थर पर लकीर खींच रहे हैं। इसके बाद पीएम मोदी ने भारत माता की जय के उद्घोष के साथ अपना भाषण खत्म किया।  इसके बाद पीएम मोदी ने इस मिशन से जुड़े वहां पर मौजूद सभी वैज्ञानिकों से मुलाकात की और उनका हौसला बढ़ाया।

  • Chandrayaan-2

    Nation7, Sep 2019, 8:43 AM IST

    मिशन चंद्रयान में आई बाधा, लेकिन टूटे नहीं है हौसले

    भारत का मिशन चंद्रयान अपनी मंजिल पर पहुंचने के ठीक पहले तकनीकी बाधा का शिकार हो गया। चांद पर उतरने से ठीक पहले कंट्रोल रुम से विक्रम लैंडर का संपर्क टूट गया। यह हादसा चांद की सतह से मात्र 2.1 किलोमीटर पहले हुआ। लेकिन ऐसा नहीं कि भारत का पूरा मून मिशन समाप्त हो गया है। 
     

  • News6, Sep 2019, 12:28 PM IST

    अंतरिक्ष में इतिहास रचेगा भारत, चांद में कदम रखने से बस एक दिन दूर

    अभी तक चांद पर भेजे गए मिशन में सॉफ्ट लैंडिंग के चांस केवल 37 फ़ीसदी ही सफल हुए हैं। लेकिन इसके बावजूद इसरो के वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि ये मिशन पूरी तरह से सफल होगा और नया इतिहास रचेगा।  रूस, अमेरिका और चीन के बाद भारत चंद्रमा में सॉफ्ट लैंडिंग कराने वाला चौथा देश बन जाएगा जबकि दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में उतरने वाला दुनिया का पहला देश बन जाएगा।

  • ISRO Chandrayaan 2

    Nation2, Sep 2019, 3:23 PM IST

    'मायके से ससुराल' रवाना हुए चंद्रयान-2 से अलग हुआ विक्रम लैंडर

    भारत के चंद्र अभियान के लिए आज का दिन बेहद अहम रहा। इसरो की तरफ से चंद्रमा पर भेजे गए चंद्रयान-2 से उसका लैंडर विक्रम सफलतापूर्वक अलग हो गया। यह सफलता पहले से तय समय पर सोमवार की दोपहर 1.35 बजे मिली। 
     

  • चंद्रयान-2 को भारत के सबसे ताकतवर जीएसएलवी मार्क-III रॉकेट से लॉन्च किया गया

    Nation20, Aug 2019, 6:33 PM IST

    नया इतिहास रच रहा है चंद्रयान-2

    भारत का चंद्रयान -2 चांद की कक्षा में पहुंच चुका है। आईए देखते हैं कि भारत के इस महत्वाकांक्षी मून मिशन की आगे की योजना क्या है।  
     

  • Chandrayaan 2

    News20, Aug 2019, 12:12 PM IST

    चंद्रयान-2 के लिए अब दूर नहीं ‘चंदामामा’, मुश्किल बाधा पार कर चांद की कक्षा में किया प्रवेश

    जानकारी के मुताबिक चंद्रयान 2 लगभग 30 दिनों की अंतरिक्ष यात्रा के बाद आज लक्ष्य के करीब पंहुच गया है। इसरो के वैज्ञानिकों के मुताबिक  आज अंतरिक्ष यान को चंद्र की कक्षा में पहुंचाने के अभियान को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है क्योंकि ये सबसे चुनौतीपूर्ण अभियानों में से एक था। वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि उपग्रह चंद्रमा से उच्च गति वाले वेग से पहुंचता तो वह इसे उछाल देता।

  • चंद्रयान -2 मिशन सफलतापूर्वक लांच

    Nation16, Aug 2019, 4:41 PM IST

    चांद से चंद कदमों की दूरी पर ही रह गया है हमारा चंद्रयान-2

    भारत का चंद्रयान-2 अब चांद की कक्षा से थोड़ी ही दूरी पर रह गया है। बुधवार को इसे चंद्रमा के परिपथ(ल्यूनर ट्रांसफर ट्रांजेक्टरी) पर डाल दिया गया है। अगले चार दिनों में यह चांद की कक्षा में प्रवेश कर जाएगा। 
     

  • moon mission

    Nation12, Aug 2019, 7:14 PM IST

    चंद्रयान-2 तेजी से बढ़ रहा है अपने लक्ष्य की तरफ, 20 अगस्त को पहुंच जाएगा चांद के पास

    इसरो द्वारा चंद्रमा के अध्ययन के लिए भेजा गया चंद्रयान-2 तेजी से अपने काम को पूरा कर रहा है। आज से दो दिन बाद यानी 14 अगस्त को यह धरती की कक्षा को छोड़ देगा और 20 अगस्त को चांद की कक्षा में प्रवेश कर लेगा। 
     

  • 15 जुलाई की रात 2.51 पर चंद्रयान 2 को लॉन्च किया जाना था लेकिन तकनीकि गड़बड़ी के चलते मिशन लॉन्च नहीं किया गया।

    News28, Jul 2019, 3:50 PM IST

    ईंधन की गणना के आधार पर चंद्रयान-2 से इसरो को मिली अच्छी खबर

    चंद्रयान के साथ गए ऑर्बिटर से जुड़ी अच्छी खबर है। अब इसका जीवन काल एक साल ज्यादा होगा। पहले इसकी जीवन अवधि मात्र एक वर्ष मानी जा रही थी। लेकिन अब अनुमान लगाया जा रहा है कि यह दो वर्षों तक चंद्रमा का चक्कर लगा पाएगा। 
     

  • chandrayan kashi youth

    News22, Jul 2019, 8:10 PM IST

    भगवान विश्वनाथ की नगरी में चंद्रयान की दीवानगी

    उत्तर प्रदेश के वाराणसी में चंद्रयान लांचिंग को लेकर युवाओं ने बहुत दीवानगी दिखाई दी। उन्होंने हेयर कटिंग करके सिर पर जीएसएलवी मार्क थ्री का लोगो बनवाया। वहीं युवतियों ने चेहरे टैटू बनवा चन्द्रयान 2 लिखवाया। 
     

  • चंद्रयान -2 मिशन सफलतापूर्वक लांच

    News22, Jul 2019, 4:33 PM IST

    भारत का चंद्रयान-2 हुआ रवाना, लाइव वीडियो में देखिए सफलता की कहानी

    भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी इसरो ने काफी मेहनत के बाद चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण कर ही दिया। इसे सोमवार की दोपहर 2.43 बजे प्रक्षेपित किया गया। लांच के 15 मिनट बाद चंद्रयान-2 रॉकेट से अलग होकर सफलतापूर्वक अपनी मंजिल की ओर रवाना हो चुका है। 

  • Chandrayan _2_before_launch

    News18, Jul 2019, 8:06 PM IST

    चंद्रयान-2 का इंतजार खत्म, सोमवार को होगा प्रक्षेपण

    पिछले सोमवार यानी 15 जुलाई को जिस चंद्रयान की लांचिंग टल गई थी, उसकी लांचिंग अब अगले सोमवार यानी 22 जुलाई को होगी। पिछली बार यान को ले जाने वाले रॉकेट में तकनीकी खामी पाई गई थी। जिसे एक हफ्ते के समय में दुरुस्त कर लिया गया है। चंद्रयान से संबंधित हर छोटी बड़ी जानकारी के लिए नीचे पढ़ें-